पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का बयान- सर्दी की वजह से बढ़े ईंधन के दाम, अब कम होंगी कीमतें

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pardhan) ने कहा कि सर्दियों में मांग बढ़ने की वजह से ईंधन की कीमतों में तेजी देखने को मिली. अब यह कम होंगी. उन्होंन कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोलियम उत्पादों के भाव बढ़ने की वजह से ऐसा हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 26, 2021, 3:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पेट्रोलियम पदार्थों की बढ़ती कीमतों को लेकर पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने बयान दिया है. आसमान छूती इन कीमतों को लेकर उन्होंने कहा कि सर्दियां खत्म हो रही हैं तो ईंधन की मांग कम होगी और कीमतें भी घटेंगी. कुछ शहरों में पेट्रोल के भाव 100 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच चुके हैं. न्यूज एजेंसी ANI से उन्होंने से यह बात कही है.

धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, 'अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोलियम उत्पादों की वजह से ग्राहकों पर असर पड़ा है. सर्दियां खत्म हो रही हैं तो कीमतें भी घटेंगी. यह एक अंतरराष्ट्रीय मसला है. सर्दियों में मांग बढ़ने की वजह से कीमतों में उछाल आया है. अब कीमतें कम होंगी.'







धर्मेंद्र प्रधान ने यह भी बताया कि उनहोंने जीएसटी काउंसिल (GST Council) से पेट्रोल पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि अगर पेट्रोलियम उत्पादों को जीएसटी के दायरे में लाया जाता है तो आम आदमी को इससे बड़ी राहत मिलेगी. साथ ही देश के ऑयल और गैस सेक्टर के विकास में भी इससे मदद मिलेगी.
यह भी पढ़ें:  सस्ते पेट्रोल-डीज़ल की तैयारी, 5 रुपये प्रति लीटर तक टैक्स कटौती कर सकती है सरकार: रिपोर्ट

वित्त मंत्री ने कहा 'धर्म संकट'
इसके पहले गुरुवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने गुजरात के अहमदाबाद एक कार्यक्रम में कहा कि वो नहीं बता सकेंगी कि कब पेट्रोल-डीज़ल के भाव कम होंगे. उन्होंने कहा, 'मैं नहीं कह सकूंगी कि आखिर कब. यह एक धर्म संकट है.

भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने कहा है कि पेट्रोल और डीज़ल पर टैक्स कम करने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों को एक साथ मिलकर काम करना होगा.

शुक्रवार को राजधानी दिल्ली में ही पेट्रोल का भाव 90.93 रुपये प्रति लीटर और डीज़ल का भाव 81.31 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच चुका है. मुंबई में प्रति लीटर पेट्रोल का भाव 97.34 रुपये और डीज़ल का भाव 88.44 रुपये प्रति लीटर है. कोलकाता में पेट्रोल और डीज़ल क्रमश: 94.98 रुपये और 84.20 रुपये प्रति लीटर पर है.

अंतरराष्ट्रीय बाजार में सप्लाई कम होने की वजह से कीमतों में उछाल देखने को मिली है. भारत में आयात होने वाले क्रूड (Crude Oil) का भाव करीब 62 डॉलर प्रति बैरल के आसपास है. पिछले साल दिसंबर मध्य में यह 50 डॉलर प्रति बैरल के करीब था. वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की मांग में रिकवरी और ओपेक (OPEC) द्वारा उत्पादन में कटौती की वजह से कच्चे तेल के दाम में तेजी देखने को मिल रही है. वित्त वर्ष 2020- 2021 के पहले छह महीने में कच्चे तेल का भाव 19-44 डॉलर प्रति बैरल रहा था. इस दौरान भारत का क्रूड इम्पोर्ट बिल 57 फीसदी घटकर सालाना 22.5 अरब डॉलर पर आ गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज