• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • NPS का बढ़ रहा दायरा, 7,900 कॉरपोरेट ने नेशनल पेंशन स्कीम को अपनाया

NPS का बढ़ रहा दायरा, 7,900 कॉरपोरेट ने नेशनल पेंशन स्कीम को अपनाया

NPS का बढ़ रहा दायरा

NPS का बढ़ रहा दायरा

National Pension Fund: करीब 7,900 कॉरपोरेट ने एनपीएस प्रणाली को स्वीकार किया जिसमें 10 लाख अंशधारकों के साथ 50,000 करोड़ रुपये का फंड है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    कोलकाता. नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) का दायरा धीरे-धीरे बढ़ रहा है. सार्वजनिक क्षेत्र के कई उपक्रम अपने पेंशन कोष को इसमें डाल रहे हैं. यह बात पेंशन निधि नियामक और विकास प्राधिकरण (PFRDAए) के चेयरमैन एस. बंद्योपाध्याय ने कही. वह इंडियन चैंबर ऑफ कॉमर्स (IIC) के एक वेबिनार को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि देश में हालांकि, पेंशन योजना की पहुंच काफी कम है लेकिन अब कई केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रम अपने सेवानिवृत्ति इत्यादि से जुड़े कोष को एनपीएस में डाल रहे हैं.

    बंद्योपाध्याय ने कहा कि इसमें लाभार्थियों को अच्छा लाभ मिल रहा है. सरकार के कोष पर चक्रवृद्धि ब्याज दर 9.95 प्रतिशत वार्षिक है जबकि इक्विटी शेयरों में मात्र 15 प्रतिशत पूंजी का ही निवेश किया जाता है. उन्होंने कहा, आजकल कई कॉरपोरेट कंपनियां भी अपने कर्मचारियों के सेवानिवृत्ति लाभ को महत्व दे रही हैं. करीब 7,900 कॉरपोरेट ने एनपीएस प्रणाली को स्वीकार किया जिसमें 10 लाख अंशधारकों के साथ 50,000 करोड़ रुपये का कोष है.

    बंद्योपाध्याय ने कहा कि ज्यादा से ज्यादा कंपनियों को एनपीएस में शामिल करने के लिए जागरुकता लाने की जरूरत है. अटल पेंशन योजना के बारे में उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े पांच साल में 20 लाख लोग इससे जुड़े और इनकी कुल संख्या 2.45 लाख है.

    किसी वित्‍त वर्ष में छूट राशि 1.5 लाख रुपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए
    एनपीएस टीयर-1 अकाउंट में किए गए योगदान (Contribution) पर आयकर कानून की धारा-80CCD (1B) के तहत 50,000 रुपये की छूट मिलती है. यह छूट धारा-80CCD (1) के तहत 1.5 लाख रुपये तक के योगदान पर मिलने वाली छूट से अलग (Additional) होती है. यहां ये ध्यान रखना जरूरी है कि धारा-80 सी, 80CCC (किसी इंश्योरर की तरफ से दिए पे-पेंशन प्लान में निवेश) और धारा-80CCD (1) (NPS) के तहत मिलने वाली छूट की राशि किसी वित्‍त वर्ष में 1.5 लाख रुपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज