झुक गया पाकिस्तान, भारत की चीनी से 2 साल बाद मुंह मीठा करेगा पाक

भारत से सस्ते आयात की वजह से रमजान से पहले पाकिस्तान में आसमान छू रहा चीनी का भाव नीचे आ सकेगा.

भारत से सस्ते आयात की वजह से रमजान से पहले पाकिस्तान में आसमान छू रहा चीनी का भाव नीचे आ सकेगा.

न्यूज एजेंसी रायटर ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि पाकिस्तान (Pakistan) की इकोनॉमिक कोऑर्डिनेशन काउंसिल (Economic Coordination Council) ने भारत (India) से चीनी(Sugar), कॉटन और धागों के आयात (Import) की इजाजत दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 9:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. व्यापार में मात खा रहे पाकिस्तान (Pakistan) को आखिरकार भारत (India) की अहमियत समझ में आ गई है. लिहाजा, कारोबारी रिश्ते सुधारने के लिए पाकिस्तान ने अपने प्राइवेट सेक्टर को दो साल बाद भारत से चीनी (Sugar) के अलावा कपास और धागों के आयात (Import) की इजाजत दे दी है.

पाकिस्तान को भारत के अलावा दूसरे देशों से चीनी, कपास और धागे का आयात महंगा पड़ रहा था. खस्ताहाल हो चुकी पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था यह बोझ झेल नहीं पा रही थी. लिहाजा, पाकिस्तान की इकोनॉमिक कोऑर्डिनेशन काउंसिल ने कॉटन और धागों के आयात की इजाजत दी है. न्यूज एजेंसी रायटर ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि पाकिस्तान में अहम आर्थिक फैसले लेने वाली इस संस्था ने प्राइवेट सेक्टर को भारत से 5 लाख टन चीनी के आयात की भी इजाजत दी है.

यह भी पढें : कपड़े के लिए मोहताज हुए पाकिस्तानी, भारत से इस प्रतिबंध को हटाने की लगाई गुहार

पाकिस्तान में भारत से दोगुनी महंगी है चीनी
भारत दुनिया में कॉटन का सबसे बड़ा और चीनी का दूसरा सबसे बड़ा प्रोड्यूसर है. पाकिस्तान चीनी बेचे जाने से घरेलू बाजार में इसका स्टॉक कम होगा. इससे रमजान से पहले पाकिस्तान में आसमान छू रहा चीनी का भाव नीचे आ सकेगा. पाकिस्तान में फिलहाल चीनी का भाव 694 डॉलर (50,777 भारतीय रुपए) प्रति टन चल रहा है. यह भारतीय चीनी के दाम के दोगुने से थोड़ा कम है. जहां तक भारतीय कपास की बात है तो यह भी पाकिस्तान को दूसरे मुल्कों से 5% तक सस्ता पड़ेगा.

यह भी पढें : Investment Strategy : नए साल की शुरुआत में निवेश का यह तरीका अपनाएंगे तो होंगे मालामाल, जानें सबकुछ

आर्टिकल-370 का दर्जा खत्म करने के बाद से बिगड़े थे रिश्ते



अगस्त, 2019 में भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर को आर्टिकल-370 के तहत मिले खास दर्जे को खत्म कर दिया था. इसे राज्य से केंद्रशासित प्रदेश बनाकर लद्दाख को अलग कर दिया गया था. इसके बाद पाकिस्तान ने भारत से कारोबारी रिश्ते तोड़ लिए थे. चीनी और कपास के आयात की इजाजत दिए जाने वाली खबर दोनों के रिश्तों में जमी बर्फ पिघलाने के लिए उठाए जा रहे हालिया कूटनीतिक कदमों के बीच आई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज