होम /न्यूज /व्यवसाय /Petrol-Diesel Price : पेट्रोल-डीजल होगा सस्‍ता! कच्‍चे तेल के दाम घटने से मिल सकती है राहत

Petrol-Diesel Price : पेट्रोल-डीजल होगा सस्‍ता! कच्‍चे तेल के दाम घटने से मिल सकती है राहत

सरकारी तेल कंपनियों ने 6 अप्रैल के बाद से पेट्रोल-डीजल के रेट में बदलाव नहीं किया है.

सरकारी तेल कंपनियों ने 6 अप्रैल के बाद से पेट्रोल-डीजल के रेट में बदलाव नहीं किया है.

ग्‍लोबल मार्केट में कच्‍चे तेल के दाम में लगातार आ रही गिरावट से जल्‍द पेट्रोल-डीजल के दाम भी घटने के आसार बनने लगे हैं ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

कच्‍चे तेल में लगातार नरमी से सरकारी रिफाइनरी कंपनियों का घाटापूरा हो चुका है.
इकोनॉमी में सुस्‍ती की वजह से दुनियाभर में ईंधन की खपत घट रही है.
इससे तेल उत्‍पादक देशों के संगठन ओपेक पर भी कीमतें घटाने का दबाव है.

नई दिल्‍ली. पेट्रोल-डीजल की कीमतों (Petrol-Diesel Price) में वैसे तो 6 अप्रैल, 2022 के बाद से कोई बढ़ोतरी नहीं हुई, लेकिन जल्‍द ही इसकी कीमतों में और गिरावट की संभावना जरूर दिख रही है. वह भी छोटी-मोटी कटौती नहीं, बल्कि 10 फीसदी तक कीमतें कम होने का अनुमान है. ग्‍लोबल मार्केट में कच्‍चे तेल के भाव में बड़ी गिरावट आने की वजह से यह कयास लगाए जा रहे हैं.

दरअसल, ग्‍लोबल मार्केट में ब्रेंट क्रूड का भाव गिरकर जनवरी के स्‍तर पर आ गया है. अभी यह 85 डॉलर प्रति बैरल के आसपास ट्रेड कर रहा है, जबकि डब्‍ल्‍यूटीआई 78 डॉलर प्रति बैरल के आसपास है. पिछले कुछ समय में यह 81 डॉलर तक पहुंच गई थी. साल की शुरुआत में जहां कच्‍चे तेल के भाव 150 डॉलर तक चले गए थे, वहीं अब इसमें 50 फीसदी तक गिरावट आ चुकी है. कमोडिटी एक्‍सपर्ट अजय केडिया का कहना है कि जब क्रूड में 1 डॉलर की कमी आती है तो देश की रिफाइनरी कंपनियों को प्रति लीटर तेल पर 45 पैसे की बचत होती है. इस लिहाज से कच्‍चे तेल की कीमतों में लगातार जारी नरमी से सरकारी रिफाइनरी कंपनियों का घाटा भी अब तक पूरा हो चुका है. लिहाजा इस बात की संभावना बढ़ गई है कि अब पेट्रोल-डीजल के रेट में भी कटौती हो.

ये भी पढ़ें – क्या होते हैं एंजल इन्वेस्टर्स, कहां से मिला उन्हें ये नाम, स्टार्टअप्स की कैसे करते हैं मदद?

एक्‍सपर्ट का कहना है यह कटौती कितनी बड़ी होगी नहीं कह सकते, लेकिन इसमें करीब 10 से 15 फीसदी की गिरावट आ सकती है. यानी पेट्रोल-डीजल करीब 10 से 15 रुपये प्रति लीटर सस्‍ता हो सकता है. हालांकि, तेल कीमतों में एकसाथ इतनी बड़ी कटौती नहीं की जा सकती, लेकिन पहले की तरह सिलसिलेवार ढंग से इसके रेट नीचे आ सकते हैं.

क्रूड सस्‍ता होने की बड़ी वजह
कच्‍चे तेल के भाव में गिरावट की तीन सबसे बड़ी वजहें हैं. पहली तो यह कि ग्‍लोबल इकोनॉमी में सुस्‍ती की वजह से दुनियाभर में ईंधन की खपत घट रही है. इससे तेल उत्‍पादक देशों के संगठन ओपेक पर भी कीमतें घटाने का दबाव है. चीन में विरोध-प्रदर्शन और कोरोना संक्रमण बढ़ने से लॉकडाउन की वजह से ईंधन की खपत कम हो गई है. अमेरिका और यूरोप के तमाम प्रतिबंधों के बावजूद रूस का तेल ग्‍लोबल मार्केट में सप्‍लाई हो रहा जिससे मांग के मुकाबले आपूर्ति ज्‍यादा दिख रही और इसका असर कच्‍चे तेल की कीमतों पर भी साफ दिख रहा है.

ये भी पढ़ें – बाजार में जल्द आएंगी 18 नई इंश्योरेंस कंपनी, ग्राहकों को प्रोडक्ट और प्रीमियम पर मिलेंगे बड़े फायदे, जानिए क्या है IRDAI की तैयारी

तेल कंपनियों के घाटे में कमी
पिछले दिनों सरकारी तेल कंपनियों की ओर से दावा किया गया था कि उन्‍हें पेट्रोल और डीजल पर प्रति लीटर करीब 15 रुपये का घाटा हो रहा है. हालांकि, बदले माहौल में अब कंपनियों को प्रति बैरल तेल पर करीब 245 रुपये की बचत हो रही है. ऐसे में कंपनियों को रहा घाटा भी अब खत्‍म हो रहा है और वे तेजी से मुनाफे की ओर लौट रही हैं. केंद्रीय पेट्रोल‍ियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी पिछले दिनों कहा था कि सरकारी तेल कंपनियों को अब पेट्रोल की बिक्री पर तो मुनाफा होने लगा है, लेकिन डीजल पर प्रति लीटर 4 रुपये का घाटा अब भी हो रहा.

ये भी पढ़ें – Brain Chip डालकर लोगों को कंट्रोल करना चाहते हैं Elon Musk? जानें कहां तक पहुंची उनकी योजना

दाम घटने में समय लगेगा
कमोडिटी एक्‍सपर्ट केडिया का कहना है कि ग्‍लोबल मार्केट में कच्‍चे तेल की कीमतों पर दबाव अभी और बढ़ेगा. अमेरिकी अर्थव्‍यवस्‍था में सुस्‍ती की खबरों से दुनियाभर में तेल की खपत घटने लगी है. चीन भी अपनी दिक्‍कतों से जूझ रहा और उसके हालिया इंडस्ट्रियल आंकड़े भी निराशाजनक हैं. ऐसे में क्रूड का भाव 70 डॉलर तक जा सकता है. इसका फायदा मिलेगा लेकिन उसमें कुछ वक्‍त लग सकता है. सस्‍ता हुआ क्रूड रिफाइनरी से निकलकर ग्राहक तक पहुंचने में समय लगता है.

Tags: Business news in hindi, Diesel Petrol New Rate Today, Diesel Petrol Price Reduced, Petrol New Rate

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें