आपके पास है इस फार्मा कंपनी के शेयर तो आपके लिए अच्छी खबर! 1000 रुपये पर कंपनी करेगी बायबैक

Aarti Drugs

Aarti Drugs

अगर आपके पास फार्मा कंपनी आरती ड्रग्स (Aarti Drugs) के शेयर हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है. फार्मा कंपनी ने आज शुक्रवार को शेयर बायबैक (Share Buyback) का ऐलान किया है.कंपनी इस बायबैक ऑफर में 1000 रुपये प्रति शेयर के भाव से 6 लाख इक्विटी शेयर्स कंपनी के मौजूदा निवेशकों से खरीदेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 6:12 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. अगर आपके पास फार्मा कंपनी आरती ड्रग्स (Aarti Drugs) के शेयर हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है. फार्मा कंपनी ने आज शुक्रवार को शेयर बायबैक (Share Buyback) का ऐलान किया है. आरती ड्रग्स के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने 10 रुपये फेस वैल्यू वाले कंपनी के 6 लाख पूरी तरह पेड इक्विटी शेयर्स के बायबैक को मंजूरी दी है, जोकि कंपनी के कुल इक्विटी शेयर का 0.64% है. कंपनी ने अपने शेयर बायबैक प्लान तहत 10 रुपये फेस वैल्यू वाले इक्विटी शेयर्स की कीमत 1000 रुपये तय किया है. इसका मतलब यह है कंपनी इस बायबैक ऑफर में 1000 रुपये प्रति शेयर के भाव से 6 लाख इक्विटी शेयर्स कंपनी के मौजूदा निवेशकों से खरीदेगी. इस तरह कंपनी 60 करोड़ रुपये का शेयर बायबैक करेगी. इस बायबाक में कंपनी के प्रमोटर्स हिस्सा लेंगे.

1 अप्रैल से होगा बायबैक

आपको बता दें कि Aarti Drugs की 60.2% हिस्सेदारी कंपनी के प्रमोटर्स के पास हैं. इस प्रस्तावित बायबैक के लिए कंपनी ने Inga Ventures Private Limited को अपना मैनेजर नियुक्त किया है। कंपनी 1 अप्रैल 2021 से शेयर बायबैक करेगी.
ये भी पढ़ें- SBI, PNB, HDFC, ICICI और Axis Bank के ग्राहक ध्यान दें! इस लिंक को भूल कर भी न करें क्लिक, जानें पूरा माजरा?

जानें क्या है शेयर बायबैक ?

कंपनी जब अपने ही शेयर निवेशकों से खरीदती है तो इसे बायबैक कहते हैं. आप इसे आईपीओ का उलट भी मान सकते हैं. बायबैक की प्रक्रिया पूरी होने के बाद इन शेयरों का वजूद खत्म हो जाता है. बायबैक के लिए मुख्यत: दो तरीकों-टेंडर ऑफर या ओपन मार्केट का इस्तेमाल किया जाता है. इस खबर से कंपनी के स्टॉक्स में आज जोरदार तेजी देखने को मिली.

ये भी पढ़ें- कमाई का मिलेगा शानदार मौका! अडानी ग्रुप की ये कंपनी लाएगी 5000 करोड़ का IPO, जानें डिटेल्स में



कंपनियां क्यों करती हैं बायबैक?

कंपनी कई वजहों से बायबैक का फैसला लेती है. सबसे बड़ी वजह कंपनी की बैलेंसशीट में अतिरिक्त नकदी का होना है. कंपनी के पास बहुत ज्यादा नकदी का होना अच्छा नहीं माना जाता है. इससे यह माना जाता है कि कंपनी अपने नकदी का इस्तेमाल नहीं कर पा रही है. शेयर बायबैक के जरिए कंपनी अपने अतिरिक्त नकदी का इस्तेमाल करती है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज