होम /न्यूज /व्यवसाय /

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम : 3.74 करोड़ किसानों को मिली 2000 रुपये की तीसरी किश्त, ऐसे चेक करें अपना नाम

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम : 3.74 करोड़ किसानों को मिली 2000 रुपये की तीसरी किश्त, ऐसे चेक करें अपना नाम

कांग्रेस ने लोकसभा में केन्द्र सरकार पर राज्य सरकार के साथ भेदभाव का आरोप लगाया गया है. (File Photo)

कांग्रेस ने लोकसभा में केन्द्र सरकार पर राज्य सरकार के साथ भेदभाव का आरोप लगाया गया है. (File Photo)

PM-Kisan Samman Nidhi Scheme: सिर्फ 3.74 करोड़ लोगों को ही मिल सकी है तीसरी किश्त, जानिए 7 करोड़ किसान परिवारों को कैसे मिलेगा लाभ?

    नई दिल्ली. किसानों से जुड़ी मोदी सरकार की सबसे बड़ी योजना पीएम-किसान सम्मान निधि स्कीम (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme) में अब तक 7.65 करोड़ लोगों को पैसा मिल चुका है. करीब 7 करोड़ लोग अभी इसका इंतजार कर रहे हैं. जबकि स्कीम की शुरुआत हुए करीब साढ़े आठ महीने हो चुके हैं. यदि आप भी बचे हुए 7 करोड़ किसान (Farmers) परिवारों में शामिल हैं तो चिंता मत कीजिए. अब इस स्कीम का लाभ पाने के लिए आप खुद ही रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. अब आपको अधिकारियों के पास नहीं जाना पड़ेगा. इसके किसान पोर्टल (Kisan Portal) पर जाकर खुद ही अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं.

    सिर्फ 3.74 करोड़ लोगों को मिली तीसरी किश्त
    योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 फरवरी को यूपी के गोरखपुर से की थी. इस स्कीम के तहत साल भर में 87 हजार करोड़ रुपये किसानों के बैंक अकाउंट (Bank Account) में डाले जाने थे जिसमें से अब तक करीब 30 हजार करोड़ खर्च हुए हैं. तीसरी किश्त सिर्फ 3.74 करोड़ लोगों को ही मिल सकी है. इसी तरह दूसरी किश्त लेने वाले किसानों की संख्या करीब 6.25 करोड़ है. जबकि देश में 14.5 करोड़ किसान परिवार हैं. आधार वेरीफिकेशन में देरी की वजह से तीसरी और अंतिम किश्त का पैसा पहुंचने में देर हो रही है. किसान सम्मान निधि स्कीम के तहत खेती-किसानी के लिए 2-2 हजार की तीन किश्त में सालाना 6000 रुपये मिलते हैं.

    farmer, kisan, pradhan mantri kisan samman nidhi scheme, Modi Government, agriculture, farmer welfare, किसान, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, मोदी सरकार, कृषि, किसान कल्याण, arvind kejriwal, mamata banerjee, AAP, delhi, west bengal, अरविंद केजरीवाल, ममता बनर्जी, आम आदमी पार्टी, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, narendra modi, नरेंद्र मोदी, PM-Kisan, पीएम-किसान, beneficiary list of PM-Kisan, पीएम किसान निधि के लाभार्थियों की सूची, Ayushman Bharat, आम आदमी पार्टी
    24 फरवरी को गोरखपुर में लॉंच हुई थी किसान सम्मान निधि स्कीम


    कांग्रेस शासित राज्य भी उठा रहे पूरा फायदा
    स्कीम का लाभ लेने में कांग्रेस शासित राज्य पंजाब, राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ भी पीछे नहीं हैं. राजनीतिक रस्साकशी को अलग रखकर कांग्रेस की इन सरकारों ने अपने राज्य के किसानों को स्कीम का भरपूर फायदा दिलाया है. राज्यों से लगातार लाभ लेने के इच्छुक किसानों की सूची केंद्र सरकार को भेजी जा रही है और उसे मंजूर करके कृषि मंत्रालय (Ministry of Agriculture) पैसा भेज रहा है.

    कांग्रेस शासित किस राज्य को कितना लाभ


    >>कृषि मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में 11 नवंबर तक 15,25668 किसानों को पैसा मिल चुका है.

    >>मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 43,70,729 किसानों को खेती-किसानी के लिए केंद्र सरकार सहायता दे चुकी है.

    >>पंजाब (Punjab) ने भी इस स्कीम में खूब दिलचस्पी दिखाई है. यहां अब तक 21,73,562 किसानों को फायदा मिल चुका है.

    >>कांग्रेस शासित प्रदेशों में राजस्थान (Rajasthan) ने सबसे ज्यादा 51,75,040 किसानों के बैंक अकाउंट में पैसा भेजा जा चुका है.

    farmer, kisan, pradhan mantri kisan samman nidhi scheme, Modi Government, agriculture, farmer welfare, Delhi Assembly election, किसान, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना, मोदी सरकार, कृषि, किसान कल्याण, arvind kejriwal, AAP, delhi, अरविंद केजरीवाल, आम आदमी पार्टी, दिल्ली, narendra modi, नरेंद्र मोदी, दिल्ली विधानसभा चुनाव, PM-Kisan, पीएम-किसान, beneficiary list of PM-Kisan, पीएम किसान निधि के लाभार्थियों की सूची, Ayushman Bharat, आयुष्मान भारत
    मोदी सरकार की किसान स्कीम दिल्ली में लागू हो गई है


    दिल्ली ने दरवाजे खोले, लेकिन बंगाल में रास्ता बंद
    दिल्ली सरकार अपने यहां किसान सम्मान निधि स्कीम को लागू नहीं कर रही थी. लेकिन चुनाव नजदीक आते ही उसने इसकी इजाजत दे दी. देर से इजाजत मिलने की वजह से यहां के सिर्फ 11,805 किसानों को ही स्कीम का लाभ मिल सका है.

    हालांकि गैर कांग्रेसी और गैर भाजपाई पश्चिम बंगाल सरकार ने अब तक इस स्कीम को बंगाल में लागू करने के लिए अनुमति नहीं दी है. इसलिए अब तक वहां के एक भी किसान को फायदा नहीं मिल रहा है. बीजेपी ने इसे लोकसभा चुनाव में मुद्दा बनाया था कि केंद्र किसानों के लिए पैसा भेजता है लेकिन पश्चिम बंगाल सरकार उसे लेने नहीं देती.



    ये भी पढ़ें:

    खुशखबरी: घटने लगी बंजर जमीन, विशेषज्ञों ने कहा-जैविक खेती से सुधरेगी धरती की सेहत!
    दिल्ली में साल भर जहरीली रहती है हवा, सिर्फ किसानों को कोसना छोड़िए!

    Tags: Farmer, Kisan, Ministry of Agriculture, Modi government

    अगली ख़बर