UPI की तरह बनेगा पेमेंट नेटवर्क, NUE के लिए अप्लाई करेंगे Paytm, ओला और इंडसइंड बैंक

न्यू अंब्रेला एंटिटी में पेटीएम की प्रमुख भूमिका होने की संभावना है.

न्यू अंब्रेला एंटिटी में पेटीएम की प्रमुख भूमिका होने की संभावना है.

पेटीएम (Paytm), इंडसइंड बैंक, ओला फाइनेंशियल, सेंट्रम फाइनेंस, जेटापे और ईपीएस एकसाथ कंसोर्टियम में हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2021, 1:28 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पेटीएम (Paytm), ओला फाइनेंशियल (Ola Financial) और इंडसइंड बैंक (IndusInd Bank) एक न्यू अंब्रेला एंटिटी (New Umbrella Entity) लाइसेंस के लिए आवेदन करने की योजना बना रहे हैं. इससे कंपनियां नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा संचालित यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) जैसा एक पेमेंट नेटवर्क बना सकेगी. इस बीच, आरबीआई ने न्यू अंब्रेला एंटिटी (NUE) के लिए आवेदन की तारीख को बढ़ाकर 31 मार्च तक कर दिया है.

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, इस ग्रुप में जेटापे (Zeta Pay), इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट सर्विस (Electronic Payment Services) और सेंट्रम फाइनेंस (Centrum Finance) के शामिल होने की उम्मीद है हैं. इसमें पेटीएम की प्रमुख भूमिका होने की संभावना है. सूत्रों ने कहा कि यह कंसोर्टियम 26 फरवरी को भारतीय रिजर्व बैंक को अपना प्रस्ताव सौंप सकती है.

ये भी पढ़ें- SBI ने 44 करोड़ ग्राहकों को किया अलर्ट! भूलकर भी ना करें ये काम, वरना खाली हो सकता है आपका बैंक अकाउंट



NUE की रेस में हैं ये कंसोर्टियम ऑफ कंपनीज
>> टाटा ग्रुप, एचडीएफसी बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, मास्टकार्ड, भारती, पे यू
>> अमेजन, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, पाइन लैब्स, बिलडेस्क और वीजा
>> पेटीएम, इंडसइंड बैंक, ओला फाइनेंशियल, सेंट्रम फाइनेंस, जेटापे और ईपीएस

ये भी पढ़ें- रेगुलर इनकम के लिए Saving Schemes में करें निवेश, जानें POMIS, SCSS, PMVVY या FD कौन दे रहा ज्यादा ब्याज?

दो से ज्यादा NUE को आरबीआई नहीं जारी करेगा लाइसेंस
रिपोर्ट के मुताबिक, आवेदन जमा होने के बाद रिजर्व बैंक कम से कम छह महीने के लिए उनके प्रस्ताव को अध्ययन करेगा. माना जा रहा है कि रिजर्व बैंक 2 से ज्यादा न्यू अंब्रेला एंटिटी को लाइसेंस जारी नहीं करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज