Paytm पर अगले महीने से खरीद पाएंगे ये स्कीम, जो देंगी बैंकों से ज्यादा मुनाफा

Paytm पर अगले महीने से खरीद पाएंगे ये स्कीम, जो देंगी बैंकों से ज्यादा मुनाफा
PayTM के जरिए कर सकते हैं कमाई- अगर आप PayTM इस्तेमाल करते हैं तो यह जरूरी नहीं कि इससे सिर्फ खरीदारी ही करें. आप PayTM का इस्तेमाल कर कमाई भी कर सकते हैं. PayTM इन दिनों बिजनेस पार्टनर बनाकर युवाओं को कमाई का अवसर दे रहा है. इसके अलावा आप नए बिजनेस से लेकर पुराने बिजनेस सभी को भी PayTM की मदद से आगे बढ़ा सकते हैं.

आपको बता दें कि बैंक में एफडी कराने पर जहां 7-9 फीसदी तक का रिटर्न मिलता है. वहीं, म्युचूअल फंड में 15 फीसदी तक का सालाना रिटर्न मिल जाता है.

  • Share this:
अगले दो हफ्तों में पेटीएम का म्यूचुअल फंड प्लेटफॉर्म शुरू हो जाएगा. एएमएफआई के म्यूचुअल फंड की सालाना समिट में पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर ने सीएनबीसी-आवाज़ से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा कि म्यूचुअल फंड प्लेटफॉर्म की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है और जिन ग्राहकों ने हमारे साथ प्री-रजिस्ट्रेशन किया गया है, उनके लिए अगले दो हफ्तों में प्लेटफॉर्म खोल दिया जाएगा. आपको बता दें कि बैंक में एफडी कराने पर जहां 7-9 फीसदी तक का रिटर्न मिलता है. वहीं, म्युचूअल फंड में 15 फीसदी तक का सालाना रिटर्न मिल जाता है. हालांकि, म्युचूअल फंड में मिलने वाला रिटर्न शेयर बाजार की चाल पर निर्भर करता है.

क्या होता है म्यूचुअल फंड
म्यूचुअल फंड कंपनियां निवेशकों से पैसे जुटाती हैं. इस पैसे को वे शेयरों में निवेश करती हैं. इसके बदले वे निवेशकों से चार्ज भी लेती हैं. जो लोग शेयर बाजार में निवेश के बारे में बहुत नहीं जानते, उनके लिए म्यूचुअल फंड निवेश का अच्छा विकल्प है. निवेशक अपने वित्तीय लक्ष्य के हिसाब से म्यूचुअल फंड स्कीम चुन सकते हैं.

म्यूचुअल फंड में कैसे करें निवेश?
आप किसी म्यूचुअल फंड की वेबसाइट से सीधे निवेश कर सकते हैं. अगर आप चाहें तो किसी म्यूचुअल फंड एडवाइजर की सेवा भी ले सकते हैं. अगर आप सीधे निवेश करते हैं तो आप म्यूचुअल फंड स्कीम के डायरेक्ट प्लान में निवेश कर सकते हैं. अगर आप किसी एडवाइजर की मदद से निवेश कर रहे हैं तो आप किसी स्कीम के रेगुलर प्लान में निवेश करते हैं.



Paytm साथ मिलकर हर महीने करें हजारों में कमाई, जानें क्या है प्रोसेस?


अगर आप सीधे निवेश करना चाहते हैं तो आपको उस म्यूचुअल फंड की वेबसाइट पर जाना पड़ेगा. आप उसके दफ्तर में भी अपने दस्तावेज के साथ जा सकते हैं. किसी डायरेक्ट प्लान में निवेश करने का फायदा यह है कि आपको कमीशन नहीं देना पड़ता है. इसलिए लंबी अवधि के निवेश में आपका रिटर्न बहुत बढ़ जाता है. इस तरीके से निवेश करने में एक दिक्कत यह है कि आपको खुद रिसर्च करना पड़ता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज