MobiKwik भी लाएगी अपना IPO! 1800 कराेड़ जुटाने का लक्ष्य, जानें बाजार में कब आएगा

MobiKwik से हर रोज 10 लाख से अधिक ट्रांजैक्शन होते हैं.

MobiKwik से हर रोज 10 लाख से अधिक ट्रांजैक्शन होते हैं.

प्राइमरी मार्केट में पब्लिक इश्यूज (Public issue )की जैसे बाढ़ आई हुई है. इस साल अब तक 16 कंपनियाें ने अपने IPO लॉन्च किए है वहीं अब MobiKwik भी सिंतबर तक अपना IPO लॉन्च करने की तैयारियाें में जुटी हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 22, 2021, 8:05 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. डिजिटल वॉलेट स्टार्टअप माेबिक्विक (MobiKwik) भी आईपीओ लाने वाली कंपनियाें की रेस में शुमार हाे गई. जानकारी के अनुसार कंपनी 20 से 25 कराेड़ डॉलर यानि भारतीय मुद्रा में 1500 से 1800 कराेड़ रुपये जुटाने के लिए IPO ला रही है. जिससे कंपनी का वैल्यूएशन 1 बिलियन डॉलर यानी 100 करोड़ डॉलर तक पहुंच जाएगा. प्राइमरी मार्केट में पब्लिक इश्यूज की जैसे बाढ़ आई हुई है. इस साल अब तक 16 कंपनियाें ने अपने आईपीओ लॉन्च किए है वहीं MobiKwik भी सिंतबर या उससे भी पहले अपना IPO लॉन्च करने की तैयारियाें में जुटी हुई है. सूत्रों के अनुसार इसके लिए कंपनी मई, 2021 में मार्केट रेगुलेटर सेबी के पास ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रोस्पेक्टस (DRHP) फाइल करेगी. हालांकि, कंपनी ने अभी आधिकारिक तौर पर इस IPO के संबंध में अभी कुछ नहीं कहा है.



pre-IPO फंडिंग राउंड भी लॉन्च करने की तैयारी 



सूत्र बतातें है कि डिजिटल पेमेंट स्टार्टअप माेबिक्विक की याेजना इस प्रस्तावित आईपीओ से पहले Pre IPO फंडिंग राउंड भी लॉन्च करने की है, जिससे इसका वैल्यूएशन 70 कराेड़ डॉलर यानि की 5063 कराेड़ रुपये से अधिक हाे जाएगा.



ये भी पढ़ें - Survey: काेविड के चलते टू-टियर शहराें में दाे गुना बढ़ा ऑनलाइन प्रॉपट्री सेलिंग का ट्रेंड






हर दिन 10 लाख से अधिक ट्रांजैक्शन





आपको बता दें कि MobiKwik से हर रोज 10 लाख से अधिक ट्रांजैक्शन होते हैं यूजर इस प्लेटफॉर्म के जरिए अपना फोन रिचार्ज कराने से लेकर बिल जमा कराने से लेकर कई तरह के डिजिटल ट्रंजैक्शन कर सकते हैं. MobiKwik से 30 लाख से अधिक ट्रेडर्स और रिटेलर्स जुड़े हैं और इसके उपभाेक्ताओं की संख्या 1.07 करोड़ से भी  अधिक है.



इन कंपनियाें से है मुकाबला



वर्ष 2009 में स्थापित इस स्टार्टअप में सिकाेईया कैपिटल(Sequoia capital) और बजाज फाइनेंस लिमिटेड का बड़ा निवेश है. MobiKwik का कॉम्पिटिशन पेटीएम(Paytm), फाेनपे(Phonepe), और व्हाट्सऐप पे (Whatsapp pay) जैसी कंपनियाें से है.



ये भी पढ़ें -  नौकरीपेशा के लिए अच्‍छी खबर! कंपनी बदलने पर मिलेगा ग्रैच्युटी ट्रांसफर का विकल्‍प, जानें इस बारे में सबकुछ





163 ट्रिलियन रुपये तक पहुंच सकता है डिजिटल लेनदेन



पीडब्ल्यूसी की रिपाेर्ट के अनुसार वर्ष 2022-2030 तक भारत के डिजिटल भुगतान बाजार में लेनदेन का मूल्य 163 ट्रिलियन रुपये (2.3 ट्रिलियन डॉलर) तक पहुंच सकता है. यह क्षेत्र तेजी से विदेशी टेक दिग्गजाें के लिए एक प्रॉक्सी युद्ध का मैदान बनता जा रहा है. फेसबुक इंक के व्हाट्सएप काे नंवबर में स्थानीय रूप से संचालित करने की अनुमति के साथ, गूगल पे, वॉलमार्ट इंक के फाेनपे और पेटीएम के बीच प्रतिस्पर्धा है. जुलाई में MobiKwik के काे-फाउंडर बिपिन प्रीत सिंह ने भारतीय नियामकाें से स्थानीय कंपनियाें के पाेषण करे और विदेशी प्रतिस्पर्धियाें पर नजर रखने का आह्वान किया था.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज