बड़ी खबर- अब इस टैक्स को पूरी तरह से हटाने के लिए संसदीय समिति ने सिफारिश की

बड़ी खबर- अब इस टैक्स को पूरी तरह से हटाने के लिए संसदीय समिति ने सिफारिश की
संसदीय समिति ने सिफारिश की

कोरोना के इस संकट में विदेशी निवेश बढ़ाने के लिए संसदीय समिति ने एलटीसीजी (LTCG -Long Term Capital Gains) को लेकर नए सुझाव दिए है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 15, 2020, 4:55 PM IST
  • Share this:
मुंबई. स्टार्टअप में निवेश बढ़ाने के लिए संसदीय समिति ने सिफारिश जारी की है. इसमें कहा गया है कि एलटीसीजी (LTCG -Long Term Capital Gains) टैक्स को दो साल के लिए खत्म करना चाहिए. ऐसा करने से इस कोरोना संकट में निवेश बढ़ाने में मदद मिलेगी. आपको बता दें कि लांग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स को समझने के लिए लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स को समझना होगा. दरअसल जब आप किसी चल-अचल संपत्ति को बेचकर मुनाफा कमाते हैं तो उस मुनाफे को कैपिटल गेन्स कहते हैं. अगर आप संपत्ति एक निश्चित अवधि के बाद बेचते हैं तो इसे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स कहते हैं. लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स के लिए ये निश्चित अवधि बदलती रहती है.

दरअसल संपत्ति के लिहाज से लॉन्ग टर्म तय होता है. जैसे शेयर को अगर एक साल बाद बेचा जाए तो मुनाफा लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स होगा जबकि बॉन्ड तीन साल के बाद बेचे जाने पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स के लिए eligible होता है.

ये भी पढ़ें- 60 साल में पहली बार मंदी की चपेट में आएगा एशिया, भारतीय अर्थव्यवस्था में 9% की गिरावट

किसी संपत्ति के लिए यह अवधि तीन साल हो सकती है तो किसी संपत्ति के लिए दो साल. किसी संपत्ति के लिए एक साल भी. हम किसी संपत्ति के मामले में Long Term Capital Gain किसे मानेंगे, सबसे पहले यही जानते हैं.





किसे कहते हैं स्टार्टअप- आम शब्दों में कहें तो स्टार्टअप का मतलब नई कंपनी को शुरू करना होता. ऐसी कंपनियों को युवा बिजनेसमैन स्वयं या दो तीन लोगों के साथ मिलकर शुरू करते है. शुरू करने वाला व्यक्ति ही कंपनी में शुरुआती पूंजी लगाने के साथ कंपनी का संचालन भी करता है. ये कंपनी अपेक्षाकृत नए प्रोडक्ट्स या सर्विस पर काम करती है, ऐसी सर्विसेज जो उस समय बाजार में उपलब्ध नहीं होती है.

अगर सरकार की परिभाषा के तौर पर कहें तो स्टार्टअप वह कंपनी है जो भारत में बीते 5 साल के अंदर रजिस्टर हुई है और उसका टर्न ओवर किसी भी फाइनेंशियल ईयर में 25 करोड़ से अधिक नहीं रहा है. यह कंपनी इनोवेशन, डेवलपमेंट, डिप्लॉयमेंट, नए प्रोडक्ट्स का काम करती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज