अब इंश्योरेंस बाजार में उतरेंगे Paytm के विजय शेखर शर्मा, 570 करोड़ रुपये में खरीदेंगे यह कंपनी

अब इंश्योरेंस बाजार में उतरेंगे Paytm के विजय शेखर शर्मा, 570 करोड़ रुपये में खरीदेंगे यह कंपनी
पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा

Paytm और उसके संस्थापक विजय शेखर शर्मा (Vijay Shekhar Sharma) रहेजा QBE जनरल इंश्योरेंस का 100 फीसदी अधिग्रहण करेंगे. 570 करोड़ रुपये के इस ​अधिग्रहण में शर्मा की हिस्सेदारी 51% होगी. जबकि अन्य 49% की हिस्सेदारी पेटीएम की पेरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस की होगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. मोबाइल वॉलेट​ बिजनेस और ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के बाद पेटीएम (Paytm) अब इंश्योरेंस बाजार में भी उतरने की तैयारी में है. पेटीएम और इसके संस्थापक विजय शेखर शर्मा, रहेजा क्यूबीई जनरल इंश्योरेंस (Raheja QBE General Insurance) कंपनी की 100 फीसदी हिस्सेदारी खरीदेंगे. यह डील 570 करोड़ रुपये की होगी. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, अधिग्रहण के बाद इस इंश्योरेंस कंपनी में विजय शेखर शर्मा (Vijay Shekhar Sharma) की कुल हिस्सेदारी 51 फीसदी होगी. जबकि, पेटीएम की पेरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस (One97 Communications) बाकी की हिस्सेदारी खरीदेगी. हालांकि, अभी इस डील को इंश्योरेंस रेग्युलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (IRDAI) की मंजूरी मिलनी बाकी है.

एनबीएफसी लाइसेंस लेने की तैयारी में पेटीएम
टाइम्स ऑफ इंडिया ने अपनी एक रिपोर्ट में विजय शेखर शर्मा के हवाले से लिखा कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक (Paytm Payments Bank) शुरू होने पर उनके पास वन97 कम्युनिकेशंस की स्टॉक्स थे, उसी की फाइनेंसिंग से वो इस अधिग्रहण में पूंजी लगा रहे हैं. सूत्रों के हवाले से इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है उनकी इस कंपनी ने कंपनी गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) के लाइसेंस के लिए भी आवेदन किया है.

उनकी कंपनी अब ब्रॉडर फाइनेंशियल सर्विस बिजनेस तक अपनी पहुंचा बनाना चाहती है. हालांकि, अभी तक आरबीआई ने एनबीएफसी लाइसेंस की मंजूरी नहीं दी है. पेटीएम का कहना है कि एनबीएफसी लाइसेंस लेंडिंग ​वर्टिकल बिल्ड करने के प्लान का हिस्सा है.
यह भी पढ़ें: चीन की वजह से स्मार्ट प्रीपेड मीटर्स लगाने में होगी देरी, 25 फीसदी तक बढ़ सकता है दाम



इन दो कंपनियों का ज्वाइंट वेंचर है रहेजा क्यूबीई जनरल इंश्योरेंस
बता दें कि Raheja QBE प्रिज़्म जॉन्सन (Prism Jhonson) और ऑस्ट्रेलिया की क्यूबीई इंश्योरेंस ग्रुप (QBE Insurance Group, Australia) का ज्वाइंट वेंचर था. प्रिज़्म जॉन्सन बीएसई​ लिस्टेड कंपनी (BSE Listed Companies) है और कंपनी में इसकी हिस्सेदारी 51 फीसदी की थी. अन्य 49 फीसदी की हिस्सेदारी क्यूबीई इंश्योरेंस ग्रुप के पास है. एक स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में प्रिज़्म जॉन्सन ने कहा कि वो अपनी हिस्सेदारी पेटीएम और उसके संस्थापक को 290 करोड़ रुपये में बचेगी.

लंबे समय से इंश्योरेंस बाजार में उतरना चाहती थी पेटीएम
पेटीएम एक लंबे समय से जनरल इंश्योरेंस बिजनेस में उतरना चाहती थी. कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया था कि पेटीएम अपनी खुद की इंश्योरेंस वेंचर शुरू करना चाहती है और IRDAI से लाइसेंस के लिए अप्लाई करने पर विचार कर रही है. इसी साल कंपनी को इंश्योरेंस ब्रोकरेज का लाइसेंस प्राप्त करने में सफलता मिली है.

यह भी पढ़ें: अटल पेंशन योजना में बड़ा बदलाव! अब कभी भी बदली जा सकेगी पेंशन राशि

पेटीएम के अध्यक्ष अमित नय्यर ने कहा कि हमनें अधिग्रहण का रास्ता इसलिए चुना ताकि जनरल इंश्योरेंस के क्षेत्र में जल्दी उतर सकें. इससे हमें करीब 24 से 30 महीने बचाने में समय बचाने में मदद मिलेगी. रहेजा क्यूबीई के मौजूदा सीईओ पंकज अरोड़ा ही नय्यर के साथ मिलकर इस बिजनेस को हेड करेंगे. नय्यर फिलहाल पेटीएम के फाइनेंशियल सर्विस बिजनेस को हेड करते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading