बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि को लगा झटका! शहरों और गांवों में भी घटी ग्रोथः रिपोर्ट

बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि की सेल्स पर लगातार दबाव जारी है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शहरों में पतंजलि आयुर्वेद के उत्पादों की बिक्री कम हो रही है तो वहीं गांवों में भी इसकी ग्रोथ एक तिहाई तक कम हो गई है.

News18Hindi
Updated: August 5, 2019, 2:28 PM IST
बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि को लगा झटका! शहरों और गांवों में भी घटी ग्रोथः रिपोर्ट
बाबा रामदेव के सितारे गर्दिश में
News18Hindi
Updated: August 5, 2019, 2:28 PM IST
बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि की सेल्स पर लगातार दबाव जारी है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक,  शहरों में पतंजलि आयुर्वेद के उत्पादों की बिक्री कम हो रही है तो वहीं गांवों में भी इसकी ग्रोथ एक तिहाई तक कम हो गई है. इसकी वजह प्राकृतिक उत्पादों का बाजार बढ़ना भी रहा है. हाल ही में जारी एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है.  एक रिसर्च फर्म के मुताबिक बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद के उत्पादों की बिक्री पिछले वित्त वर्ष में शहरों में 2.7 फीसदी तक कम हो गई. वहीं ग्रामीण इलाकों में इसमें 15.7 फीसदी की वृद्धि देखी गई है.

अंग्रेजी के बिजनेस न्यूजपेपर इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक, रिसर्च फर्म WPP के मुताबिक बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद के उत्पादों की बिक्री पिछले वित्त वर्ष में शहरों में 2.7 फीसदी तक कम हो गई. रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में प्राकृतिक उत्पादों की बिक्री में कुल 3.5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. पिछले साल की ही तरह इस साल भी रूरल मार्केट में 5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. आपको बता दें कि एक साल पहले पतंजलि की ग्रोथ शहरों में 21.1 फीसदी और ग्रामीण इलाकों में 45.2 फीसदी थी.

ये भी पढ़ें: 13 हजार में शुरू कर सकते हैं ये बिजनेस, होगी अच्छी कमाई

मल्टीनेशनल कंपनियों ने पतंजलि की चुनौती का सामना करने के लिए हर्बल ब्रैंड्स की शुरुआत की है क्योंकि लोगों का रुझान प्राकृतिक उत्पादों की ओर बढ़ा है. मार्केट लीडर HUL ने भी हेयरकेयर और स्किन केयर के आयुर्वेदिक ब्रैंड लॉन्च किए हैं. कोलगेट ने भी वेदशक्ति के नाम से नया टूथपेस्ट लॉन्च कर दिया है.

रुचि सोया भी खरीद चुकी है पतंजलि
योग गुरु बाबा रामदेव की अगुआई वाला पतंजलि समूह अब तक के अपने सबसे बड़े अधिग्रहण में खाद्य तेल कंपनी रुचि सोया का मालिक बनने जा रहा है. राष्ट्रीय कंपनी न्यायाधिकरण (NCLT) ने रुचि सोया के लिए पतंजलि की 4,350 करोड़ रुपये की संशोधित बोली को मंजूरी दे दी है. पहले इस खरीद की दौड़ में अडानी समूह की कंपनी अडानी विलमर भी थी, लेकिन उसके बोली से हटने के बाद रुचि सोया के लिए पतंजलि एकमात्र बोलीदाता रह गई थी. कंपनी के ऊपर करीब 9,345 करोड़ रुपये का कर्ज है.

ये भी पढ़ें: SBI की चेतावनी! बैंक अकाउंट से ऐसे खाली किए जा रहे हैं पैसे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 5, 2019, 2:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...