राहत: NCLAT से OYO की सब्सिडियरी कंपनी को राहत, दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने पर लगी रोक

OYO होटल्स एंड होम्स प्राइवेट लिमिटेड

OYO होटल्स एंड होम्स प्राइवेट लिमिटेड

पेमेंट डिफॉल्ट मामले में होटल कंपनी ओयो होटल्स (OYO) को नेशनल कंपनी लॉ अपीलिएट ट्रिब्यूनल (NCLAT) से आज बड़ी राहत मिली है. NCLAT ने OYO होटल्स की उस याचिका को स्वीकार कर लिया है जिसमें दिवालिया प्रक्रिया रोकने की अपील की गई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पेमेंट डिफॉल्ट मामले में होटल कंपनी ओयो होटल्स (OYO) को नेशनल कंपनी लॉ अपीलिएट ट्रिब्यूनल (NCLAT) से आज बड़ी राहत मिली है. NCLAT ने नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) के उस आदेश पर रोक लगा दी है जिसमें 16 लाख रुपये के पेमेंट डिफॉल्ट होने पर OYO की सब्सिडियरी कंपनी ओयो होटल्स एंड होम्स प्राइवेट लिमिटेड (OHHPL) की दिवालिया प्रक्रिया (insolvency proceedings) शुरू करने का आदेश दिया गया था.

NCLAT ने OYO होटल्स की उस याचिका को स्वीकार कर लिया है जिसमें दिवालिया प्रक्रिया रोकने की अपील की गई है. दरअसल, NCLT ने 30 मार्च को अपने ऑर्डर में OHHPL के लेनदारों को कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स (COC) का गठन करके 15 अप्रैल, 2021 तक अपने क्लेम्स सबमिट करने को कहा था, ताकि IBC कोड के तहत ओयो होटल्स एंड होम्स प्राइवेट लिमिटेड की दिवालिया प्रक्रिया शुरू की जा सके, लेकिन अब NCLAT ने COC के गठन पर रोक लगा दी है.

ये भी पढ़ें- Upcoming IPOs: मोटी कमाई के लिए रहें तैयार! अब ये दो दिग्गज कंपनी लाएंगी IPO... जानें सबकुछ



क्या है पूरा मामला
गुरुग्राम के OYO ब्रांड के तहत ऑपरेट करने वाले एक होटल के मालिक ने OYO के खिलाफ शिकायत की थी कि उसने 16 लाख रुपये के पेमेंट को डिफॉल्ट किया है और सर्विस एग्रीमेंट का उल्लंघन किया है. इसके बाद नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) ने OHHPL के लेनदारों को कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स (COC) का गठन कर दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने का आदेश दिया था, जिसे OYO के फाउंडर रितेश अग्रवाल ने NCLAT में चुनौती थी दी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज