अपना शहर चुनें

States

Petrol Diesel Price Today: और तेजी से बढ़ सकते हैं पेट्रोल डीजल के दाम, जानिए आपके शहर में आज के नए रेट्स

जानिए अपने शहर में तेल का भाव
जानिए अपने शहर में तेल का भाव

Petrol Diesel Price Today: अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत कोविड-19 के दौर से पहले की स्थिति में पहुंच गई है. कच्चे तेल की कीमतों में लगातार हो रहे इजाफे का असर घरेलू बाजार में पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर पड़ना तय है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2020, 8:06 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लगातार पांच दिनों तक पेट्रोल डीजल के दाम (Petrol Diesel Price) में बढ़ोत्तरी होने के बाद दो दिन से कोई बदलाव नहीं गया. आज गुरुवार को पेट्रोल डीजल के कीमत जस की तस बनी हुई है. हालांकि अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में कच्चे तेल की बढ़ती कीमत का असर घरेलू बाजार पर भी पड़ना तय है. कच्चे तेल की कीमतों में अगर और ज्यादा वृद्धि होती है तो यह भारत सरकार और उपभोक्ताओं के लिए नुकसान का सौदा बन सकता है. सरकार को अधिक क्रूड इंपोर्ट बिल अदा करना पड़ सकता है और वहीं बढ़ी हुई कीमतों का असर घरेलू बाजार में पेट्रोल और डीजल के दाम में इजाफे के तौर पर आम आदमी की जेब पर पड़ेगा.दिल्ली में पेट्रोल का भाव 81.59 रुपये प्रति लीटर और डीजल का भाव 71.41 रुपये प्रति लीटर है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मंगलवार को पेट्रोल में 6 पैसे प्रति लीटर और डीजल में 16 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी देखी गई थी. आइए जानते हैं अन्य शहरों में पेट्रोल डीजल के दाम में कितने हैं.

एक्सपर्ट्स का मानना है कि क्रूड में शॉर्ट टर्म में तेजी बनी रहेगी. क्रूड जल्द 50 डॉलर प्रति बैरल का स्तर पार कर सकता है. उनका कहना है कि कोरोना वैक्सीन को लेकर जिस तरह से डेवलपमेंट सामने आ रहे हें, क्रूड मार्केट को सपोर्ट मिल रहा है. उनका कहना है कि वैक्सीन को लेकर डेवलपमेंट और ओपेक द्वारा तेल के उत्पादन में कटौती दोनों से कच्चे तेल को सपोर्ट मिल रहा है.

दूसरा यह है कि बहुत से देशों ने अपनी डिमांड पेंडिंग में रखी थी, अब वे मांग बढ़ाने लगे हैं. हालांकि एक चिंता यह है कि कुछ देशों में कोविड 19 के मामले बढ़ रहे हैं. एक और वजह अमेरिका में सत्ता परिवर्तन है. इससे ईरान से अमेरिका के संबंध सुधरने के आसार हैं. ऐसा होता है तो ईरान के तेल बाजार में सुधार आएगा.



हर दिन 6 बजे बदलती है कीमत
बता दें कि प्रति दिन सुबह छह बजे पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है. सुबह छह बजे से ही नए रेट्स लागू हो जाती हैं. पेट्रोल व डीजल के दाम में कीमत में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है.

ये भी पढ़ें : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट ने लिए 3 बड़े फैसले, आम आदमी पर होगा सीधा असर

26 नवंबर को देश के प्रमुख शहरों में पेट्रोल डीजल का भाव
>> दिल्ली पेट्रोल 81.59 रुपये और डीज़ल 71.41 रुपये प्रति लीटर है.
>> मुंबई पेट्रोल के दाम 88.29 रुपये और डीज़ल 77.90 रुपये प्रति लीटर है.
>> कोलकाता पेट्रोल 83.15 रुपये और डीज़ल 74.98 रुपये प्रति लीटर है.
>> चेन्नई पेट्रोल 84.64 रुपये और डीज़ल के दाम 76.88 रुपये प्रति लीटर है.
>> नोएडा पेट्रोल 82.04 रुपये और डीज़ल 71.86 रुपये प्रति लीटर है.
>> लखनऊ पेट्रोल 81.96 रुपये और डीज़ल 71.80 रुपये प्रति लीटर है.
>> पटना पेट्रोल 84.20 रुपये और डीज़ल 76.94 रुपये प्रति लीटर है.
>> चंडीगढ़ पेट्रोल 78.56 रुपये और डीज़ल 71.16 रुपये प्रति लीटर है.

इस तरह पता कर सकते हैं आज के ताजा भाव
पेट्रोल डीजल का रोज का रेट आप SMS के जरिए भी जान सकते हैं (How to check diesel petrol price daily). इंडियन ऑयल के कस्टमर RSP लिखकर 9224992249 नंबर पर और बीपीसीएल उपभोक्ता RSP लिखकर 9223112222 नंबर पर भेज जानकारी हासिल कर सकते हैं. वहीं, एचपीसीएल उपभोक्ता HPPrice लिखकर 9222201122 नंबर पर भेजकर भाव पता कर सकते हैं.

इसलिए बढ़ रहे दाम
इस साल अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में ऐतिहासिक गिरावट के बाद लोग राहत की उम्मीद कर रहे थे. लेकिन लोगों को केंद्र सरकार ने झटका दिया था. सरकार ने पेट्रोल पर 10 रुपये और डीजल पर 13 रुपये प्रति लीटर उत्पाद शुल्क और बढ़ा दिया था. इससे पहले साल 2014 में पेट्रोल पर टैक्स 9.48 रुपये प्रति लीटर था और डीजल पर 3.56 रुपये. नवंबर 2014 से जनवरी 2016 तक केंद्र सरकार ने इसमें नौ बार इजाफा किया. इन 15 सप्ताह में पेट्रोल पर ड्यूटी 11.77 और डीजल पर 13.47 रुपये प्रति लीटर बढ़ी.

बैंक आफ अमेरिका (BofA) का मानना है कि कोविड 19 की वैक्सीन जल्द आने की उम्मीद में अब क्रूड मार्केअ की कंडीशन में सुधार हो रहा है. वहीं ओपेक देशों द्वारा प्रोडक्शन कट कम करने का भी असर दिख रहा है. असल में कोविड 19 की वेक्सीन आने की उम्मीद में अब क्रूड की डिमांड बढ़ी है. वैक्सीन आने और कोरोना का डर कम होने से अर्थव्यवस्था के मजबूत होने की उम्मीद है. इस उम्मीद में क्रूड की मांग बढ़ेगी. इस बात से क्रूड को लेकर सेंटीमेंट सुधर रहे हैं.
दूसरा जैसे जैसे अर्थव्यवस्था खुलेगी, ट्रैवल कंडीशन भी बेहतर होगा. एक देश से दूसरे देश में जाने वालों की संख्या में इजाफा आएगा. इससे इंटरनेशनल स्तर पर क्रूड की डिमांड तेजी से बढ़ेगी. यूएस बैंक का अनुमान है कि साल 2021 में क्रूड 60 डॉलर का भाव भी छू सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज