लाइव टीवी

अमेरिका की वजह से पाकिस्तान को लगा इस साल का सबसे बड़ा झटका! डूब गए 17 हजार करोड़ रुपये

News18Hindi
Updated: January 7, 2020, 4:16 PM IST
अमेरिका की वजह से पाकिस्तान को लगा इस साल का सबसे बड़ा झटका! डूब गए 17 हजार करोड़ रुपये
मंगलवार के दिन पाकिस्तान के शेयर बाजार में इस साल की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज हुई.

अमेरिका और ईरान के बीच बन रहे 'जंग' जैसे हालात की वजह से पाकिस्तान के शेयर बाजार में भारी गिरावट दर्ज हुई है. साथ ही, सोने की कीमतें अब तक के सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है. इस मामले को लेकर अर्थशास्त्रियों ने चिंता जाहिर करते हुए कहा हैं कि ऐसे में पाकिस्तान में महंगाई रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 7, 2020, 4:16 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. अमेरिका और ईरान के बीच बन रहे 'जंग' जैसे हालात की वजह से अब पाकिस्तान को भी बड़ा झटका लगा है. मंगलवार के दिन पाकिस्तान के शेयर बाजार में इस साल की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज हुई. कुछ ही मिनटों में प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स केएसई-100 एक हजार से ज्यादा अंक लुढ़क गया. इस गिरावट में निवेशकों के 17 हजार करोड़ रुपये (पाकिस्तानी रुपया) डूब गए है. वहीं, दूसरी ओर सोने की कीमतों में रिकॉर्ड 2600 रुपये प्रति दस ग्राम की तेजी दर्ज हुई है. पाकिस्तान में एक तौले सोने (पाकिस्तान में एक तौला करीब 11 ग्राम का होता है) की कीमत 90 हजार रुपये के पार पहुंच गई.

पाकिस्तान के अर्थशास्त्रियों ने इस गिरावट के बाद देश की अर्थव्यवस्था को लेकर गहरी चिंता जाहिर की है.

उनका कहना है कि क्रूड और सोने की तेजी देश का इंपोर्ट बिल बढ़ाएगी यानी विदेशों से सामान खरीदने के लिए ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे. ऐसे में आम आदमी पर महंगाई का बोझ और बढ़ जाएगा.

ये भी पढ़ें-सरकार ने बदले AC से जुड़े नियम, अब 24 डिग्री पर ही चलेगा एसी



पाकिस्तान के सेंट्रल बैंक एसबीपी- स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान (SBP-State Bank of Pakistan) का कहना है कि इस साल खाद्य महंगाई दर 11.5 फीसदी रहने का अनुमान है. यह 8 साल में सबसे ज्यादा होगी. वहीं, एनर्जी महंगाई दर 32.5 फीसदी हो सकती है.

एसबीपी- की ताजा रिपोर्ट में बताया है कि FY20 के लिए तय 4 फीसदी जीडीपी आर्थिक ग्रोथ का लक्ष्य हासिल कर पाना बहुत मुश्किल है. क्योंकि एग्री सेक्टर में गिरावट जारी है. ॉ

इसके अलावा मैन्युफैक्चरिंग में 8 फीसदी की तेज गिरावट आई है. सेंट्रल बैंक का मानना है कि मौजूदा वित्त वर्ष में 1.5 फीसदी से 2.5 फीसदी की जीडीपी ग्रोथ रह सकती है.

ये भी पढ़ें-CBI ने 51 कंपनियों को किया नामजद, ₹1038 करोड़ का कालाधन हांगकांग भेजने का आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 7, 2020, 3:51 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर