अपना शहर चुनें

States

130 करोड़ में अमेरिका की फार्मा कंपनी G&W लैब को खरीदेगी भारत की ये कंपनी

पीरामल फार्मा अमेरिका में जीएंडडब्ल्यू लैब की दवा विनिर्माण इकाई का अधिग्रहण करेगी
पीरामल फार्मा अमेरिका में जीएंडडब्ल्यू लैब की दवा विनिर्माण इकाई का अधिग्रहण करेगी

पीरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड (Piramal Enterprises Ltd) के फार्मा समाधान कारोबार ने जीएंडडब्ल्यू लैबोरेटरीज (G&W Laboratories Inc) की अमेरिका स्थित दवा विनिर्माण इकाई का अधिग्रहण करने के लिए उसके साथ एक समझौता किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पीरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड (Piramal Enterprises Ltd) के फार्मा समाधान कारोबार ने जीएंडडब्ल्यू लैबोरेटरीज (G&W Laboratories Inc) की अमेरिका स्थित दवा विनिर्माण इकाई का अधिग्रहण करने के लिए उसके साथ एक समझौता किया है. इस सौदे की कीमत 1.75 करोड़ डॉलर (130 करोड़ रुपये से अधिक) है. पीरामल फार्मा सॉल्यूशंस (पीपीएस) ने कहा, समझौते की शर्तों के अनुसार, पीरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड अपनी एक सहयोगी के जरिये इस इकाई में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी का अधिग्रहण करेगी, जो संयंत्र का परिचालन करती है और संबंधित रियल एस्टेट की मालिक है.

इस अधिग्रहण से पीरामल फार्मा सॉल्यूशंस को उत्तरी अमेरिका में ठोस खुराक की पेशकश करने की क्षमता हासिल होगी. इस संयंत्र से तरल, क्रीम और मलहम उत्पाद भी बनाए जा सकते हैं. इसे अमेरिकी खाद्य एवं दवा प्रशासन और यूरोपीय दवा एजेंसी से प्रमाणपत्र मिल चुके हैं.

ये भी पढ़ें- गरीब कल्याण रोजगार अभियान लॉन्च, जानें स्कीम की 10 बड़ी बातें



ग्लेनमार्क ने कोरोना वायरस के इलाज के लिए पेश की दवा
ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (glenmark pharmaceuticals) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) से मामूली रूप से पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए एंटीवायरल दवा फेविपिराविर (Favipiravir) को फैबिफ्लू (FabiFlu) ब्रांड नाम से पेश किया है. कंपनी ने शनिवार को यह जानकारी दी. मुंबई की कंपनी ने शुक्रवार को कहा था कि उसे भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) से इस दवा की मैन्युफैक्चरिंग और मार्केटिंग की अनुमति मिल गई है. कंपनी ने कहा कि फैबिफ्लू कोविड-19 (COVID-19) के इलाज के लिए पहली खाने वाली फेविपिराविर दवा है, जिसे मंजूरी मिली है.

इससे पहले भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने आपात स्थिति और कोविड-19 के लिए जरूरी चिकित्सा आवश्यकता पर विचार करते हुए त्वरित अनुमति प्रक्रिया के तहत घरेलू कंपनी ग्लेनमार्क फार्मास्यूटिकल्स को ‘फैविपिराविर’ की गोली (200 Mg) बनाने और बेचने की इजाजत दी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज