लाइव टीवी

मात्र 55 रुपये देकर पाएं 3 हजार रुपये की पेंशन, 32 लाख से ज्यादा लोगों ने उठाया फायदा

News18Hindi
Updated: October 20, 2019, 4:59 PM IST
मात्र 55 रुपये देकर पाएं 3 हजार रुपये की पेंशन, 32 लाख से ज्यादा लोगों ने उठाया फायदा
32 लाख से ज्यादा लोगों ने प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना का उठाया फायदा

मोदी सरकार की प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना (PMSYM) के जरिए आप हर महीने 3,000 रुपये पेंशन पा सकते हैं. जानिए रजिस्ट्रेशन कराने का क्या है प्रोसेस?

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 20, 2019, 4:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. मोदी सरकार ने असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए फरवरी 2019 के अंतरिम बजट में प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना (PM-SYM) की शुरुआत की थी. इसके तहत मात्र 55 रुपये देकर आप 3,000 रुपये मंथली पेंशन (Pension) पा सकते हैं. प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना में अभी तक 32 लाख से ज्यादा लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है. आइए जानते हैं पेंशन स्कीम से जुड़ी खास बातें...

कौन ले सकता है योजना का लाभ?
अधिसूचना के मुताबिक, यह स्कीम असंगठित क्षेत्र में काम करने वालों पर ही लागू होगी. इनमें घर में काम करने वाले, रेहड़ी लगाने वाले दुकानदार, ड्राइवर, प्लंबर, दर्जी, मिड-डे मील वर्कर, रिक्शा चालक, निर्माण कार्य करने वाले मजदूर, कूड़ा बीनने वाले, बीड़ी बनाने वाले, हथकरघा, कृषि कामगार, मोची, धोबी, चमड़ा कामगार इत्यादि शामिल हैं. इस स्कीम में 17 अक्टूबर 2019 तक 32,72,174 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है.

55 से 200 रुपये तक रहेगी किस्त

उम्र के हिसाब से योगदान की राशि में फर्क आएगा. यदि कोई 18 साल की उम्र से इस स्कीम को शुरू करता है तो उसे हर महीने 55 रुपये जमा करना होंगे. 29 साल की उम्र वाले कामगारों को हर महीने 100 रुपये और 40 साल की उम्र वालों को 200 रुपये का योगदान देना पड़ेगा. 18 साल से 40 साल तक की उम्र वाले मानधन योजना में शामिल हो सकेंगे.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार की खास स्कीम, 1 रुपये रोजाना खर्च करने पर मिलेंगे ₹2 लाख!


Loading...

किन दस्तावेजों की होगी जरूरत
1. आधार कार्ड
2. बचत खाता/जनधन खाता, साथ में IFSC कोड
3. मोबाइल नंबर

इन्हें नहीं मिलेगा फायदा
संगठित क्षेत्र में काम करने वाले व्यक्ति या कर्मचारी भविष्य निधि (EPFO), नेशनल पेंशन स्कीम (NPS) या राज्य कर्मचारी बीमा निगम (ESIC) के सदस्य या आयकर का भुगतान करने वाले लोग इस स्कीम के लिए योग्य नहीं हैं.

क्या है फैमिली पेंशन स्कीम?
दरअसल फैमिली पेंशन स्कीम वो होती हैं, जिसमें पति की मौत के बाद पत्नी को पेंशन ट्रांसफर हो जाती है. मतलब पेंशन स्कीम के तहत पत्नी को बतौर नॉमिनी रखा जाता है. इसका फायदा यह होता है कि अगर 60 साल के बाद पति की मौत हो जाती है, तो सरकारी पेंशन स्कीम की तरह पत्नी को पेंशन की आधी रकम यानी 50 प्रतिशत दी जाएगी. वहीं पति की 60 साल से पहले मौत होने पर पत्नी को पूरी पेंशन मिलती है.

कितना करना होगा योगदान
>> आप 18 वर्ष के हैं, तो 60 वर्ष की आयु से 3,000 रुपये पेंशन के लिए हर महीने 55 रुपये निवेश जरूरी.
>> आप 29 वर्ष के हैं, तो 60 वर्ष की आयु से 3,000 रुपये पेंशन के लिए हर माह 100 रुपये का निवेश.
>> आप 40 वर्ष के हैं, तो 60 वर्ष की आयु से 3,000 रुपये पेंशन के लिए हर महीने 200 रुपये का निवेश करना होगा.

किश्त न देने पर क्या करना होगा
अपने हिस्से का योगदान करने में चूक होने पर पात्र सदस्य को ब्याज के साथ बकाया राशि का भुगतान करके कॉन्ट्रिब्यूशन को नियमित करने की अनुमति होगी. यह ब्याज सरकार तय करेगी. यदि सब्सक्राइबर जुड़ने की तारीख से 10 साल के अंदर स्कीम से पैसा निकालने का इच्छुक है तो उसे केवल उसके हिस्से का योगदान सेविंग अकांट की ब्याज दर पर लौटाया जाएगा.

ये भी पढ़ें: त्योहारी सीजन में घर खरीदने का बढ़िया मौका! GST बेनिफिट के साथ कार, फर्नीचर मिल रहा मुफ्त

60 साल से पहले निकालें तो
यदि सब्सक्राइबर स्कीम से 10 साल बाद लेकिन 60 साल की उम्र से पहले निकलता है तो उसे पेंशन स्कीम में कमाए गए वास्तविक ब्याज के साथ उसके हिस्से का योगदान लौटाया जाएगा.

कहां होगा पेंशन योजना का रजिस्ट्रेशन
प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन पेंशन योजना का रजिस्ट्रेशन जीवन बीमा निगम (LIC) के सभी कार्यालयों, बीमा एजेंटों, कर्मचारी राज्य बीमा निगम के ऑफिस और कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के कार्यालयों में कराया जा सकेगा. अगर आपने रजिस्ट्रेशन करवा लिया है तो यही आपका आवेदन होगा. आप इस योजना की जानकारी 1800 2676 888 टोल फ्री नंबर पर ले सकते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2019, 3:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...