PB Fintech IPO: आईपीओ से 6500 करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी, पॉलिसीबाजार की पेरेंट कंपनी है पीबी फिनटेक

PB Fintech IPO: Preparing to raise Rs 6500 crore from IPO, PB Fintech is the parent company of Policybazaar

IPO Market में इस समय लगातार तेजी बनी हुई. इस साल रिकॉर्ड संख्या में आईपीओ लॉन्च हुए हैं. साथ ही निवेशकों का भी रिस्पॉन्स अच्छा मिला है. अब पॉलिसीबाजार की पेरेंट कंपनी अपना आईपीओ लाने जा रही है.

  • Share this:
    PB Fintech IPO: इस समय IPO Market के अच्छे दिन चल रहे हैं. धड़ाधड़ आईपीओ लॉन्च हो रहे हैं और निवेशकों की तरफ से उन्हें रिस्पॉन्स भी अच्छा मिल रहा है. इसी कड़ी में ऑनलाइन इंश्योरेंस मार्केटप्लेस पॉलिसी बाजार (Policybazar) की पेरेंट कंपनी PB Fintech IPO से 6500 करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी में है. CNBC-TV18 के मुताबिक, कंपनी ने 5 जुलाई की एक्सट्राऑर्डिनरी जनरल मीटिंग (EGM) में बोर्ड से IPO लाने की मंजूरी ले ली थी.



    रेगुलेटर को दी गई जानकारी में यह भी बताया गया है कि PB Fintech एक पब्लिक लिमिटेड कंपनी में तब्दील हो रही है. इससे पहले मनीकंट्रोल ने खबर दी थी कि पॉलिसीबाजार जुलाई में ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) दाखिल कर सकता है. कंपनी की योजना इस साल नवंबर दिसंबर में IPO लाने की है. इश्यू के लिए कंपनी का वैल्यूएशन 4-5 अरब डॉलर रह सकता है जो पहले से तय वैल्यूएशन के मुकाबले ज्यादा है.

     2020 में पॉलिसीबाजार को 218 करोड़ रुपए का घाटा



    फिस्कल ईयर 2020 में पॉलिसीबाजार को 218 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था. इस दौरान कंपनी की आमदनी 515 करोड़ रुपए थी. इससे एक साल पहले फिस्कल ईयर 2019 में कंपनी को 213 करोड़ रुपए का लॉस हुआ था और 310 करोड़ रुपए की आमदनी हुई थी. कंपनी पर नजर रखने वाले एक शख्स ने बताया कि पॉलिसीबाजार की आमदनी अब दोगुनी हो गई है और लॉस घटकर आधा रह गया है.

    यह भी पढ़ें- Glenmark IPO: 27 जुलाई को आ रहा एक और कमाई का मौका! निवेश करने से पहले जाने जरूरी बातें

    साल 2008 में शुरू हुई थी पॉलिसी बाजार

    पॉलिसी बाजार की शुरुआत 2008 में याशीष दहिया ने की थी. वह आर्मी परिवार के बैकग्राउंड से आते हैं और वह भी आर्मी ज्वाइन करना चाहते थे. यही वजह रही थी कि डोकलाम संघर्ष के दौरान उन्होंने चीनी इनवेस्टर्स से फंडिंग लेने से इनकार कर दिया. भारत और चीन के बीच बढ़ते राजनीतिक तनाव को देखते हुए वे कंपनी में चीनी निवेशक टेनसेंट की हिस्सेदारी को भी खरीदना चाहते थे.

    यह भी पढ़ें- पेंशन फंड को अब IPO और टॉप 200 लिस्टेड कंपनियों में निवेश की इजाजत मिलेगी

    पॉलिसी बाजार ने अपने बिजनेस में सेगमेंट में तेजी से जगह बनाई है. साथ ही यह अपने बिजनेस का लगातार विस्तार भी कर रहा है. इस लिहाज जानकार इसे निवेश के लिहाज से अच्छा मान रहे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.