मोदी से पूछकर ही होगा कच्चे तेल पर फैसला, सऊदी अरब के तेल मंत्री का बयान

सऊदी अरब के तेल मंत्री ने कहा, ओपेक कच्‍चे तेल के उत्पादन पर कटौती का फैसला लेने से पहले भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राय लेगा.

News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 12:42 PM IST
News18Hindi
Updated: December 7, 2018, 12:42 PM IST
OPEC (ऑर्गेनाइजेशन ऑफ द पेट्रोलियम एक्सपोर्टिंग कंट्रीज) कच्चे तेल का उत्‍पादन घटाने पर कोई फैसला नहीं ले पाया है. इसकी बड़ी वजह सऊदी अरब का वह बयान है जिसमें कहा गया था कि ओपेक कच्‍चे तेल के उत्पादन पर कटौती का फैसला लेने से पहले भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राय लेगा. सऊदी अरब के तेल मंत्री खलील अल फलीह ने कहा कि ओपेक गिरती कीमतों को थामने के लिए निर्यात में कटौती करना चाहता है. लेकिन फैसला मोदी सहित दुनियाभर के नेताओं से बातचीत के बाद लिया जाएगा.

ये भी पढ़ें, चुनाव से पहले मोदी सरकार का किसानों को बड़ा तोहफा, 2022 तक किसानों की इनकम होगी डबल!

भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कच्चा तेल उपभोक्ता देश है. अपनी ऊर्जा जरूरतों के लिए आयात पर 80 फीसद से ज्यादा निर्भर है. अगर ओपेक तेल उत्पादन घटाता है, तो दाम बढ़ने से भारत सीधे तौर पर प्रभावित होगा. मोदी के नेतृत्व में प्रमुख उपभोक्ता देश ओपेक के समक्ष लगातार यह प्रस्ताव रख रहे हैं कि ओपेक को कच्चे तेल की वाजिब दर रखनी चाहिए. गौरतलब है कि गुरुवार को ओपेक बैठक से ठीक पहले ट्रंप ने ट्वीट किया था कि उन्हें ओपेक से तेल आपूर्ति में बाधा उत्पन्न नहीं करने की उम्मीद है.


Loading...

पिछले कुछ समय के दौरान दुनियाभर में भारत के बढ़ते रसूख की बानगी के तौर पर फालिह का यह बयान बेहद महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा, हम मोदी की राय पर बेहद संजीदगी से विचार करेंगे, क्योंकि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरह वे भी इस मुद्दे पर मुखरता से राय रखते हैं. हम उनसे ब्यूनस आयर्स में हाल ही में जी-20 सम्मेलन में मिले हैं. उन्होंने निजी वार्तालाप के दौरान बेहद मजबूती के साथ अपने विचार रखे, जिसमें उन्होंने कहा कि उन्हें भारतीय ग्राहकों की चिंता है और वे इस बारे में बेहद गंभीर हैं. मैं भारत में ऊर्जा क्षेत्र के तीन सम्मेलनों के दौरान उनसे मिला, जहां वे इस मुद्दे पर खासा मुखर दिखे.

ये भी पढ़ें, कतर के ओपेक से बाहर होने से और सस्ता होगा कच्चा तेल, मोदी सरकार को मिल सकती है राहत
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->