लाइव टीवी

2 करोड़ लोगों का रद्द हो सकता है IT रिटर्न, जानिए पूरा मामला

News18Hindi
Updated: September 3, 2019, 8:21 PM IST
2 करोड़ लोगों का रद्द हो सकता है IT रिटर्न, जानिए पूरा मामला
रिटर्न भरने के बाद 2 करोड़ लोगों ने किया ITR वैरिफाई

2 करोड़ से अधिक इनकम टैक्स रिटर्न भरने वालों ने ITR वेरीफाई नहीं किया है. बिना वेरिफिकेशन इनकम टैक्स डिपार्टमेंट यह मानता है कि आपने ITR फाइल ही नहीं किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2019, 8:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) को असेस्टमेंट ईयर 2019-20 के लिए 31 अगस्त तक 5.65 करोड़ इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) प्राप्त हुए. इनमें से सिर्फ 3.61 करोड़ ITR ही वेरीफाई हुए हैं. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट से मिली जानकारी के मुताबिक, अभी 2 करोड़ से अधिक इनकम टैक्स रिटर्न भरने वालों ने ITR वेरीफाई नहीं किया है.

आपको बता दें कि बिना वेरिफिकेशन के ITR दाखिल करने की प्रक्रिया अधूरी है. ऐसे में आपका रिटर्न अधूरा माना जाएगा. अगर आपके आईटीआर फाइल कर दिया है, लेकिन अगले 120 दिन में उसका वेरिफिकेशन नहीं किया तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट यह मानता है कि आपने ITR फाइल ही नहीं किया है. इस स्थिति में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आपको नोटिस जारी कर सकता है. वेरिफिकेशन के बाद ही इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आपके ITR को प्रोसेस करता है. अगर आपने भी अपना ITR वेरीफाई नहीं किया है तो आप डॉक्युमेंटेस् या ऑनलाइन के जरिए वैरिफाई कर सकते हैं. हम आपको बता रहे हैं ITR वेरीफाईकरने का तरीका.

ऐसे कर सकते हैं वेरीफाई-
> आधार OTP के जरिए करें वेरीफाई- आप रिटर्न भरने के बाद आधार OTP के जरिए उसे वेरीफाई कर सकते हैं. हालांकि, इसके लिए जरूरी है कि आपका मोबाइल नंबर आधार से जुड़ा हो. एक बार रिटर्न को वेरीफाई करने के लिए इस तरीके को चुनने के बाद आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा. इसको इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर डालने के बाद आपका रिटर्न वेरीफाई हो जाएगा. ये भी पढ़ें: IT रिटर्न भरने से चूक गए हैं आप, तो अब हैं ये विकल्प



> नेट-बैंकिंग के जरिए- अगर आप इंटरनेट बैंकिंग करते हैं तो नेट-बैंकिंग के जरिये भी ITR को वेरीफाई कर सकते हैं. यहां यह ध्यान रखना जरूरी है कि कुछ बैंक ही ITR के वेरिफिकेशन की सुविधा देते हैं. नेट-बैंकिंग सुविधा के जरिये ITR के वेरिफिकेशन के लिए आपको बैंक की वेबसाइट पर लॉग इन करना होगा. उसमें आपको टैक्स टैब में ई-वेरीफाई (e-verification) का विकल्प मिलेगा. इस पर क्लिक करते ही आपको वेबसाइट इनकम टैक्स विभाग की वेबसाइट पर ले जाएगी. इसमें आप माय अकाउंट टैब पर क्लिक करें. यहां आपको जेनरेट ईवीसी का विकल्प मिलेगा. इस पर क्लिक करते ही आपके ईमेल और मोबाइल फोन पर 10 अंक का एक कोड आएगा. यह कोड 72 घंटे तक वैध रहता है. आप आयकर रिटर्न वेरीफाई करने के लिए माय अकाउंट टैब में जायें और ईवीसी डालें. इसे सबमिट करते ही आपका ITR वेरीफाई हो जाएगा.


Loading...

बैंक अकाउंट के जरिए- ईवीसी से वेरिफिकेशन इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आपको बैंक अकाउंट के माध्यम से ITR रिटर्न को ई-वेरीफाई करने की सुविधा देता है. यह सुविधा भी हालांकि हर बैंक की तरफ से उपलब्ध नहीं है. आप इस विकल्प को चुनने से पहले अपने बैंक में यह चेक कर लें. इस माध्यम से ITR रिटर्न को वेरीफाई करने के लिए आपको पहले इसे वेलिडेट करना होगा. इसमें आपको बैंक का नाम, अकाउंट नंबर, आईएफएससी कोड और मोबाइल नंबर डालना होगा. ये सब चीजें आप बैंक में पहले से मौजूद अपने रिकॉर्ड के हिसाब से ही डालें. अगर आपके पैन नंबर में लिखा नाम और बैंक अकाउंट का नाम मिलता है तभी वेलिडेशन सफल होगा. एक बार वेलिडेशन होने के बाद आप माय अकाउंट टैब में जेनरेट ईवीसी पर क्लिक करिए. इसके बाद आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक कोड भेजा जायेगा. उसके बाद माय अकाउंट टैब में ई-वेरीफाई के विकल्प पर क्लिक करिए. यहां कोड डालने के बाद आप इसे सबमिट कर देंगे तो आपका ITR वेरीफाई हो जाएगा. यहां भी आपको यह ध्यान रखना होगा कि बैंक से वेलिडेशन से पहले आप ईमेल और मोबाइल नंबर में कोई बदलाव नहीं कर सकते. ये भी पढ़ें: ट्रेन की तत्काल टिकट बुक करने से पहले जानिए 8 जरूरी नियम, रहेंगे टेंशन फ्री


बैंक ATM के जरिए- ईवीसी जेनरेट करना इनकम टैक्स डिपार्टमेंट टैक्सपेयर्स को बैंक ATM के जरिये भी इनकम टैक्स रिटर्न वेरीफाई करने का विकल्प देता है. इसके लिए आप अपने बैंक के ATM पर जाएं. जब आप ATM कार्ड डालने के बाद पिन नंबर डालेंगे तो आपको पिन फॉर ई-फाइलिंग का एक विकल्प दिखेगा. इस पर क्लिक करने के बाद यह पिन आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर भेज दिया जाएगा. यह कोड 72 घंटे तक वेलिड होता है. इसके बाद आप आयकर विभाग की वेबसाइट पर जाइए. वहां माय अकाउंट पर क्लिक करिए और ई-वेरीफाय ऑप्शन पर क्लिक कर इस कोड को डालिए. इसके बाद सबमिट बटन पर क्लिक करते ही आपका आईटीआर वेरीफाई हो जाएगा.



>> एकनॉलेजमेंट रसीद को साइन कर भेजें- ITR की फिजिकल वेरिफिकेशन के मामले में आपको अपने रिटर्न की ई-फाइलिंग के 120 दिनों के भीतर बेंगलुरु में आईटी विभाग के सीपीसी में प्रिंट व हस्ताक्षरित ITR-V फॉर्म को भेजना होगा. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट फॉर्म को प्राप्त करने की पुष्टि करेगा. इस तरह यह प्रक्रिया पूरी हो जाएगी. अगर आपने ITR-V फिजिकल तरीके से भेजा है तो आपको पावती मिलने में समय लग सकता है. इस पर आपको ब्लू रंग के पेन से ही हस्ताक्षर करना है. फिजिकल तरीके से आईटीआर-V/ एकनॉलेजमेंट रसीद को साधारण या रजिस्टर्ड डाक से ही भेजना है. इसके साथ आपको कोई दस्तावेज नहीं लगाना है. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा आईटीआर-V/ एकनॉलेजमेंट रसीद मिलते ही आपको ई-मेल या मोबाइल पर एक मैसेज मिलेगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 8:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...