• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • पीएलआई स्कीम से भारत में मैन्युफैक्चरिंग के लिए टेस्ला को आकर्षित करने में मदद मिलेगी: पांडेय

पीएलआई स्कीम से भारत में मैन्युफैक्चरिंग के लिए टेस्ला को आकर्षित करने में मदद मिलेगी: पांडेय

 पांच वर्षों में 42,500 करोड़ रुपये से अधिक का नया निवेश होगा

पांच वर्षों में 42,500 करोड़ रुपये से अधिक का नया निवेश होगा

भारी उद्योग मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय ने गुरुवार को उम्मीद जताई कि वाहन क्षेत्र के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना से अमेरिकी इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला को भारत में विनिर्माण के लिए आकर्षित करने में मदद मिलेगी.

  • Share this:

    नई दिल्ली . भारी उद्योग मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय ने गुरुवार को उम्मीद जताई कि वाहन क्षेत्र के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना से अमेरिकी इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला को भारत में विनिर्माण के लिए आकर्षित करने में मदद मिलेगी. पांडेय ने कहा कि यह योजना वाहन उद्योग की वृद्धि को बढ़ावा देने और इसे विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाने में मदद करेगी.

    केंद्रीय मंत्रिमंडल ने वाहन, वाहन कलपुर्जा और ड्रोन उद्योग के लिए 26,058 करोड़ रुपये की उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना को मंजूरी दी है. यह पूछे जाने पर कि क्या यह योजना भारत में विनिर्माण आधार स्थापित करने के लिए अमेरिकी फर्म को आकर्षित करने में मदद करेगी, पांडेय ने कहा, ‘‘टेस्ला निश्चित रूप से इस योजना के प्रति आकर्षित होगी. मुझे उम्मीद है.’’

    7.5 लाख से अधिक नौकरियों के नए मौके तैयार होंगे 
    एक आधिकारिक बयान में बुधवार को कहा गया कि वाहन और वाहन कलपुर्जा उद्योग के लिए पीएलआई योजना के तहत पांच वर्षों में 42,500 करोड़ रुपये से अधिक का नया निवेश होगा और 2.3 लाख करोड़ रुपये से अधिक का बढ़ा हुआ उत्पादन हासिल होगा. साथ ही इससे 7.5 लाख से अधिक नौकरियों के नए मौके तैयार होंगे.

    यह भी पढ़ें- फेसबुक का दोहरा रवैया: आम लोगों पर सख्ती, पर पावरफुल, सेलेब्रिटी व नेताओं को नियम तोड़ने की छूट

    वाहन क्षेत्र के लिए पीएलआई योजना उच्च मूल्य के उन्नत ऑटोमोटिव प्रौद्योगिकी वाहनों और उत्पादों को प्रोत्साहित करेगी. इससे उच्च प्रौद्योगिकी, अधिक कुशल और हरित वाहन विनिर्माण के क्षेत्र में एक नए युग की शुरुआत होगी.

    मंत्री ने कहा कि टेस्ला ने कुछ कर रियायतें मांगी हैं, लेकिन उसे पहला कदम उठाना चाहिए और फिर सरकार उनकी मांग पर विचार करेगी. टेस्ला ने भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) पर आयात शुल्क में कमी की मांग की है.

    अमेरिकी कंपनी ने सरकार से अनुरोध किया है कि सीमा शुल्क मूल्य से इतर इलेक्ट्रिक कारों पर शुल्क को 40 प्रतिशत तक मानकीकृत किया जाए और इलेक्ट्रिक कारों पर 10 प्रतिशत का सामाजिक कल्याण अधिभार वापस लिया जाए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज