पीएम मोदी ने रेहड़-पटरी वालों के लिए शुरू हुई क्रेडिट स्कीम का जायजा लिया, 2.6 लाख लोग कर चुके हैं आवेदन

पीएम मोदी ने रेहड़-पटरी वालों के लिए शुरू हुई क्रेडिट स्कीम का जायजा लिया, 2.6 लाख लोग कर चुके हैं आवेदन
मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी देश को कर रहे हैं संबोधित (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार को रेहड़ी-पटरी वालों (Street Vendors) को छोटा कार्यशली पूंजी कर्ज (Micro-Credit Scheme) उपलब्ध कराने वाली योजना के कार्यान्वयन की समीक्षा की. इसके तहत एक साल की अवधि के लिए 10,000 रुपये तक का गारंटी मुक्त कार्यशील पूंजी कर्ज दिया जा रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शनिवार को आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय की ‘पीएम-स्वनिधि’ योजना (PM Svanidhi Scheme) के कार्यान्वयन की समीक्षा की. यह योजना रेहड़ी-पटरी वालों (Street Vendors) को छोटा कार्यशील पूंजी कर्ज उपलब्ध कराने के लिए तैयार की गई है. उन्होंने कहा कि इस योजना को सिर्फ कर्ज देने के रूप में नहीं बल्कि रेहड़ी-पटरी वालों के समग्र विकास और आर्थिक उत्थान के परिप्रेक्ष्य में देखा जाना चाहिए.

रेहड़ी-पटरी वालों को 10 हजार तक का कर्ज
कोरोना वायरस महामारी (Corona Virus Pandemic) के मद्देनजर रेहड़ी-पटरी वालों को आत्मनिर्भर बनाने के मकसद से शुरू की गई पीएम स्वनिधि योजना के तहत करीब 50 लाख लोगों को एक साल की अवधि के लिए 10,000 रुपये तक का गारंटी मुक्त कार्यशील पूंजी कर्ज दिया जा रहा है. समीक्षा के दौरान बताया गया कि योजना के लिए 2.6 लाख आवेदन मिल चुके हैं. इनमें से 64,000 आवेदनों को मंजूरी दी जा चुकी है और 5,500 से अधिक को कर्ज का भुगतान किया जा चुका है.
यह भी पढ़ें: आम आदमी को लगा एक और झटका- कार चलाना हुआ महंगा, CNG हुई महंगी

पूर्ण IT समाधान पर काम कर रही है सरका


प्रधानमंत्री ने योजना के कार्यान्वयन में पारदर्शिता, विश्वसनीयता और गति सुनिश्चित करने के लिए वेब पोर्टल और मोबाइल ऐप के इस्तेमाल पर संतोष जताया. गौरतलब है कि योजना को बेहतर ढंग से लागू करने के लिए आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय मोबाइल एप्लीकेशन सहित एक पूर्ण आईटी समाधान पर काम कर रहा है.

डिजिटल लेनदेन पर जोर
मोदी ने कहा कि योजना के तहत डिजिटल लेनदेन का इस्तेमाल करने वालों को प्रोत्साहन मिलना चाहिए और इसके दायरे में कच्चे माल की खरीद से लेकर बिक्री, आय के संग्रह तक उनका पूरा कारोबार होना चाहिए. उन्होंने कहा कि डिजिटल भुगतान के उपयोग से रेहड़ी-पटरी वालों के क्रेडिट प्रोफाइल बनने में भी मदद मिलेगी, जिससे उनकी भविष्य की वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने में आसानी होगी.

यह भी पढ़ें: आत्‍मनिर्भर भारत के लिए सरकार का बड़ा कदम! इस सेक्‍टर को दी करोड़ाें की मदद

कैशबैक जैसे प्रोत्साहन की भी सुविधा
प्रधानमंत्री ने कहा कि योजना को सिर्फ रेहड़ी-पटरी वालों को कर्ज देने के संदर्भ में नहीं देखना चाहिए, बल्कि इसे उनके समग्र विकास और आर्थिक उत्थान के रूप में देखना चाहिए. उन्होंने कहा कि इस दिशा में एक कदम से उनका पूरा सामाजिक आर्थिक विवरण मिल जाएगा, जिससे आवश्यक नीतिगत कदम उठाना आसान हो जाएगा. पीएम स्वनिधि योजना के तहत समय से भुगतान करने पर ब्याज सब्सिडी और डिजिटल भुगतान करने पर कैशबैक जैसे प्रोत्साहन भी दिए जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading