बहुत आसान हुआ अपनी कंपनी खोलना, 1 जुलाई से बदल जाएगा नियम

केंद्र सरकार ने नए उद्योग शुरू करने के लिए रजिस्‍ट्रेशन कराने के नियम आसान कर दिए हैं.

केंद्र सरकार (Central Government) के मुताबिक, अब कोई भी व्‍यक्ति सिर्फ Aadhaar Number के आधार पर अपनी कंपनी का रजिस्‍ट्रेशन करा सकता है. इसके अलावा बाकी की सभी जानकारियां सेल्‍फ-डिक्‍लरेशन (Self-declaration) के जरिये बिना कोई डॉक्‍युमेंट सब्मिट किए दी जा सकती हैं. केंद्र सरकार ने कंपनी खोलने की प्रक्रिया को पेपरलेस करने के मकसद से ये व्‍यवस्‍था शुरू की है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार ने अब किसी भी भारतीय नागरिक के लिए अपनी नई कंपनी (New Enterprise) खोलना बहुत आसान बना दिया है. इसके लिए केंद्र (Central Government) ने सेल्‍फ-डिक्‍लरेशन (Self-Declaration) के आधार पर नई कंपनी के ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन के नए नियमों को अधिसूचित कर दिया है. ये नियम 1 जुलाई से लागू हो जाएंगे. नए नियमों के मुताबिक, कंपनी शुरू करने के लिए डॉक्‍युमेंट्स अपलोड करने की जरूरत को खत्‍म कर दिया गया है. आसान शब्‍दों में समझें तो आपको सिर्फ आधार नंबर (Aadhaar Number) देना होगा और बाकी की सभी जानकारियां सेल्‍फ-डिक्‍लरेशन के आधार पर देनी होंगी.

    स्‍व-घोषित जानकारी का ऐसे होगा सत्‍यापन
    प्रक्रिया से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि नई व्‍यवस्‍था उद्यम पंजीकरण प्रक्रिया (Udyam Registration Process) को इनकम टैक्‍स व जीएसटी सिस्‍टम को एकदूसरे से जोड़ देने के कारण संभव हो पाई है. इससे किसी व्‍यक्ति की ओर से दी गई सभी जानकारियां पैन नंबर (PAN Number) या जीएसटीआईएन (GSTIN) में दिए गए ब्‍योरे के आधार पर सत्‍यापित कर ली जाएंगी. अधिकारियों ने कहा कि केंद्र सरकार ने कंपनी खोलने की प्रक्रिया को पेपरलेस (Paperless) करने के मकसद से ये व्‍यवस्‍था शुरू की है. नई व्‍यवस्‍था के तहत कोई भी व्‍यक्ति सिर्फ आधार नंबर देकर अपनी कंपनी का रजिस्‍ट्रेशन करा सकता है.

    ये भी पढ़ें- पीएनबी ने अपने करोड़ों ग्राहकों को किया अलर्ट! ये मैसेज खाली कर सकता है आपका खाता

    किसे किया जाएगा MSME के तहत वर्गीकृत
    केंद्र की ओर से जारी की गई अधिसूचना के मुताबिक, अब एक एमएसएमई को उद्यम के तौर पर पहचाना जाएगा. दरअसल, केंद्र का मानना है कि उद्यम एंटरप्राइज (Enterprise) का ज्‍यादा करीबी शब्‍द है. इसी तरह पंजीकरण प्रक्रिया को भी उद्यम रजिस्‍ट्रेशन कहा जाएगा. प्‍लांट (Plant) और मशीनरी या इक्‍वीपमेंट में किया गया निवेश और कारोबार ही एमएसएमई (MSME) के तहत वर्गीकृत किया जाएगा. अधिसूचना में स्‍पष्‍ट किया गया है कि जब किसी एंटरप्राइज के टर्नओवर की गणना की जाएगी तो वस्‍तु या सेवा (Goods or Service) या दोनों का निर्यात (Export) अलग रखा जाएगा.

    ये भी पढ़ें-15 जुलाई तक नहीं चलेंगी इंटरनेशनल फ्लाइट्स, उड्डयन मंत्रालय ने सस्पेंड की उड़ानें 

    1 जुलाई से पहले दे दी जाएगी पोर्टल की जानकारी
    आधिकारिक बयान में कहा गया है कि ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन प्रोसेस को पोर्टल (Portal) के जरिये पूरा किया जा सकेगा. इस पोर्टल की जानकारी 1 जुलाई 2020 से पहले दे दी जाएगी. सूक्ष्‍म, लघु व मझोले उद्योग मंत्रालय (Ministry of MSME) ने 1 जून 2020 को निवेश व सालाना कारोबार (Turnover) के आधार पर एमएसएमई क्‍लासिफिकेशन के नए मानकों को अधिसूचित कर दिया था. ये नियम 1 जुलाई 2020 से प्रभावी हो जाएंगे. इन्‍हीं नियमों के आधार पर मंत्रालय ने शुक्रवार को विस्‍तृत अधिसूचना जारी कर एंटरप्राइजेज के रजिस्‍ट्रेशन की नई व्‍यवस्‍था दी है.

    ये भी पढ़ें- PM Kisan Scheme- सिर्फ ये 3 कागज देने पर घर लौटे मजदूरों के खाते में आएंगे 6000 रुपये, सरकार ने दी पूरी जानकारी

    आधार नंबर नहीं है तो ऐसे कर सकते हैं आवेदन
    जिन लोगों के पास अब तक वैध आधार नंबर नहीं है, वे सिंगल विंडो सिस्‍टम पर आधार एनरोलमेंट रिक्‍वेस्‍ट या बैंक फोटो पासबुक, वोटर आईडी कार्ड (Voter ID Card), पासपोर्ट (Passport) या ड्राइविंग लाइसेंस (DL) के जरिये भी नई एंटरप्राइज के रजिस्‍ट्रेशन के लिए आवेदन कर सकते हैं. सिंगल विंडो सिस्‍टम के तहत उन्‍हें वैध आधार नंबर मिल जाने के बाद रजिस्‍ट्रेशन की सुविधा उपलब्‍ध करा दी जाएगी. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने कहा कि नई रजिस्‍ट्रेशन, क्‍लासिफिकेशन और फैसिलिटेशन व्‍यवस्‍था बहुत ही आसान व झंझटमुक्‍त है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.