कोरोना काल से पहले के स्तर पर पहुंची पेट्रोल-डीजल की मांग

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

पेट्रोल (Petrol) के बाद अब अक्टूबर में डीजल (Diesel) की मांग भी कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) से पहले के स्तर पर आ गई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पेट्रोल (Petrol) के बाद अब अक्टूबर में डीजल (Diesel) की मांग भी कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) से पहले के स्तर पर आ गई है. उद्योग जगत के आंकड़ों के अनुसार, डीजल की मांग अक्टूबर महीने में साल भर पहले की तुलना में 6.6 फीसदी अधिक रही.

यह महामारी की रोकथाम के लिये देश भर में लगाए गए लॉकडाउन के बाद से डीजल की बिक्री में इस साल की पहली सालाना वृद्धि है. भारत में डीजल सर्वाधिक खपत वाला ईंधन है. महामारी के चलते लोग व्यक्तिगत वाहनों को तरजीह देने लगे हैं. इस कारण पेट्रोल की मांग डीजल की तुलना में बेहतर रही है. हालांकि अक्टूबर के आंकड़ों से उम्मीद से बेहतर वापसी के संकेत मिलते हैं.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच देश ने बना डाला नया रिकॉर्ड, अक्‍टूबर में हुए 200 करोड़ के UPI Transactions



डीजल की बिक्री 61.7 लाख टन पर पहुंची
फेस्टिव सीजन के जोर पकड़ते ही डीजल की मांग सामान्य स्तर पर लौट आई. डीजल की बिक्री अक्टूबर महीने में साल भर पहले के 57.9 लाख टन से बढ़कर 61.7 लाख टन पर पहुंच गई. महीने के अंतिम दो सप्ताह में डीजल की मांग में उछाल आया. पहले दो सप्ताह के दौरान डीजल की बिक्री 26.5 लाख टन रही थी. अक्टूबर में सितंबर 2020 के 48.4 लाख टन की तुलना में 27.5 प्रतिशत अधिक बिक्री हुई.

अक्टूबर में पेट्रोल की बिक्री 23.9 लाख टन रही
पेट्रोल की बिक्री सितंबर में कोविड पूर्व स्तर पर आ गई थी. अक्टूबर में पेट्रोल की बिक्री साल भर पहले यानी अक्टूबर 2019 के 22.9 लाख टन से चार प्रतिशत अधिक 23.9 लाख टन रही है. सितंबर 2020 में पेट्रोल की बिक्री 22 लाख टन रही थी.

ये भी पढ़ें- पटरी पर लौट रही इकोनॉमी! आम आदमी से लेकर मोदी सरकार को भी खुश कर देंगे ये आंकड़े

उल्लेखनीय है कि 25 मार्च से लागू लॉकडाउन के कारण भारत में मांग बुरी तरह से प्रभावित हुई थी. अप्रैल में ईंधनों की मांग में 49 प्रतिशत तक की कमी देखने को मिली थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज