लाइव टीवी

पी-नोट के जरिये निवेश में लगातार चौथे महीने गिरावट, सितंबर में ₹76611 करोड़ रहा

भाषा
Updated: October 23, 2019, 3:02 PM IST
पी-नोट के जरिये निवेश में लगातार चौथे महीने गिरावट, सितंबर में ₹76611 करोड़ रहा
पी-नोट के जरिये निवेश में जून से ही गिरावट जारी

पार्टिसिपेटरी-नोट पंजीकृत विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीओ) उन विदेशी निवेशकों को जारी करते हैं जो भारतीय शेयर बाजार में बिना पंजीकरण के निवेश करना चाहते हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. घरेलू पूंजी बाजार में पार्टिसिपेटरी नोट (P-notes) के जरिये निवेश सितंबर महीने में घटकर 76,611 करोड़ रुपये रहा. यह लगातार चौथा महीना है जब पी-नोट (P-notes) के जरिये निवेश में कमी आई है. पी-नोट के जरिये निवेश अगस्त महीने में 79,088 करोड़ रुपये था.

पार्टिसिपेटरी-नोट पंजीकृत विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (FPI) उन विदेशी निवेशकों को जारी करते हैं जो भारतीय शेयर बाजार में बिना पंजीकरण के निवेश करना चाहते हैं. पूंजी बाजार नियामक सेबी के अनुसार पी-नोट के जरिये निवेश में जून से ही गिरावट जारी है.

सितंबर में घटा पी-नोट्स निवेश
आंकड़ों के अनुसार भारतीय पूंजी बाजार में (शेयर, बॉन्ड और डेरिवेटिव्स) पी-नोट निवेश सितंबर महीने में घटकर 76,611 करोड़ रुपये रहा जो अगस्त में 79,088 करोड़ रुपये था. सितंबर के अंत तक किये गये कुल निवेश में से 50,676 करोड़ रुपये शेयर में, 25 करोड़ रुपये बांड तथा 241 करोड़ रुपये डेरिवेटिव्स खंड में निवेश किये गये.

ये भी पढ़ें: खुशखबरी! अब आसानी से पेट्रोल पंप खोलकर कर सकेंगे मोटी कमाई, मोदी सरकार ने बदले नियम

जानें क्या होता है?
पार्टिसिपेटरी नोट यानी (पी-नोट) एक तरह का ऑफशोर डेरिवेटिव इंस्ट्रूमेंट होता है. जो इन्वेस्टर्स सेबी के पास रजिस्ट्रेशन कराए बगैर इंडियन सिक्यॉरिटीज में पैसा लगाना चाहते हैं, वे इनका इस्तेमाल करते हैं. विदेशी इन्वेस्टर्स को पी-नोट्स सेबी के पास रजिस्टर्ड फॉरन ब्रोकरेज फर्म्स या डोमेस्टिक ब्रोकरेज फर्म्स की विदेशी यूनिट्स जारी करती हैं. ब्रोकर इंडियन सिक्यॉरिटीज (शेयर, डेट या डेरिवेटिव्स) में खरीदारी करते हैं और फीस लेकर उन पर क्लायंट को पी-नोट्स इश्यू करते हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें-अब ट्रेन के अंदर मिलेगी फ्री WiFi की सुविधा, ये है सरकार का नया प्लान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 3:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...