प्याज निर्यात पर रोक: बांग्लादेश में फिर से शुरू हो सकती है सप्लाई, तैयारी में सरकार

भारत द्वारा निर्यात पर प्रतिबंध के बाद बांग्लादेश में प्याज महंगा हो गया है.
भारत द्वारा निर्यात पर प्रतिबंध के बाद बांग्लादेश में प्याज महंगा हो गया है.

प्याज के निर्यात पर बैन के एक सप्ताह बाद अब बांग्लादेश में फिर से सप्लाई शुरू की जा सकती है. बांग्लादेश में प्याज का भाव तेजी से बढ़ रहा है. हालांकि, निर्यात पर रोक वापस लेने के लिए सरकार ने अंतिम फैसला नहीं लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 10:54 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले सप्ताह प्याज की कीमतों (Onion Price) में इजाफा होने के बाद केंद्र सरकार ने इसके निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था. लेकिन, अब कुछ पड़ोसी देशों में इसकी सप्लाई एक बार फिर शुरू हो सकती है. इसमें बांग्लादेश का भी नाम शामिल है. सरकार ने इस पर अभी कोई अंतिम फैसला नहीं लिया है, लेकिन इसके लिए बातचीत का दौर शुरू हो गया है. इस मामले से जुड़े लोगों के हवाले से एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है.

भारत से निर्यात बैन के बाद बांग्लादेश में बढ़ी कीमतें
बांग्लादेश में प्याज की खपत ज्यादा होती है. भारत से बड़े स्तर पर प्याज का निर्यात होता है. बांग्लादेश हर साल भारत से करीब 3.50 लाख टन प्याज का आयात करता है. सरकार द्वारा प्याज निर्यात (Onion Export in Bangladesh) पर बैन के बाद ही बांग्लादेश के ढाका में कीमतें प्रति किलो 90-100 टका तक पहुंच गया है. इसके ठीक एक दिन पहले यहां प्याज की कीमतें 50 टका पर था.

यह भी पढ़ें: 1 अक्टूबर से इस तरह के लेनदेन पर देना होगा टैक्स, लागू हो रहा नया नियम
बारिश बारिश ने कम की प्याज की आवक


मालूम हो कि इस साल प्याज उत्पादक राज्यों में अत्यधिक बारिश की वजह से फसल पर असर पड़ा है. इसके बाद घरेलू बाजार में कीमतों में तेजी देखने को मिली. आवक की कमी के बाद सरकार ने बीते 14 सितंबर को प्याज के निर्यात पर बैन लगा दिया था ताकि घरेलू बाजार में कीमतें काबू में आ सके.

भारत के प्याज एशियाई देश निर्भर
दुनियाभर में प्याज की सबसे ज्यादा खेती भारत में ही की जाती है. दक्षिण एशियाई खानों में प्याज का सबसे ज्यादा इस्तेमाल भी होता है. यही कारण है कि बांग्लादेश, नेपाल, मलेशिया और श्रीलंका जैसे देश भारतीय प्याज पर ही निर्भर रहते हैं. एक महीने के अंदर ही महाराष्ट्र के लासलगांव में प्याज का थोक भाव 30,000 रुपये प्रति टन पहुंच गया है. लासलगांव देश की सबसे बड़ी प्याज मंडी है.

यह भी पढ़ें: किसान आंदोलन के बीच पढ़िए कांट्रैक्ट फार्मिंग की सक्सेज स्टोरी, यहां इसी मॉडल पर 19 साल से हो रही है खेती!

प्याज का उत्पादन मुख्यत: छह राज्यों में होता है. 50 फीसदी प्याज भारत की 10 मंडियों से ही आता है. इनमें से छह महाराष्ट्र और कर्नाटक में हैं. इसका मतलब हुआ कि कुछ सौ व्यापारियों के हाथ में 50 फीसदी प्याज की कीमतें रहती हैं. ये व्यापारी अपने तरीकों से प्याज की कीमतों को प्रभावित कर सकते हैं. साथ ही प्याज का कोई न्यूनतम समर्थन मूल्य तय नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज