खेती के लिए 5.6 करोड़ किसानों के बैंक अकाउंट में पहुंचे 4-4 हजार रुपये, आपको मिले क्या?

आपको नहीं मिला किसान सम्मान निधि स्कीम का पैसा, अधिकारी कर रहे हैं मनमानी तो इस नंबर 011-23381092 पर करें शिकायत

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 9:52 AM IST
खेती के लिए 5.6 करोड़ किसानों के बैंक अकाउंट में पहुंचे 4-4 हजार रुपये, आपको मिले क्या?
देश में 14.5 करोड़ किसान परिवार हैं
ओम प्रकाश
ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: July 26, 2019, 9:52 AM IST
मोदी सरकार ने देश के करीब पौने छह करोड़ किसानों के बैंक अकाउंट में चार-चार हजार रुपये खेती-किसानी के लिए भेज दिए हैं. लेकिन नौ करोड़ किसान परिवार अब भी पैसे का इंतजार कर रहे हैं. जिन्हें एक भी किस्त नहीं मिली है. ऐसे हजारों पात्र किसान हैं जो भटक रहे हैं लेकिन उनके जिले के कृषि अधिकारियों और लेखपालों की लापरवाही से उन्हें लाभ नहीं मिल पा रहा है. ऐसे किसान सीधे मंत्रालय में फोन करके किसान हेल्प डेस्क (PM-KISAN Help Desk) के ई-मेल Email (pmkisan-ict@gov.in) पर संपर्क कर सकते हैं. वहां से भी न बात बने तो इस सेल के फोन नंबर 011-23381092 (Direct HelpLine) पर फोन करके अपनी समस्या बता दें.

ऐसे ही एक किसान हैं बुलंदशहर के गांव असदपुरघेड़ के चंद्रमणि आर्य. जिन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार को लिखा है कि वह नियमों के मुताबिक PM किसान सम्मान निधि के दायरे में आते हैं. उनका पहली ही लिस्ट में नाम भी आ चुका है. लेखपाल से मिलकर उन्होंने बाकायदा लिस्ट में नाम चेक भी किया था. लेकिन बाद में उनका नाम कट गया और किसान सम्मान निधि का पैसा नहीं मिला. खेती के अलावा आय का अन्य कोई स्रोत भी नहीं है.

 farmer, kisan, pradhan mantri kisan samman nidhi scheme, Modi Government, agriculture, farmer welfare, Doubling of Farmers Income, agriculture loan waiver, debt relief scheme for former, किसान, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, मोदी सरकार, कृषि, किसान कल्याण, किसानों की आय दोगुनी, कृषि कर्जमाफी, narendra modi, नरेंद्र मोदी, PM-Kisan, पीएम-किसान, beneficiary list of PM-Kisan, पीएम किसान निधि के लाभार्थियों की सूची
यूपी के डेढ़ करोड़ किसानों के बैंक अकाउंट में पैसा पहुंचा


आर्य लिखते हैं कि कई बार उन्होंने अपने क्षेत्र के लेखपाल से संपर्क भी किया, लेकिन वह फोन नहीं उठाते. लेखपाल के इस व्यवहार को लेकर ग्राम प्रधान को बताया गया, लेकिन कोई निष्कर्ष नहीं निकला. आर्य जैसे लाखों किसान अधिकारियों के रवैये की वजह से इस स्कीम का लाभ नहीं ले पा रहे. वैसे 21 जुलाई तक की रिपोर्ट के मुताबिक 5,59,66,241 किसानों को स्कीम का लाभ मिल चुका है. लेकिन यह ध्यान रखना होगा कि देश में 14.5 करोड़ किसान हैं.

उत्तर प्रदेश के सबसे ज्यादा किसानों ने फायदा उठाया है. यहां के करीब डेढ़ करोड़ किसानों के बैंक अकाउंट में पैसा जा चुका है. जबकि दिल्ली, लक्षदीव और पश्चिम बंगाल के एक भी किसान को लाभ नहीं मिला. क्योंकि यहां की राज्य सरकारों ने केंद्र को किसानों के नाम ही नहीं भेजे. केंद्र पैसा देना चाहता है लेकिन ये राज्य सरकार किसानों को लाभ नहीं लेने दे रही हैं.

इन राज्यों के किसानों को मिला सबसे ज्यादा लाभ
यूपी को सबसे अधिक फायदा मिला है. बीजेपी शासित गुजरात में 38.34 लाख, हरियाणा में 11.95 लाख, महाराष्ट्र में 52.44 लाख और उत्तराखंड में 4.8 लाख किसानों को लाभ मिला है. जेडीयू-बीजेपी शासित बिहार में बिहार में 18.42 लाख किसानों के अकाउंट में पैसा भेज दिया गया है. जबकि कांग्रेस शासित पंजाब में 13.38 लाख, मध्य प्रदेश में 14.68 लाख, राजस्थान में 29.34 लाख, गैर कांग्रेसी तेलंगाना में 30.44 लाख और ओडिशा में 28.23 लाख लाभार्थी हैं.
Loading...

पैसा पाने के लिए क्या करें?
कृषि विभाग में रजिस्ट्रेशन करवाइए. लेखपाल से संपर्क करें वह वेरीफिकेशन करेगा. रेवेन्यू रिकॉर्ड, बैंक अकाउंट नंबर, मोबाइल नंबर देना होगा. इस समय ब्लाक में भी इस स्कीम के लिए किसानों के नाम की एंट्री हो रही है.

 farmer, kisan, pradhan mantri kisan samman nidhi scheme, Modi Government, agriculture, farmer welfare, Doubling of Farmers Income, agriculture loan waiver, debt relief scheme for former, किसान, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, मोदी सरकार, कृषि, किसान कल्याण, किसानों की आय दोगुनी, कृषि कर्जमाफी, narendra modi, नरेंद्र मोदी, PM-Kisan, पीएम-किसान, beneficiary list of PM-Kisan, पीएम किसान निधि के लाभार्थियों की सूची
किसान सम्मान निधि स्कीम की शुरुआत 24 फरवरी काे हुई थी


इन्हें नहीं मिलेगा लाभ
एमपी, एमएलए, मंत्री और मेयर को भी लाभ नहीं दिया जाएगा, भले ही वो किसानी भी करते हों. मल्टी टास्किंग स्टाफ/चतुर्थ श्रेणी/ समूह डी कर्मचारियों को छोड़कर केंद्र या राज्य सरकार में अधिकारी एवं 10 हजार से अधिक पेंशन पाने वाले किसानों को इसका लाभ नहीं मिलेगा. पेशेवर, डॉक्टर, इंजीनियर, सीए, वकील, आर्किटेक्ट, जो कहीं खेती भी करता हो उसे इस लाभ का हकदार नहीं माना जाएगा. पिछले वित्तीय वर्ष में इनकम टैक्स का भुगतान करने वाले इस लाभ से वंचित होंगे.

ये भी पढ़ें: यहां इसलिए हो रही है किसान क्रेडिट कार्ड का लोन माफ करने की मांग!  

क्या आपको मिला खेती-किसानी से जुड़ी इन बड़ी योजनाओं का लाभ?
First published: July 23, 2019, 9:28 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...