होम /न्यूज /व्यवसाय /ONGC OFS: ओएनजीसी के ओएफएस को अच्छा रिस्पॉन्स, संस्थागत निवेशकों का हिस्सा ओवर सब्सक्राइब

ONGC OFS: ओएनजीसी के ओएफएस को अच्छा रिस्पॉन्स, संस्थागत निवेशकों का हिस्सा ओवर सब्सक्राइब

डोमेस्टिक नेचुरल गैस की कीमतों में वृद्धि से गैस उत्पादक कंपनियों की आय बढ़ने की उम्मीद है

डोमेस्टिक नेचुरल गैस की कीमतों में वृद्धि से गैस उत्पादक कंपनियों की आय बढ़ने की उम्मीद है

ONGC OFS : सरकार देश की शीर्ष तेल एवं गैस उत्पादक कंपनी में अपनी 1.5 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच रही है. पहले ही दिन संस्थाग ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली . सार्वजनिक क्षेत्र की ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉरपोरेशन (ओएनजीसी) के ओएफएस (ONGC OFS) को निवेशकों का अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है. आज बुधवार को यह ऑफर फॉर सेल ( OFS) ओपन हुआ. पहले ही दिन संस्थागत निवेशकों का हिस्सा ओवर सब्सक्राइब हो गया. इस हिस्से में निवेशकों ने कुल 4,854 करोड़ रुपये की बोलियां लगाईं. सरकार ओएनजीसी में 1.5 प्रतिशत हिस्सेदारी बिक्री के लिए बिक्री पेशकश (ओएफएस) लेकर आई है.

सरकार देश की शीर्ष तेल एवं गैस उत्पादक कंपनी में अपनी 1.5 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच रही है. ओएफएस में शेयर का न्यूनतम मूल्य 159 रुपये प्रति शेयर रखा गया है. सरकार की ओएफएस से 3,000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है.

यह भी पढ़ें- Hariom Pipe IPO : पहले दिन 50 फीसदी भरा, क्‍या आपको करना चाहिए निवेश? जानिए बाजार पंडितों की राय

3.57 गुना सब्सक्रिप्शन
संस्थागत निवेशक श्रेणी में 3.57 गुना सब्सक्रिप्शन मिला. इस खंड में निवेशकों ने 30.35 करोड़ शेयरों के लिए बोलियां लगाईं. उनके लिए 8.49 करोड़ शेयर आरक्षित हैं. संस्थागत निवेशकों की बोलियां 159.91 रुपये प्रति शेयर के सांकेतिक मूल्य पर 4,854 करोड़ रुपये बैठती हैं.

निवेश एवं लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने ट्वीट किया कि ओएनजीसी के ओएफएस को गैर-खुदरा निवेशकों से काफी उत्साहवर्द्धक प्रतिक्रिया मिली है. उन्होंने कहा, ‘‘इस इश्यू को 3.57 गुना अभिदान मिला. सरकार ने ग्रीन-शू विकल्प का इस्तेमाल करने का फैसला किया है.’’

रिटेल निवेशकों के लिए गुरुवार को ओपन होगा
खुदरा निवेशकों के लिए यह ओएफएस गुरुवार को खुलेगा. आम निवेशक इसमें अपना पैसा लगा सकते हैं. ओएफएस में शेयर का न्यूनतम मूल्य 159 रुपये प्रति शेयर कई एक्सपर्ट को आकर्षक लग रहा है.

यह भी पढ़ें- Uma Exports IPO: अंतिम दिन ओवर-सब्सक्राइब हुआ इश्यू, जानिए अलॉटमेंट और लिस्टिंग की तारीख

CAG ने गुरुवार को संसद में पेश अपनी रिपोर्ट में कहा है कि कंपनी ने कुओं से तेल निकालने के लिए पानी डाला था. मुंबई तट से दूर ONGC के पुराने तेल के कुओं से अब प्रोडक्शन कम हो गया है. इनमें मुंबई हाई, नीलम और हीरा फील्ड्स शामिल हैं. इन कुंओं से बाकी तेल निकालने के लिए पानी डालना पड़ता है.

फिस्कल ईयर 2022 का विनिवेश का लक्ष्य 1.75 लाख करोड़ रुपए है. जनवरी 2022 तक केंद्र सरकार ने शेयर बेचकर और डिविडेंड के जरिए 45,485.87 करोड़ रुपए जुटा लिए हैं. हालांकि 2022 के बजट में फाइनेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण ने इस टारगेट को घटाकर 78,000 करोड़ रुपए कर दिया था. इसी साल एलआईसी का आईपीओ भी आने वाला है.

Tags: IPO, ONGC, Share allotment, Stock Markets, Stock tips

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें