भारत के सामने फिर झुका पाकिस्तान, अब मांगी इस चीज के लिए मदद

बौखलाए पाकिस्तान ने एक बार फिर भारत के साथ व्यापार करना शुरू कर दिया

बौखलाए पाकिस्तान ने एक बार फिर भारत के साथ व्यापार करना शुरू कर दिया

आर्टिकल 370 के हटाए जाने के बाद बौखलाए पाकिस्तान ने एक बार फिर भारत के साथ व्यापार करना शुरू कर दिया है. उसका भारत के साथ कारोबार करने का कदम उस पर भारी पड़ रहा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2019, 10:10 AM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद: आर्टिकल 370 (Article 370) के हटाए जाने के बाद बौखलाए पाकिस्तान ने एक बार फिर भारत के साथ व्यापार करना शुरू कर दिया है. उसका भारत के साथ कारोबार (Business with India) करने का कदम उस पर भारी पड़ रहा था. आपको बता दें कि अभी व्यापार बंदी को एक महीना भी नहीं हुआ है और पाकिस्तान के तेवर बदल गए हैं. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान सरकार (Pakistan Government) ने भारत में बनने वाली जीवनरक्षक दवाओं के आयात पर अपनी अनुमति दे दी है. यह अनुमति पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्रालय द्वारा सोमवार को दी गई. इसके संबंध में एक वैधानिक नियामक आदेश जारी किया गया.



भारत से चीजें जाती हैं पाकिस्तान  

पाकिस्तान भारत को ताजे फल, सीमेंट, खनिज और अयस्क, तैयार चमड़ा, प्रसंस्कृत खाद्य, अकार्बनिक रसायन, कच्चा कपास, मसाले, ऊन, रबड़ उत्पाद, अल्कोहल पेय, चिकित्सा उपकरण, समुद्री सामान, प्लास्टिक, डाई और खेल का सामान निर्यात करता था, जबकि भारत से निर्यात किए जाने वाले जिंसों में जैविक रसायन, कपास, प्लास्टिक उत्पाद, अनाज, चीनी, कॉफी, चाय, लौह और स्टील के सामान, दवा और तांबा आदि शामिल हैं.



ये भी पढ़ें: मोदी सरकार ने इस बैंक को लेकर किया बड़ा ऐलान, ये होगा असर
जीवनरक्षक दवाओं के लिए भारत पर निर्भर



पाकिस्तान बड़ी मात्रा में भारतीय दवाओं का आयात करता है. जीवनरक्षक दवाओं से लेकर सांप-कुत्ते के जहर से बचाने वाली दवाओं तक के लिए वह काफी हद तक भारत पर निर्भर है. बता दें कि जम्मू-कश्मीर से आर्टकिल 370 हटाने के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. पाक ने भारत के साथ कूटनीतिक संबंध भी डाउनग्रेड कर चुका है. जियो टीवी के अनुसार, पाकिस्तान के वाणिज्य मंत्रालय ने आदेश जारी कर भारत से दवाओं के आयात को मंजूरी दिया है.



जुलाई में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान ने 16 महीनों के दौरान भारत से 250 करोड़ रुपये से ज्यादा के रेबीजरोधी तथा विषरोधी टीकों की खरीदारी की थी. भारत और पाकिस्तान के बीच 2017-18 में महज 2.4 अरब डॉलर का व्यापार हुआ, जो भारत का दुनिया के साथ कुल व्यापार का महज 0.31 फीसदी है और पाकिस्तान के ग्लोबल ट्रेड का 3.2 पर्सेंट. कुल द्विपक्षीय व्यापार में करीब 80 फीसदी हिस्सा पाकिस्तान में भारतीय निर्यात का है.



ये भी पढ़ें: 2 करोड़ लोगों का रद्द हो सकता है ITR, जानें क्या है वजह?



इस बात से बौखलाया हुआ है पाकिस्तान

कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाए जाने की बौखलाहट में पाकिस्तान ने भारत के साथ बिजनस बंद करने का ऐलान तो कर दिया, लेकिन अपना यह फैसला उसके लिए फजीहत की वजह बन गया है. दवाइयों की कमी के कारण मजबूरी में उसे आंशिक व्यापार बहाली का कदम उठाना पड़ा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज