• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • कोरोना संकट के बीच जुलाई में प्रमुख सेक्‍टर्स के प्रदर्शन में हुआ सुधार! उत्‍पादन में हुई बढ़ोतरी

कोरोना संकट के बीच जुलाई में प्रमुख सेक्‍टर्स के प्रदर्शन में हुआ सुधार! उत्‍पादन में हुई बढ़ोतरी

एसोचैम के एनालिसिस के मुताबिक, कोरोना संकट के बीच जुलाई 2020 के दौरान प्रमुख सेक्‍टर्स के उत्‍पादन में तेज सुधर हुआ है.

एसोचैम के एनालिसिस के मुताबिक, कोरोना संकट के बीच जुलाई 2020 के दौरान प्रमुख सेक्‍टर्स के उत्‍पादन में तेज सुधर हुआ है.

वाणिज्‍य व उद्योग मंडल एसोचैम (ASSOCHAM) के मुताबिक, कोरोना संकट के बीच जुलाई 2020 के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) के अहम क्षेत्रों के उत्पादन में हालात सुधरे हैं. एसोचैम का कहना है कि इस दौरान सीमेंट, स्‍टील और कोयला जैसे अहम सेक्‍टर्स में काफी तेज सुधार दर्ज किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    नई दिल्ली. वाणिज्‍य व उद्योग मंडल एसोचैम (ASSOCHAM) का कहना है कि कोरोना संकट के बीच जुलाई में देश की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) के अहम सेक्‍टर्स में गिरावट का सिलसिला धीमा पड़ा है. एसोचैम के विश्लेषण के मुताबिक, जुलाई 2020 के दौरान सीमेंट, स्‍टील और कोयला जैसे अहम सेक्‍टर्स में काफी तेज सुधार देखा गया है. हालांकि, सालाना आधार पर इनके आंकड़े गिरावट दिखा रहे हैं, लेकिन इनमें तेजी से सुधार (Increasing Performance) आया है.

    कोयला उत्‍पादन में गिरावट सुधरकर 5.7% और सीमेंट में 13.5% रह गई
    एसोचैम के मुताबिक, वित्‍त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही के दौरान इन क्षेत्रों में भारी गिरावट दर्ज की गई थी. बता दें कि अप्रैल-जून 2020 तिमाही में देश के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में 23.9 फीसदी की तेज गिरावट दर्ज की गई है. कोयला उत्पादन (Coal Production) में 2020-21 की पहली तिमाही के दौरान 15 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. वहीं, जुलाई में यह गिरावट थमी और 5.7 फीसदी रह गई. इसी प्रकार अप्रैल-जून में 38.3 फीसदी की तेज गिरावट के बाद सीमेंट उत्पादन (Cement Production) में जुलाई के दौरान गिरावट 13.5 फीसदी रह गई.

    ये भी पढ़ें- रेलवे ने घटाईं कई यात्री सुविधाएं! अब AC कोच के पैसेंजर्स को साथ लाना होगा अपना कंबल-चादर

    अर्थव्‍यवस्‍था के प्रमुख क्षेत्र नए हालात में भी बेहतर तरीके से बढ़ रहे हैं आगे
    उद्योग मंडल की ओर से कहा गया है कि देश कोविड-19 के खिलाफ मजबूती से लड़ाई लड़ रहा है. कोरोना वायरस के अर्थव्यवस्था पर असर को कम से कम स्‍तर पर रखने की हरसंभव कोशिश की जा रही है. एसोचैम ने कहा कि कोरोना संकट (Coronavirus Crisis) के बीच अब अर्थव्यवस्‍था के प्रमुख क्षेत्र नई परिस्थितियों में बेहतर तरीके से आगे बढ़ रहे हैं. एसोचैम के महासिचव दीपक सूद ने कहा कि अब कारखाने में काम करने वाले श्रमिकों (Labour) से लेकर कार्यालय जाने वाले कर्मचारी (Workers) व अधिकारी (Officers) मौजूदा हालात के मुताबिक खुद को ढालने में लगे हैं.

    ये भी पढ़ें- अब इस सेक्‍टर में चीन को झटका देगा भारत, छीनेगा 7.3 लाख करोड़ रुपये का बिजनेस

    इस्‍पात उत्‍पादन में गिरावट हुई कम, 56.8% से सुधरकर 16.4% रह गई
    दीपक सूद ने कहा कि श्रमिकों, कर्मचरियों और अधिकारियों में विश्वास बढ़ रहा है. इससे आने वाले समय में कोरोना वायरस के कारण बने मौजूदा हालात से उबरने में बहुत मदद मिलेगी. उद्योग मंडल ने कहा है कि अप्रैल-जून में 56.8 फीसदी की गिरावट के बाद जुलाई के दौरान इस्पात उत्पादन में सुधार आया है. जुलाई में यह गिरावट 16.4 फीसदी रह गई है. एसोचैम ने विश्लेषण में उत्पादन (Production) और खपत (Consumption) को समान स्तर पर माना है. दरअसल, उसके पास गोदामों में रखे माल के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज