Home /News /business /

Cyber Attack: दुनियाभर में रिकॉर्ड 151 फीसदी बढ़े साइबर अटैक, हर कंपनी को लगा 27 करोड़ रुपये का चूना

Cyber Attack: दुनियाभर में रिकॉर्ड 151 फीसदी बढ़े साइबर अटैक, हर कंपनी को लगा 27 करोड़ रुपये का चूना

एक संगठन को औसतन 270 साइबर हमलों का शिकार होना पड़ा है.

एक संगठन को औसतन 270 साइबर हमलों का शिकार होना पड़ा है.

महामारी की शुरुआत के साथ डिजिटलीकरण के बढ़ते चलन के बीच दुनियाभर में साइबर हमलों की घटनाओं में तेजी आई है. हालांकि, इससे निपटने के लिए दुनियाभर में प्रयास हो रहे हैं.

नई दिल्ली. महामारी की शुरुआत के साथ डिजिटलीकरण (Digitalization) के बढ़ते चलन के बीच दुनियाभर में साइबर हमलों (Cyber Attacks) की घटनाओं में भी तेजी आई है. हालांकि, इससे निपटने के लिए दुनियाभर में कई कदम भी उठाए जा रहे हैं. इसके बावजूद साइबर हमले जैसी घटनाओं को रोकना मुश्किल हो रहा है. आलम यह है कि पिछले साल यानी 2021 में दुनियाभर में रैन्समवेयर के हमलों (Ransomware Attacks) में रिकॉर्ड 151 फीसदी की वृद्धि देखने को मिली.

इसका मतलब है कि एक कंपनी या संगठन को औसतन 270 साइबर हमलों का शिकार होना पड़ा है. विश्व आर्थिक मंच (WEF) के ऑनलाइन दावोस एजेंडा 2022 शिखर सम्मेलन (Online Davos Agenda Summit) के दौरान जारी ‘वैश्विक साइबर सुरक्षा आउटलुक 2022’ (Global Cybersecurity Outlook 2022) रिपोर्ट में कहा गया कि पिछले साल किसी भी एक सफल साइबर हमले की चपेट में आने वाली हर कंपनी (Company) को 36 लाख डॉलर (लगभग 27 करोड़ रुपये) का नुकसान हुआ है.

ये भी पढ़ें- E-Shram Portal : अब तक 22 करोड़ कामगारों ने कराया पंजीकरण, फायदा लेने के लिए जानें कैसे कराएं रजिस्ट्रेशन?

शेयरों में भी आई गिरावट
रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर किसी कंपनी पर साइबर हमला होता है तो इसका असर उसके शेयरों की कीमतों (Share Price) पर भी पड़ता है. इसमें कहा गया है कि किसी कंपनी पर हुए साइबर हमले के सार्वजनिक होने के बाद नैस्डेक (NASDAQ) पर कंपनी के शेयर की औसत कीमत छह महीने बाद भी करीब तीन फीसदी तक कम रही.

रैंसमवेयर सार्वजनिक सुरक्षा के लिए खतरा
डब्ल्यूईएफ ने कहा कि महामारी के कारण वैश्विक डिजिटल अर्थव्यवस्था (Global Digital Economy) बढ़ी है. हालांकि, साइबर हमले भी बढ़े हैं और साइबर सुरक्षा (Cyber Security) से जुड़े करीब 80 फीसदी दिग्गज अब रैन्समवेयर को सार्वजनिक सुरक्षा के लिए खतरा और चेतावनी (Ransomware Danger and Threat to Public Safety) मानते हैं. व्यावसायिक अधिकारियों के बीच धारणा में एक बड़ा अंतर भी आया है, उनका मानना है कि उनकी कंपनियां सुरक्षित हैं, जबकि साइबर सुरक्षा जानकार उनसे असहमत हैं.

ये भी पढ़ें- Income Tax Return: टैक्सपेयर को ऑनलाइन ही भरना होगा आईटीआर, अब फिजिकल फाइलिंग संभव नहीं – CBDT

कौशल की कमी खतरे से निपटने की राह में चुनौती
रिपोर्ट में कहा गया कि सर्वेक्षण में शामिल करीब 92 फीसदी कारोबारी अधिकारियों ने माना कि साइबर लचीलापन उद्यम जोखिम कंपनियों की प्रबंधन रणनीतियों में एकीकृत है. हालांकि, केवल 55 फीसदी साइबर सुरक्षा जानकार ही इस बात पर सहमत हुए. एक्सेंचर (Accenture) के सहयोग से किए गए सर्वेक्षण में पाया गया कि खतरे का पता चलने के बाद भी करीब दो-तिहाई लोगों के लिए अपनी टीम के भीतर कौशल की कमी के कारण साइबर सुरक्षा के खतरे से निपट पाना चुनौतीपूर्ण होगा.

Tags: Cyber Attack, Pandemic

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर