लाइव टीवी

'प्याज की कीमतें तय करेंगी ब्याज दर में कटौती का फैसला'

भाषा
Updated: December 10, 2019, 8:56 PM IST
'प्याज की कीमतें तय करेंगी ब्याज दर में कटौती का फैसला'
प्याज की कीमतों में घट-बढ़ तय करेगी नीतिगत ब्याज दर में कटौती की राह

बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज (Bank of America Securities) के अर्थशास्त्रियों ने एक नोट में कहा, हम निवेशकों को सलाह दे रहे हैं कि आरबीआई (RBI) की ओर से नीतिगत दर में अगली कटौती के लिए प्याज की कीमतों पर नजर रखें.

  • Share this:
मुंबई. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने नीतिगत ब्याज दर को पूर्वस्तर पर रखकर बाजार को हैरत में डाल दिया है. एक अमेरिकी ब्रोक्ररेज फर्म ने कहा कि नीतिगत दर में अगली कटौती में प्याज (Onion) की बहुत अधिक भूमिका होगी. प्याज के दाम पिछले कुछ हफ्तों से आसमान छू रहे हैं और कुछ बाजार में यह 200 रुपये प्रति किलो से ऊपर चला गया है. प्याज को राजनीतिक रूप से बहुत ही संवेदनशील माना जाता है.

बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटीज के अर्थशास्त्रियों ने एक नोट में मंगलवार को कहा, हम निवेशकों को सलाह दे रहे हैं कि आरबीआई की ओर से नीतिगत दर में अगली कटौती के लिए प्याज की कीमतों पर नजर रखें.

ये भी पढ़ें: 160 रुपये प्रति किलोग्राम हुई प्याज की कीमत! जानिए आपके शहर में क्या है भाव

दिसंबर में प्याज के दाम 371 प्रतिशत बढ़ा

इसमें कहा गया है कि दिसंबर में प्याज के दाम में सालाना आधार पर 371 प्रतिशत का उछाल आया है. नवंबर में यह 177 प्रतिशत था. अगर प्याज दिसंबर में 60 रुपये किलो और जनवरी में 40 रुपये हो जाता है तो मुद्रास्फीति दिसंबर में 5.9 प्रतिशत और जनवरी में गिरकर 5.4 प्रतिशत पर आ जानी चाहिए , लेकिन यदि आयातित प्याज की आवक होने से जनवरी में प्याज 60 रुपये पर रहती है तो इस महीने मुद्रास्फीति 6.1 प्रतिशत पर रह सकती है.

हालांकि, नोट में कहा गया है कि यह फरवरी में होने वाली मौद्रिक नीति बैठक में नीतिगत दर में कटौती के लिए आधार होगा.

RBI ने ब्याज दरों में नहीं की कोई कटौतीबता दें कि RBI ने 5 दिसंबर को मौद्रिक नीति समिति (MPC) की समीक्षा बैठक में रेपो रेट (Repo Rate) में कोई बदलाव नहीं किया है. रेपो दर 5.15 फीसदी पर बरकरार रहेगा.

ये भी पढ़ें: बड़ी खबर! 1 फरवरी से महंगा हो सकता है ट्रेन का सफर, 20 फीसदी तक बढ़ सकता है किराया

प्याज के भाव ने RBI की बढ़ाई टेंशन
बढ़ती महंगाई से मार्च 2020 तक राहत मिलने की उम्मीद नहीं है. RBI ने गुरुवार को अपनी मौद्रिक नीति बैठक में चालू वित्‍त वर्ष की दूसरी छमाही के लिए खुदरा महंगाई दर का अनुमान बढ़ाकर 4.75-5.1 फीसदी कर दिया था. मुख्य रूप से प्याज और टमाटर जैसी सब्जियों की कीमतों में उछाल को देखते हुये केंद्रीय बैंक ने मुद्रास्फीति का अनुमान बढ़ाया है. इसका मतलब होली तक लोगों को महंगाई से राहत नहीं मिलेगी.

ये भी पढ़ें: 2000 रुपये का नोट बंद करने को लेकर सरकार ने संसद में दिया बड़ा बयान!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 8:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर