रुपये की तबाही से अब पाकिस्तानियों को लगा ये बड़ा झटका

पाकिस्‍तान में आम आदमी के लिए कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है. पिछले कुछ दिनों में पाकिस्तानी करेंसी बहुत ही ज्यादा खस्ताहाल हो गई है, जिसकी कीमत आम लोगों को चुकानी पड़ रही हैं.

News18Hindi
Updated: May 19, 2019, 3:23 PM IST
रुपये की तबाही से अब पाकिस्तानियों को लगा ये बड़ा झटका
रुपये की 'तबाही' से पाकिस्तानी हुए बेहाल! रमजान पर महंगाई ने तोड़ी कमर
News18Hindi
Updated: May 19, 2019, 3:23 PM IST
पाकिस्‍तान में आम आदमी के लिए कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है. पिछले कुछ दिनों में पाकिस्तानी करेंसी बहुत ही ज्यादा खस्ताहाल हो गई है, जिसकी कीमत पाकिस्तानियों को चुकानी पड़ रही है. पाकिस्तानी रुपया डॉलर के मुकाबले अपने सर्वकालिक निचले स्तर पर आ गया. पाकिस्तानी रुपये की कीमत 151 प्रति डॉलर पर आ गई. रुपये में गिरावट की वजह से पाकिस्तान में इंपोर्टेड फूड आइटम्स की कीमतें बढ़ने लगी है. इंपोर्टेड फूड आइटम्स की कीमतें 15 से 20 फीसदी तक बढ़ गई है. इसलिए कई इम्पोर्टर्स ने पाकिस्तान में इंपोर्टेड फूड आइटम्स की बिक्री रोक दी है.  ये भी पढ़ें: पाकिस्तान को लगा 17 साल का सबसे बड़ा झटका! सोमवार को हो सकता है बड़ा ऐलान

पाकिस्तान के अखबार डॉन में छपी खबर के मुताबिक, कराची होससेलर्स ग्रोसर्स एसोसिएशन (KWGA) के चीफ अनिस मजीद का कहना है कि रुपये-डॉलर में अनिश्चितता से इंपोर्ट कॉस्ट बढ़ गया है जिसका असर पाकिस्तानियों पर बहुत ही खराब पड़ेगा. उन्होंने कहा, हम पोर्ट्स से गुड्स को हटाकर गोडाउन में शिफ्ट कर रहे हैं. हालांकि हम इन आइटम्स को होलसेल मार्केट में नहीं बेंचेगे क्योंकि इसका वाजिब दाम नहीं मिल पाएगा. वाजिब दाम नहीं मिलने से हमें नुकसान होगा.ये भी पढ़ें: खस्ताहाल हुई करेंसी, तो इमरान खान ने पाकिस्तानियों पर लगाई ये पाबंदी!



घी पर 5 रुपये/लीटर की छूट होगी वापस
पाकिस्तान वनस्पति मैन्यूफैक्चरर्स एसोसिएशन (PVMA) के चेयरमैन तारिक उल्लाह सुफी ने कहा, वेलेटाइल एक्सचेंज रेट का पाकिस्तान पर निगेटिव इम्पैक्ट पड़ेगा. इसलिए हम अगले हफ्ते से घी और कुकिंग ऑयल पर 5 रुपये प्रति किलो/लीटर छूट वापस लेने की सोच रहे हैं. रमज़ान के मौके पर घी और कुकिंग इंडस्ट्री ने छूट की घोषणा की थी.

इंपोर्टेड FMCG 15 से 20 फीसदी तक महंगे
पाकिस्तानी रुपये की कीमत 151 प्रति डॉलर पर पहुंच से इंपोर्टेड FMCG प्रोडक्ट्स 15 से 20 फीसदी तक महंगे हो गए हैं. वहीं इंपोर्टेड चाय की कीमत 35 से 40 रुपये प्रति किलो बढ़ गई है.

इसलिए पाकिस्तानियों को सता रही है महंगाई की मार
Loading...



(1) गंभीर आर्थिक संकट के बीच पाकिस्तान को पिछले हफ्ते अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ़) से छह अरब डॉलर का बेल आउट पैकेज मिला. लेकिन यह कर्ज़ पाकिस्तान को तीन साल के दौरान मिलेगा. इससे लंबे समय से आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान के आधारभूत ढांचे और क़र्ज़ की देनदारी में सुधार की उम्मीदों को लेकर चिंताएं अभी भी कायम है. इसीलिए शेयर बाजार और रुपये में बिकवाली है.

(2) पाकिस्तान के मौजूदा प्रधानमंत्री इमरान ख़ान के लिए इस समझौते की शर्तें बेहद चिंताजनक है. स्थानीय मीडिया में अभी से आलोचना शुरू हो गई है. पाकिस्तानी अखबारों के मुताबिक, आईएमएफ़ ने लाखों लोगों पर जो कमरतोड़ आर्थिक बोझ डाला है उसके परिणाम जल्द सामने आएंगे. आईएमएफ़ की शर्तें लागू करने से आम लोगों पर महंगाई का बोझ बढ़ जाएगा.

(3) अर्थशास्त्री मानते हैं कि मौजूदा समय में पाकिस्तान महंगाई की मार को झेल रहा है. ऐसे में बढ़ती बेरोज़गारी के बीच इस बेलआउट पैकेज से ईंधन पर टैक्स बढ़ेगा, बिजली महंगी होगी और पाकिस्तानी रुपये में और गिरावट आएगी.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...