Oxygen Express: रेलवे ने अब तक देश में पहुंचाई 21939 टन 'संजीवनी', दिल्ली-एनसीआर को मिली 7500 टन ऑक्सीजन

भारतीय रेलवे देश के अलग-अलग राज्‍यों में मेडिक्‍ल ऑक्‍सीजन पहुंचाने के लिए लगातार ट्रेनें चला रहा है.

भारतीय रेलवे देश के अलग-अलग राज्‍यों में मेडिक्‍ल ऑक्‍सीजन पहुंचाने के लिए लगातार ट्रेनें चला रहा है.

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने बताया कि अब तक 321 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों (Oxygen Express) के जरिये देश के 15 राज्यों को मेडिकल लिक्विड ऑक्सीजन (MLO) पहुंचाई गई है. इसमें सबसे ज्‍यादा 7500 मीट्रिक टन ऑक्‍सीजन दिल्‍ली-एनसीआर (Delhi-NCR) को मिली है.

  • Share this:

नई दिल्ली. देश इस वक्त कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर से जूझ रहा है. कोरोना के खिलाफ जंग में रेलवे (Railways) भी अपनी अहम भूमिका निभा रहा है, जिसके तहत उसने अब तक 15 राज्यों को 1304 से ज्यादा टैंकरों के जरिए 21,939 मीट्रिक टन से ज्यादा लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन यानी एलएमओ (Liquid Medical Oxygen) उपलब्ध कराई है. अब तक दिल्‍ली-एनसीआर को सबसे ज्‍यादा 7500 मीट्रिक टन ऑक्‍सीजन उपलब्‍ध कराई जा चुकी है.

11 एक्‍सप्रेस ट्रेनें 827 मीट्रिक टन ऑक्‍सीजन लेकर पटरी पर हैं

रेलवे ने बताया कि अब तक 321 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों के जरिये विभिन्‍न राज्यों को ऑक्सीजन पहुंचाई गई है, जबकि 46 टैंकरों में 827 मीट्रिक टन से अधिक लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन के साथ 11 एक्‍सप्रेस ट्रेनें इस समय अपने-अपने गंतव्य की ओर जा रही हैं. रेलवे ने बताया कि हरियाणा को 2034 मीट्रिक टन और कर्नाटक को 2115 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध कराई गई है, जबकि महाराष्‍ट्र को 614 मीट्रिक टन और उत्‍तर प्रदेश को 3797 मीट्रिक टन ऑक्सीजन दी गई है.

ये भी पढ़ें- Gold Price Today: सोने की कीमतों में आज आया उछाल, चांदी के दाम घटे, फटाफट देखें लेटेस्‍ट भाव
अब तक 15 राज्यों को उपलब्ध कराई जा चुकी है ऑक्सीजन

रेलवे की ओर से अब तक मध्य प्रदेश में 656 मीट्रिक टन, दिल्ली में 5,527 मीट्रिक टन, राजस्थान में 98 मीट्रिक टन, उत्तराखंड में 320 मीट्रिक टन, तमिलनाडु में 2016 मीट्रिक टन, आंध्र प्रदेश में 1,896 मीट्रिक टन, पंजाब में 225 मीट्रिक टन, केरल में 380 मीट्रिक टन, तेलंगाना में 1,978 मीट्रिक टन, झारखंड में 38 मीट्रिक टन और असम में 240 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा चुकी है. बता दें कि ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन 24 अप्रैल को शुरू किया गया था,

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज