Home /News /business /

पाकिस्तान छाप रहा है 2000 रुपये के नकली नोट, कॉपी की भारतीय हाई-टेक तकनीक, पहचान करना मुश्किल

पाकिस्तान छाप रहा है 2000 रुपये के नकली नोट, कॉपी की भारतीय हाई-टेक तकनीक, पहचान करना मुश्किल

पाकिस्तान छाप रहा है 2000 रुपये के नकली नोट

पाकिस्तान छाप रहा है 2000 रुपये के नकली नोट

ऐसा माना जा रहा है कि पाकिस्तानी तंत्र ने 2000 रुपये के नोट की हू-ब-हू नकल कर ली, जो बिना सरकारी मदद के मुमकिन नहीं है.

    देश के कई हिस्सों में जब्त किए 2000 रुपये के नकली नोटों ने सुरक्षा एजेंसियों की नींद उड़ा दी है. उनका मानना है कि नकली नोट की ये खेप पाकिस्तान की तरफ से भेजी गई है. ये नोट पूरी तरह असली नज़र आ रहे हैं. ऐसा माना जा रहा है कि पाकिस्तानी तंत्र ने 2000 रुपये के नोट की हू-ब-हू नकल कर ली, जो बिना सरकारी मदद के मुमकिन नहीं है. सच तो यह है कि पाकिस्तानी सिक्यॉरिटी प्रेस में छपकर भारतीय बाजार में झोंके जा चुके 2000 के इन नकली नोटों और भारतीय नोट में सुरक्षा एजेंसियां और दिल्ली पुलिस भी फर्क नहीं कर पा रही है.

    जब्त नकली नोटों की खेप की जांच के बाद यह साबित हो रहा है कि एक बड़ी साजिश के तहत पाकिस्तान का सरकारी तंत्र भारत की अर्थव्यवस्था को ध्वस्त करने के लिए हाई-क्वालिटी के जाली भारतीय नोट थोक के हिसाब से छाप रहा है.

    ये भी पढ़ें: 6 करोड़ PF खाताधारकों के लिए खुशखबरी! मिलेगा ज्यादा ब्याज

    विशेष किस्म की स्याही का भी हो रहा है इस्तेमाल
    जांच में पता चला है कि कराची के 'मलीर-हाल्ट' इलाके में स्थित 'पाकिस्तानी सिक्यॉरिटी प्रेस' में छापे जा रहे इस जाली नोट में भी पहली बार 'ऑप्टिकल वेरियबल इंक' का इस्तेमाल किया गया है. यह विशेष किस्म की स्याही 2000 के नोट के धागे पर इस्तेमाल होती है. इस इंक की खासियत है कि यह नोट पर हरे रंग की दिखाई देती है. नोट की दिशा ऊपर-नीचे करने पर इस स्याही का रंग बदलकर खुद-ब-खुद नीला हो जाता है.

     नोट में यूज हुई उच्च भारतीय तकनीक का भी नकली नोट में हुआ इस्तेमाल
    दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और भारतीय खुफिया एजेंसियों की संयुक्त जांच में खुलासा हुआ है 2000 और 500 के नए नोट एक और प्रमुख सिक्यॉरिटी फीचर की भी पहली बार आईएसआई के गुर्गों ने हू-ब-हू नकल कर ली है. 2000 के नए भारतीय नोट के एकदम बाईं और दाईं ओर के किनारे में 'ब्लीड-लाइनें' खींची गई हैं. ये सात लाइनें असल में विशेष रूप से नेत्रहीनों को नोट की पहचान आसानी से कराने में सहायक होती हैं. यह भी उच्च भारतीय तकनीक का ही कमाल है कि, नोट को गोल आकार में मोड़ने पर इन लाइनों के आपस में सधे हुए तरीके से मिल पाना अब तक लगभग नामुमकिन समझा जाता था.

    ये भी पढ़ें: PNB के साथ होगा OBC और United Bank का मर्जर, क्या होगा असर

    सीरीज नंबर की भी नकल
    पाक खुफिया एजेंसी के आकाओं ने अब कराची की सरकारी प्रेस में छापे जा रहे जाली भारतीय नोट के निचले हिस्से में दाईं तरफ छपे सीरीज नंबर की भी नकल कर ली है. इसकी एक बानगी हाल ही में जब्त किए गए 2000 रुपये के नकली नोट में देखने को मिली.

    ऐसे हुआ इस जालसाजी का खुलासा
    ET में छपी खबर के अनुसार दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुमार सिंह कुशवाहा की अगुवाई में सहायक पुलिस आयुक्त अतर सिंह की टीम ने 24 अगस्त को दिल्ली के नेहरू प्लेस से डी-कंपनी के एजेंट असलम अंसारी को पकड़ा था. असलम अंसारी के पास से 2000 के नोट वाली करीब साढ़े 5 लाख जाली भारतीय मुद्रा जब्त की गई थी. असलम मूल रूप से नेपाल का रहने वाला है.

    ये भी पढ़ें: ऐसे चेक करें जेब में रखे 2000 और 500 के नोट असली हैं या नकली

    Tags: 1000-500 notes, Currency in circulation, Currency Note Press in Nashik

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर