लाइव टीवी

बड़ी खबर! सस्ता हो सकता है पेट्रोल, सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला

भाषा
Updated: November 10, 2019, 6:21 PM IST
बड़ी खबर! सस्ता हो सकता है पेट्रोल, सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला
किसानों की आय दोगुनी करने में सरकार को मिलेगी मदद

केंद्रीय प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि एनवायरनमेंट फ्रेंडली फ्यूल के रूप में इथेनॉल (Ethanol) के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिये मंत्रालय ने बायोमास इथेनॉल का संयंत्र लगाने की IOCL को मंजूरी दी.

  • Share this:
नई दिल्ली. पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (Ministry of Environment) ने हरियाणा के पानीपत में पेट्रोलियम ईंधन के रूप में बायोमास इथेनॉल का संयंत्र लगाने की इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (IOCL) को मंजूरी दे दी है. पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने रविवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि एनवायरनमेंट फ्रेंडली फ्यूल (Environmentally friendly fuel) के रूप में इथेनॉल के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिए मंत्रालय ने इस परियोजना को मंजूरी दी है. इसके तहत IOCL को दूसरी पीढ़ी के बायोमास आधारित ईंधन 2जी इथेनॉल के संयंत्र (2G Ethanol Plant) को लगाने की आईओसीएल को मंत्रालय ने पर्यावरण मंजूरी (Environment Clearance) दी है.

किसानों की आय दोगुना करने में मिलेगी मदद
जावड़ेकर ने ट्विटर पर भी कहा, यह जानकारी देते हुये खुशी है कि आईओसीएल को पानीपत में नये 2जी इथेनॉल संयंत्र स्थापित करने की पर्यावरण मंजूरी दी गयी है. उन्होंने कहा कि इस परियोजना से न सिर्फ एनवायरनमेंट फ्रेंडली फ्यूल को बढ़ावा मिलेगा बल्कि किसानों की आय को दोगुना करने के सरकार के लक्ष्य को प्राप्त करने में भी मदद मिलेगी.

उल्लेखनीय है कि आईओसीएल ने 100 किलोलीटर प्रतिदिन उत्पादन क्षमता वाले 2जी इथेनॉल संयंत्र से पर्यावरण पर पड़ने वाले संभावित असर की आंकलन रिपोर्ट इस साल जून में मंत्रालय के समक्ष पेश करते हुये इसकी स्थापना के लिये मंजूरी का आवेदन किया था.

ये भी पढ़ें: SBI ग्राहकों को बड़ा झटका! आज से FD पर इतना कम मिलेगा मुनाफा, यहां चेक करें नए रेट्स

766 करोड़ रुपये की आएगी लागत
पेट्रोलियम उत्पादों की देश की सबसे बड़ी खुदरा कारोबारी कंपनी IOCL ने पानीपत स्थित अपनी रिफायनरी में ही 766 करोड़ रुपये की लागत से इथेनॉल संयंत्र भी लगाने की परियोजना के लिये सरकार से पर्यावरण मंजूरी मांगी है. इसमें बायोमास आधारित ईंधन के रूप में इथेनॉल के उत्पादन के लिये धान और अन्य कृषि उत्पादों की पराली का इस्तेमाल किया जायेगा. संयंत्र में 100 किलोलीटर इथेनॉल के उत्पादन के लक्ष्य की प्राप्ति के लिये प्रतिदिन 473 टन पराली (Parali) की आवश्यकता होगी.
Loading...

ये भी पढ़ें: 
SBI ने ग्राहकों को फिर किया अलर्ट! भूलकर भी किसी से न शेयर करें ये चीजें, होगा बड़ा नुकसान
PM-किसान सम्मान निधि स्कीम: खेती के लिए 6000 रुपए चाहिए तो 30 नवंबर तक जरूर करें ये काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 10, 2019, 5:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...