कोरोना काल में भी CEO की सैलरी में इजाफा, 12.7 मिलियन डॉलर रहा औसत पैकेज

2019 में सीईओ के उसी समूह के लिए औसत वेतन से पांच प्रतिशत अधिक है

2019 में सीईओ के उसी समूह के लिए औसत वेतन से पांच प्रतिशत अधिक है

एसोसिएटेड प्रेस के लिए इक्विलर द्वारा विश्लेषण किए गए आंकड़ो के अनुसार, एक 500 एसएंडपी कंपनी के सीईओ के लिए औसत वेतन पैकेज वर्ष 2020 में 12.7 मिलियन अमरीकी डॉलर तक पहुंच गया.

  • Share this:

नई दिल्ली. पिछले साल कोविड-19 (Covid-19) ने दुनियाभर में हर वर्ग को प्रभावित कर दिया था, ऐसे में बड़े सैलरी पैकेजस पर कार्यरत कंपनियों के सीईओ (CEO) के प्रभावित होने पर का भी खतरा मंडरा रहा था. लेकिन सौभाग्य से उन सीईओ के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर ने इस महामारी को एक असाधारण घटना के तौर पर देखा जो उनके कंट्रोल से बाहर थी. इस वजह देशभर में बोर्ड ऑफ डायरेक्टर ने जटिल फॉर्मूलों में बदलाव किए जो उनके सीईओ के वेतन निर्धारित करते हैं और ऐसे स्टेप्स भी उठाए जो संकट से उत्पन्न नुकसान की भरपाई करने में मदद करती है. नतीजा यह हुआ कि सबसे बड़ी कंपनियों के सीईओ के लिए पिछले साल फिर से वेतन पैकेज बढ़े, भले ही महामारी ने अर्थव्यवस्था को सबसे खराब तिमाही के रिकॉर्ड में भेज दिया और दुनिया भर में कॉर्पोरेट मुनाफे को कम दिया.


एसोसिएटेड प्रेस के लिए इक्विलर द्वारा विश्लेषण किए गए आंकड़ो के अनुसार, एक 500 एसएंडपी कंपनी के सीईओ के लिए औसत वेतन पैकेज वर्ष 2020 में 12.7 मिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गया. यह वर्ष 2019 में सीईओ के उसी समूह के लिए औसत वेतन से पांच प्रतिशत अधिक है और पिछले साल के सर्वेक्षण में 4.1 फीसदी की वृद्धि देखी गई थी.


इन्हें शामिल किया था गया


एपी के मुआवजे के अध्ययन में एसएंडपी 500 कंपनियों के सीईओ के वेतन डाटा शामिल था, जिन्होंने अपनी कंपनियों में कम से कम दो साल की वित्तीय सेवा पूरी की है, जिन्होंने 1 जनवरी से 30 अप्रैल के बीच प्रॉक्सी स्टेटमेंट दाखिल किया था. इनमें कुछ उच्च वेतन पाने वाले सीईओ शामिल नहीं है जो उस मानदंड को पूरा नहीं करते हैं.


इधर लाखों कर्मचारियों की नौकरियां भी गई 


हालांकि इस बीच नियमित कर्मचारियों ने भी लाभ देखा, लेकिन उनके मालिकों के समान दर पर नहीं. वहीं लाखों अन्य लोगों ने तो अपनी नौकरी भी खो दी. सरकार से बाहर के सभी वर्कर्स के वेतन और लाभ में पिछले साल केवल 2.6 फीसदी की वृद्धि हुई. यह अमेरिकी सरकार के आंकड़ो के अनुसार है जो विभिन्न उद्योगों के अनुसार है जो विभिन्न उद्योगों के बीच श्रमिकों के स्थानांतरण के प्रभाव की उपेक्षा करता है. यह एक महत्वपूर्ण अंतर है क्योंकि घर से काम कर सकने वाले पेशेवरों की तुलना में अर्थव्यवस्था के बंद होने के कारण कम वेतन पाने वाले अधिक लोगों ने अपनी नौकरी खो दी. 

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज