लाइव टीवी

...तो क्या अब बेस्ट फ्रेंड चीन ही पाकिस्तान को करेगा बर्बाद! जानिए पूरा मामला

News18Hindi
Updated: October 4, 2019, 7:21 PM IST
...तो क्या अब बेस्ट फ्रेंड चीन ही पाकिस्तान को करेगा बर्बाद! जानिए पूरा मामला
पाकिस्तानी में सरकारी कर्ज अगले 5 साल में 47 फीसदी बढ़ने वाला है

न्यूज एजेंसी ब्लूमबर्ग (Bloomberg report on Pakistan) की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान को IMF के कर्ज से दोगुनी राशि चीन (China Debt) की चुकानी है. वह उसके कर्ज के बोझ से दबा हुआ है और यह रकम लगातार बढ़ती जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2019, 7:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पाकिस्तान (Pakistan Debt Burden)  के बेस्ट फ्रेंड देश चीन की वजह से उसकी अर्थव्यवस्था लगातार कर्ज़ के तले दबती चली जा रही है. न्यूज एजेंसी ब्लूमबर्ग (Bloomberg report on Pakistan) की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान को IMF के कर्ज से दोगुना राशि चीन (China Debt) की चुकानी है. वह उसके कर्ज के बोझ से दबा हुआ है और यह रकम लगातार बढ़ती जा रही है. कर्ज के चलते पाकिस्तान के सामने फॉरेन एक्सचेंज का संकट भी आ खड़ा हुआ है.

आईएमएफ के मुताबिक पाकिस्तान (Pakistan) को जून 2022 तक चीन (China) को 6.7 अरब डॉलर की रकम चुकानी है. ऐसे में अगर पाकिस्तान कर्ज नहीं चुका पाता है तो उस पर बहुत बड़ा दबाव बढ़ जाएगा. ऐसे में चीन किसी हिस्से पर कब्जा भी कर सकता है. आपको बता दें कि है कि बीते साल सेंटर फॉर ग्लोबल डिवेलपमेंट ने पाकिस्तान को उन 8 देशों में शामिल किया था, जो बेल्ट ऐंड रोड प्लान के चलते कर्ज के संकट में फंसे हैं. सेंटर फॉर स्टडी ऑफ पाकिस्तान के मेंबर बुरजिन वाघमर ने कहा कि यह पूरी तरह से पाकिस्तान के खिलाफ ही गया है.

कर्ज तले दबा पाकिस्तान कभी कर सकता है डिफॉल्ट- कराची स्थित ऑप्टिमस कैपिटल मैनेजमेंट के हाफिज फैजान अहमद ने कहा, 'बेल्ट ऐंड रोड प्रॉजेक्ट की शुरुआत के बाद से कर्ज के इस संकट में इजाफा हुआ है.

उन्होंने कहा दो साल पहले चीन से लिया गया कर्ज लगातार बढ़ने लगा, जब देश में डॉलर रिजर्व कम हुआ. ऐसी स्थिति में संकट से निपटने के लिए पाकिस्तान ने लगातार कर्ज का सहारा लेना शुरू किया और वह इस दलदल में फंसता हुआ चला गया.

कंगाली की मार झेल रहे पाकिस्तानी सरकार (Pakistan Government) के लिए आर्थिक मोर्चे पर परेशानियां बढ़ती ही जा रही हैं. बीते गुरुवार को पाकिस्तान सरकार ने अगले 5 साल के लिए सरकारी कर्ज (Public Debt) को लेकर एक आंकड़ा जारी किया है.

पाकिस्तान सरकार ने अनुमान लगाया है कि अगले पांच साल में उसपर कर्ज का बोझ 47 फीसदी बढ़कर 45.57 ट्रिलियन रुपये हो जाएगा. वित्त वर्ष 2019 तक यह 31 लाख करोड़ पाकिस्तानी रुपये है.

बाहरी और घरेलू कर्ज में भारी इजाफा -वित्त वर्ष 2020-24 के लिए पब्लिक मैनेजमेंट डेट (Public Management Debt) के तहत पाकिस्तानी वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance, Pakistan) ने अनुमान लगाया है कि साल 2024 तक कुल बाहरी कर्ज करीब 80 फीसदी बढ़कर 17.77 ट्रिलियन रुपये हो जाएगा. मौजूदा समय में यह 10.44 ट्रिलियन रुपये है.
Loading...

दूसरी तरफ घरेलू कर्ज भी साल 2024 तक 30 फीसदी बढ़कर 26.8 ट्रिलियन रुपये हो जाएगा. वित्त वर्ष 2019 तक यह 20.57 ट्रिलियन रुपये था. हालांकि, पाकिस्तान के लिए राहत की खबर यह है कि कर्ज में भारी इजाफा होने के बाद भी साल 2024 तक कर्ज और GDP का अनुपात 80.4 फीसदी से घटकर 66.5 फीसदी हो जाएगा.

ये भी पढ़ें: शुरू हुई एक और नई ट्रेन सरबत दा भला एक्सप्रेस, जानिए रूट और किराए के बारे में


पाकिस्तानी रुपया




कितना बढ़ेगा कर्ज -पाक सरकार की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2019 में सरकारी कर्ज 31 ट्रिलियन रुपये है. वित्त वर्ष 2020 में यह 35 ट्रिलियन रुपये, वित्त वर्ष 2021 तक 38.6 ट्रिलियन रुपये, वित्त वर्ष 2022 तक 41.2 ट्रिलियन रुपये, वित्त वर्ष 2023 तक 43.2 ट्रिलियन रुपये और वित्त वर्ष 2024 तक यह 45.5 ट्रिलियन रुपये हो जाएगा.

ये भी पढ़ें:  RBI के बाद SBI देगा ग्राहकों को तोहफा! इतने रुपए तक कम सकती है होम लोन EMI


पाकिस्तानी रुपया


चीन को चुकाना है IMF से भी अधिक कर्ज
गुरुवार को ही ब्लूमबर्ग ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund) की तुलना में चीन को अगले तीन साल के दौरान दोगुना से भी अधिक कर्ज चुकाना है. इस रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान को चीन के पास करीब 6.7 अरब डॉलर का कर्ज चुकाना है. हाल ही में आईएमएफ ने पाकिस्तान के लिए 2.8 अरब डॉलर का राहत पैकेज दिया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 4, 2019, 6:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...