पीयूष गोयल ने कहा, अमेरिका के साथ शुरुआती व्‍यापार समझौते के लिए तैयार है भारत

पीयूष गोयल ने कहा, अमेरिका के साथ शुरुआती व्‍यापार समझौते के लिए तैयार है भारत
केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि भारत अमेरिका के साथ शुरुआती व्‍यापार समझौता करने को पूरी तरह से तैयार है.

वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने बताया कि भारत ने दोनों देशों के बीच व्‍यापार समझौते (Trade Agreements) के समय का फैसला अमेरिका (US) के वाणिज्य मंत्री पर छोड़ा है. साथ ही बताया कि दोनों देशों के बीच जरूरी मुद्दों पर सहमति बन गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 1, 2020, 11:55 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत अमेरिका के साथ शुरुआती व्यापार समझौता (Trade Agreement) करने के लिए पूरी तरह से तैयार है. केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने कहा कि भारत ने दोनों देशों के बीच व्‍यापार समझौते के समय का फैसला अमेरिका के वाणिज्य मंत्री पर छोड़ दिया है. साथ ही कहा कि भारत व्‍यापार समझौते (India-US Trade Agreement) को लेकर अमेरिका के साथ लगातार बातचीत कर रहा है. उन्‍होंने कहा कि वह और अमेरिका के व्यापार प्रतिनिधि (USTR) रॉबर्ट लाइटहाइजर ने शुरुआती व्यापार समझौते से जुड़े लगभग सभी मसलों को सुलझा लिया है.

भारत ने समझौते के समय का फैसला अमेरिका पर छोड़ा
केंद्रीय मंत्री गोयल ने बताया कि मेरी हाल में व्यापार प्रतिनिधि लाइटहाइजर से बातचीत हुई है. हम दोनों सहमत हैं कि अमेरिका में राष्‍ट्रपति चुनाव से पहले या तुरंत बाद दोनों देशों के बीच व्‍यापार समझौता किया जा सकता है. इसको लेकर पूरा पैकेज करीब-करीब तैयार है. अगर अमेरिका में स्थानीय राजनीतिक स्थिति अनुमति दे तो किसी भी समय उसे अंतिम रूप दिया जा सकता है. उन्‍होंने कहा कि जिस बात पर हमारी सहमति है, उस पर मैं कल समझौता करने के लिए तैयार हूं. मैंने इस बारे में निर्णय लेने की जिम्मेदारी अमेरिका के वाणिज्य मंत्री विलबर रॉस पर छोड़ दी है.

ये भी पढ़ें- आनंद महिंद्रा ने ये तस्‍वीर ट्वीट कर नितिन गडकरी को स्‍टैंडिंग ओवेशन देने का किया वादा
ट्रंप की भारत के दौरान फरवरी में इसलिए नहीं हुए हस्‍ताक्षर


पीयूष गोयल ने अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान व्‍यापार समझौते पर हस्‍ताक्षर नहीं हो पाने के बारे में जानकारी भी दी. उन्‍होंने अमेरिका-भारत रणनीतिक भागीदारी मंच के बोर्ड सदस्य और मास्टरकार्ड के सीईओ अजय बंगा के साथ बातचीत में कहा कि आदर्श रूप से समझौते पर ट्रंप की फरवरी 2020 में भारत यात्रा के दौरान दस्तखत हो सकते थे, लेकिन उस समय उसे अंतिम रूप दिया जा रहा था. उसके तुरंत बाद कोविड-19 पूरी दुनिया के लिए भयंकर मुसीबत के तौर पर सामने आ गई.

ये भी पढ़ें- SBI की रिसर्च रिपोर्ट! इस साल रियल जीडीपी में होगी 10.9 फीसदी तक की गिरावट

व्‍यापार समझौते से दोनों देशों के रिश्‍ते होंगे और मजबूत
गोयल ने कहा कि व्यापार वार्ता जटिल समझौता होता है. कोई भी इसे लेकर लापरवाह नहीं हो सकता है. गोयल का व्यक्तिगत तौर पर मानना है कि यह व्यापार समझौता आधार के रूप में काम करेगा. इससे दोनों देशों के रिश्ते और मजबूत होंगे. भारत का मानना है कि यह दोनों देशों के लिये फायदेमंद रहेगा. भारत इस व्‍यापार समझौते के लिए तैयार है. अब इसके समय को लेकर फैसला अमेरिका को करना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज