Paytm Board ने 22,000 करोड़ रुपये के IPO को दी सैद्धंतिक मंजूरी, जानें कब आएगा पब्लिक ऑफर

पेटीएम आईपीओ के जरिये 22 हजार करोड़ रुपये जुटाने की तैयारी कर रही है.

पेटीएम आईपीओ के जरिये 22 हजार करोड़ रुपये जुटाने की तैयारी कर रही है.

डिजिटल पेमेंट सर्विस प्रोवाइडर पेटीएम के आईपीओ (Paytm IPO) में फ्रेश इश्यू के साथ-साथ सेकेंडरी शेयर सेल भी शामिल होगा. इसमें पेटीएम के इंवेस्‍टर्स रोटेशन के आधार पर शेयर बेच (Share Sell) सकते हैं. लिस्टिंग के दौरान पेटीएम स्टॉक स्प्लिट (Stock Split) भी कर सकती है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. देश की डिजिटल पेमेंट और फाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी पेटीएम के बोर्ड ने 22,000 करोड़ रुपये के पब्लिक ऑफर (Paytm IPO) को सैद्धांतिक मंजूरी दे दी है. पेटीएम की पेरेंट कंपनी One97 कम्युनिकेशंस के बोर्ड की बैठक 28 मई 2021 को हुई थी. कंपनी का यह आईपीओ देश का अब तक का सबसे बड़ा पब्लिक ऑफर होगा. इस IPO के लिए कंपनी की नजर 25-30 अरब डॉलर वैल्यूएशन पर है. बता दें कि 2019 में जब कंपनी में सॉफ्टबैंक (Soft Bank) ने 16 अरब डॉलर और एंट फाइनेंशियल (Ant Financial) ने 1 अरब डॉलर का निवेश किया था, तब पेटीएम का वैल्यूएशन 16 अरब डॉलर था.

डिजिटल पेमेंट कंपनी लिस्टिंग के दौरान स्प्लिट कर सकती है स्‍टॉक

पेटीएम अभी डिजिटल पेमेंट सर्विस में नंबर वन कंपनी है. कंपनी ने 2010 में बिल पेमेंट और मोबाइल रिचार्ज सर्विस शुरू की थी. वहीं, 2014 में पेटीएम ने मोबाइल वॉलेट लॉन्च किया था. बताया जा रहा है कि कंपनी इश्यू का आवेदन जून या जुलाई 2021 में कर सकती है. वहीं, आईपीओ अक्टूबर से दिसंबर 2021 के बीच आने वाला है. आईपीओ में फ्रेश इश्यू के साथ-साथ सेकेंडरी शेयर सेल भी शामिल होगा. इसमें पेटीएम के इंवेस्‍टर्स रोटेशन के आधार पर शेयर बेच सकते हैं. लिस्टिंग के लिए बोर्ड की अनुमति मिलने के बाद पेटीएम के इंवेस्‍टर्स को आईपीओ से जुड़ी दूसरी मंजूरियां भी लेनी होंगी. सूत्रों के मुताबिक, लिस्टिंग के दौरान पेटीएम स्टॉक स्प्लिट कर सकती है.

ये भी पढ़ें- किसानों के लिए अच्‍छी खबर! PM-KISAN की दो किस्‍तों का एकसाथ ले सकते हैं फायदा, जानें कैसे
वित्‍त वर्ष 2023 तक पेटीएम का रेवेन्‍यु बेस हो जाएगा 1 अरब डॉलर

वित्‍त वर्ष 2020 में पेटीएम की आमदनी 3,280 करोड़ रुपये रही, जबकि इसका नुकसान 30 फीसदी घटकर 2,942 करोड़ रुपये पर आ गया. वित्‍त वर्ष 2023 तक कंपनी का रेवेन्‍यु बेस दोगुना होकर 1 अरब डॉलर पहुंच सकता है. इसमें नॉन पेमेंट रेवेन्‍यु की हिस्सेदारी 33 फीसदी है. इस आईपीओ के जरिये पेटीएम ने अपना वैल्यूएशन 25 से 30 अरब डॉलर यानी 1.80 लाख करोड़ रुपये से 2.20 लाख करोड़ रुपये के बीच करने का लक्ष्य रखा है. पेटीएम का मुकाबला भारत में वालमार्ट की फोनपे (PhonePe), गूगल पे (Google Pay), अमेजन पे (Amazon Pay) और फेसबुक के वॉट्सऐप पे (WhatsApp Pay) ये है. पेटीएम के पास 2 करोड़ से ज्यादा मर्चेंट पार्टनर्स हैं. इसके ग्राहक महीने में 1.4 अरब लेनदेन करते हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज