लाइव टीवी

'फिर से BJP सरकार बनने की उम्मीद, लेकिन देश बदलने के लिए मोदी को चाहिए 10 साल'

hindi.moneycontrol.com
Updated: April 30, 2019, 1:45 PM IST
'फिर से BJP सरकार बनने की उम्मीद, लेकिन देश बदलने के लिए मोदी को चाहिए 10 साल'
नरेंद्र मोदी

CLSA के मुख्य रणनीतिकार क्रिस्टोफर वुड ने अपने सप्ताहिक समाचार पत्र में कहा है कि नरेंद्र मोदी सरकार की जीत तय है, लेकिन इस बार भाजपा का बहुमत घटेगा.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव में मतदान के चार चरण बीतने के बाद दावों और संभावनाओं के बीच राजनीतिक दलों ने एक-एक सीट पर गुणा-भाग तेज कर दिया है. इसी कड़ी में CLSA के मुख्य रणनीतिकार क्रिस्टोफर वुड ने अपने सप्ताहिक समाचार पत्र में कहा है कि नरेंद्र मोदी सरकार यानी की बीजेपी की जीत तय है, लेकिन इस बार भाजपा का बहुमत घट जायेगा. अगर हम मोदी को बारीकी से परखें तो 2019 में पीएम मोदी का फोकस आर्थिक विकास से बदलकर एक राष्ट्रवादी रूख बन गया है. वुड ने लिखा है कि पाकिस्तान को लेकर मोदी के आक्रामक रुख अपनाने से बीजेपी को फायदा होगा. वुड का कहना है कि यह मोदी की स्मार्ट पॉलिटिक्स है. 

मोदी के पास हैं भारत को बदलने का एजेंडा-अपने सप्ताहिक समाचार पत्र ग्रीड एंड फेयर में वुड लिखते हैं कि मोदी भारत में सुधार के लिए प्रतिबद्ध हैं. और मोदी के पास भारत को बदलने के लिए एजेंडा है. इसे पूरा होने में कम से कम 10 साल लग जाते हैं. क्रिस्टोफर वुड इस बात को भली भांति मानते हैं कि मोदी ने कई संरचानात्मक सुधार किए हैं. जो इस सिस्टम के विरुद्ध हैं. वो मोदी के भी विरोधी हैं.(ये भी पढ़ें: जानें पीएम मोदी से लेकर राहुल गांधी तक कहां लगाते हैं अपना पैसा)

रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले अगस्त के आखिरी में आईएल एंड एफएस में संकट के बादल मंडराने लगे हैं. वहीं एनएबीएफसी में भी रफ्तार बेहद सुस्त रही. रही सही कसर जीएसटी के इम्पलीमेंटेशन ने पूरी कर दी.

ये भी पढ़ें: 20 करोड़ लोगों के PAN कार्ड हो सकते हैं बेकार, सरकार की ये है प्लानिंग

मोदी की वापसी की उम्मीद से चढ़ा शेयर बाजार-सीएलएसए के मुख्य रणनीतिकार ने यह भी कहा कि भारतीय शेयर बाजार इस साल फरवरी के निचले स्तर से 10 फीसदी चढ़ गया है. केंद्र में बीजेपी की सरकार बनने की उम्मीद में यह हाल ही में नए शिखर पर भी पहुंचा था. पिछले कुछ दिनों से कच्चे तेल के दाम में आई तेजी से भारतीय शेयर बाजार का सेंटीमेंट बिगड़ा है. पिछले हफ्ते क्रूड ऑयल की कीमत 75 डॉलर प्रति बैरल से अधिक हो गई.

100 डॉलर हो सकती है क्रूड की कीमतें अगर...अमेरिका ने पिछले सोमवार को कहा था कि ईरान से तेल खरीदने के मामले में उसने जिन देशों को छूट दी है, वह उसे आगे नहीं बढ़ाएगा. भारत को भी यह छूट मिली हुई है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ईरान के तेल निर्यात को पूरी तरह रोकना चाहते हैं.

वुड का मानना है कि ट्रंप इससे पीछे हट सकते हैं. उन्होंने कहा, अगर अमेरिका इस चेतावनी पर अमल करता है तो तेल की कीमत 100 डॉलर प्रति बैरल हो जाएगी, जैसा कि छह महीने पहले भी हुआ था.ये भी पढ़ें: चीन को झटका देकर भारत आने की तैयारी में 200 बड़ी अमेरिकी कंपनियां! मिलेंगी हजारों नौकरियां
Loading...

महंगा क्रूड भारत समेत कई देशों के लिए खतरनाक- एशिया और इमर्जिंग मार्केट्स में बढ़ती मांग के चलते वुड क्रूड ऑयल में तेजी का रुझान बना हुआ हैं. उन्होंने कहा कि तेल की ऊंची कीमतों से भारतीय अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ सकता है.

यह यहां के शेयर बाजार के लिए अगले पांच साल में सबसे बड़ा रिस्क है. वुड इमर्जिंग मार्केट्स की करेंसी में रुपये पर बुलिश नहीं हैं. उन्होंने कहा कि रियल इफेक्टिव एक्सचेंज रेट के आधार पर रुपया सस्ता नहीं है.

आरबीआई की नई लीडरशिप ने ब्याज दरों में कटौती शुरू की है. इसका मतलब यह है कि इसके लिए पहले की तरह हाई रियल इंटरेस्ट रेट का प्रोटेक्शन खत्म हो रहा है.ये भी पढ़ें: तीसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक ने ग्राहकों को किया अलर्ट! एक फोन कॉल पर खाली हो रहे हैं बैंक खाते

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 30, 2019, 1:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...