एटीएम से रात में या तय लिमिट से ज्यादा रकम निकाल रहे हैं तो यह नियम आपके लिए है जरूरी, जाने सबकुछ

एसबीआई, केनरा बैंक, पीएनबी समेत कई बैंकों ने अलग-अलग स्तर पर एटीएम विद्ड्राल में ओटीपी आधारित ट्रांजेक्शन व्यवस्था शुरू की है.

आरबीआई की गाइडलाइन के तहत अब विभिन्न बैंकों ने एटीएम से पैसों की निकासी (ATM Withdrawal) पर ओटीपी (OTP)अनिवार्य कर दिया है. इसलिए जब भी एटीएम से पैसे निकालने जाए तो अपने पास मोबाइल फोन जरूर रखें.

  • Share this:
    नई दिल्ली. एटीएम (ATM) से होने वाले फ्रॉड को रोकने के लिए बैंक सतर्क हो गए हैं. आरबीआई की गाइडलाइन के तहत अब विभिन्न बैंकों ने एटीएम से पैसों की निकासी (ATM Withdrawal) पर ओटीपी (OTP) अनिवार्य कर दिया है. हालांकि, अभी ओटीपी का दायरा सीमित है. जैसे एटीएम से रात में या तय रकम से ज्यादा पैसे की निकासी करने पर ही ओटीपी की जरूरत होगी.
    एसबीआई, केनरा बैंक, पीएनबी समेत कई बैंकों ने अलग-अलग स्तर पर एटीएम विद्ड्राल में ओटीपी आधारित ट्रांजेक्शन व्यवस्था शुरू की है. पीएनबी बैंक के ग्राहक एटीएम कार्ड के जरिये रात आठ बजे से सुबह 8 बते तक 10 हजार रुपए या इससे ज्यादा राशि निकालते हैं तो ओटीपी (OTP) अनिवार्य होगा. यह ओटीपी ग्राहक के रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ही आएगा. यदि आपके पास निकासी के समय मोबाइल नहीं है या इंटरनेट की दिक्कत है, तब आपको परेशानी हो सकती है. आज हम आपको ऐसी स्थिति से निपटने के लिए उपाय बता रहे हैं.
    यह भी पढ़ें :  मार्च में 5 कामों को करने से मिलेंगे यह फायदे, जाने सब कुछ

    टुकड़ों में निकाल सकते हैं रकम
    वॉयस ऑफ बैंकिंग के फाउंडर अश्विनी राणा बताते हैं कि एटीएम में पैसे निकासी की पहले से ही लिमिट थी. लेकिन धोखाधड़ी के बढ़ते मामलों की वजह से बैंक सिक्युरिटी फीचर बढ़ा रहे हैं. यह लोगों की सुविधा के लिए ही है. यदि किसी को ज्यादा रकम की जरूरत है तो वह पहले से प्लान कर लें और ब्रांच से निकासी कर सकता है. हालांकि कुछ बैंकों ने यह सुविधा दी ही है कि एटीएम से टुकड़ों में निकासी कर लें. जैसे केनरा बैंक में 10 हजार रुपए से कम का ट्रांजेक्शन पर ओटीपी नहीं लगता है. लिहाजा, यदि 20 हजार रुपए की जरूरत है तो तीन बार में पैसे निकाले जा सकते हैं.
    यह भी पढें : नए वित्त वर्ष में यह काम न करने पर लगेगा दोगुना टैक्स, इसलिए यह रखें सावधानी

    दूसरे बैंकों से बिना ओटीपी निकाली जा सकती है रकम
    बैंक कर्मी रूपक गौतम बताते हैं कि दूसरे बैंक के एटीएम से भी पैसे निकालने पर कई बैंक ओटीपी नहीं ले रहे हैं. लिहाजा, इस तरीके से भी आपात स्थिति में पैसे निकाले जा सकते हैं. हालांकि, अश्विनी राणा यह सुझाव भी देते हैं कि यूपीआई, नेट बैंकिंग जैसे कई तरीके हैं, इसलिए एटीएम से निकासी कम ही जानी चाहिए. यही वजह है कि बैंक भी एटीएम की संख्या में कमी कर रहे हैं.
    अब निकासी अधिक सुरक्षित
    बैंकों का कहना है कि ओटीपी बेस्ड निकासी (OTP Based withdrawal) पहले के मुकाबले ज्यादा सुरक्षित है. पहले सुनने में आता था कि रास्ते में भी अपराधी तत्व लोगों को पकड़ कर एटीएम तक ले जाते थे और पैसे निकाल लेते थे. अब ओटीपी बेस्ट निकासी होने से ऐसा नहीं हो पाएगा.
    यह भी पढ़ें : रेलवे को ट्रेवल टाइम कम करने की नई तकनीक से हुआ बड़ा फायदा, जानिए किन ट्रेनों की स्पीड बढ़ेगी

    एसबीआई पिछले साल से लागू कर चुका है नई व्यवस्था
    देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई (SBI) ने बीते साल से ही देश भर में एटीएम निकासी के नियमों में बदलाव कर दिया है. अब उसका कोई भी ग्राहक जब अपने साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर (Registered Mobile Number) ले जाएगा, तभी पैसा निकाल सकेगा. क्योंकि, एटीएम से होने वाले अनऑथराइज्ड ट्रांजेक्शंस (Unauthorised Tranjection) में कमी लाने के मकसद से एसबीआई ने वन टाइम पासवर्ड (OTP) आधारित एटीएम से निकासी सुविधा को चौबीसों घंटे लागू करने का फैसला किया है.
    यह भी पढ़ें :  नौकरी की बात : फोन या कम्प्यूटर की बजाय नौकरी खोजने के लिए एम्प्लायर्स से ईमेल व Linkdin पर करें सीधे बात

    ग्रामीण क्षेत्रों में है दिक्कत 
    सामाजिक कार्यकर्ता और बैंकिंग रिफार्म से जुड़े नितिन सक्सेना का कहना है कि देश की ज्यादातर आबादी एटीएम विद्ड्राल की आदी हो चुकी है. ऐसे में अचानक से ओटीपी आधारित व्यवस्था लाने से ग्रामीण क्षेत्रों और निचले तबके तक बैंकिंग सेवाओं के पहुंचने में बाधा उत्पन्न होगी. पहले सरकार इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करे और बैंक धीरे-धीरे यह व्यवस्था लागू कर तो इसका ज्यादा फायदा मिलेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.