अब आधार बेस्ड KYC से खुल जाएगा NPS खाता, फिजिकल डॉक्यूमेंट जरूरी नहीं

अब NPS खाता खोलने के लिए फिजिकल डॉक्यूमेंट जरूरी नहीं
अब NPS खाता खोलने के लिए फिजिकल डॉक्यूमेंट जरूरी नहीं

नये सब्सक्राइबर्स के लिये 'नो योर कस्टमर' (Know Your Customer- KYC) प्रक्रिया पेपरलेस किया है. अब केवल ‘ऑफलाइन’ आधार (Aadhaar) के साथ खाता खोला जा सकेगा और फिजिकल रूप से उसकी प्रति देने की जरूरत नहीं होगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. पेंशन फंड रेगुलेटर PFRDA ने कहा कि नई पेंशन प्रणाली (NPS) के तहत खाता खोलना आसान बनाया गया है. इसके तहत नये सब्सक्राइबर्स के लिये 'नो योर कस्टमर' (Know Your Customer- KYC) प्रक्रिया पेपरलेस किया है. अब केवल ‘ऑफलाइन’ आधार (Aadhaar) के साथ खाता खोला जा सकेगा और फिजिकल रूप से उसकी प्रति देने की जरूरत नहीं होगी. पेंशन कोष नियामक एवं विकास प्राधिकरण (PFRDA) ने कहा कि उसने ई-एनपीएस/प्वाइंट ऑफ प्रजेंस केंद्रों (जहां एनपीएस खाता खोला जाता है) को संभावित अंशधारकों की सहमति के साथ ‘ऑफलाइन’ आधार के जरिये एनपीएस खाता खोलने की अनुमति दी है.

UIDAI पोर्टल से डाउनलोड कर सकते हैं आधार फाइल
‘ऑफलाइन’ आधार के साथ पेपरलेस वेरिफिकेशन से फिजिकल रूप से 12 अंकों वाले पहचान पत्र की प्रति देने की जरूरत नहीं होगी. नई प्रक्रिया के तहत आवेदनकर्ता भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) पोर्टल पर जाकर ई-एनपीएस (e-NPS) के जरिये पासवर्ड सुरक्षित आधार XML फाइल डाउनलोड कर सकता है. केवाईसी के लिये इसे साझा किया जा सकता है. इस सुविधा का लाभ ‘प्वाइंट ऑफ प्रजेंस’ के जरिये एनपीएस खाता खोलने में भी किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- 1 जून से बदल रहे हैं रेलवे-राशन कार्ड और फ्लाइट्स से जुड़े कई नियम, जानिए आप पर क्या होगा असर
तुरंत खोला जा सकता है अकाउंट


इस प्रक्रिया केवाईसी ब्योरा मशीन के पढ़ने वाले XML प्रारूप में होता है जिस पर यूआईडीएआई का डिजिटल हस्ताक्षर होता है. इससे ईएनपीएस/पीओपी उसकी जांच और सत्यापन कर सकते हैं. इसमें पहचान और पता का सत्यापन किया जा सकता है. इसके माध्यम से एनपीएस खाता तत्काल खोला जा सकता है और अंशधारक उसमें तुंरत पैसा भी जमा कर सकते हैं.

NPS को लेकर बदला नियम
PFRDA नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) सब्सक्राइबर्स के लिए डायरेक्ट रेमिटेंस (D-Remit) नामक भुगतान का नया तरीका शुरू कर रहा है. NPS कंट्रीब्यूशंस के नए मोड से एनपीएस सब्सक्राइबर नेट बैंकिंग के जरिए सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट स्थापित कर सकेंगे जिससे NPS में पीरियॉडिकल और रेगुलर कंट्रीब्यूशन किया जा सके. कोई भी व्यक्ति सीधे किसी के बैंक खाते की नेट बैंकिंग सुविधा से एनपीएस में निवेश कर सकता है. D-Remit मोड में एनपीएस कंट्रीब्यूशन ऑनलाइन भुगतान नि:शुल्क है क्योंकि लेनदेन में कोई शुल्क नहीं है.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच निवेशकों ने यहां की जमकर कमाई, मिला 46% तक का मोटा रिटर्न, अभी है मौका
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज