एक लाख करोड़ रुपये के एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड से रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे: पीएम मोदी

एक लाख करोड़ रुपये के एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड से रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे: पीएम मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Photo: ANI)

रविवार को एक लाख करोड़ रुपये के एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड (Agriculture Infrastructure Fund) लॉन्च करते वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इससे गांवों तक आधुनिक सुविधाएं पहुंच सकेंगी और रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे. उन्होंने ​कहा कि 10 हजार नये एफपीओ भी खोले जाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 9, 2020, 4:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने रविवार को कहा कि 1 लाख करोड़ रुपये के एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड (Agriculture Infrastructure Fund) की मदद से गावों में आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध हो सकेंगी और इससे रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे. पीएम मोदी ने रविवार को कृषि क्षेत्र के लिए फाइनेंस फैसिलिटी (Finance Facility) को लॉन्च किया और करीब 8.5 करोड़ किसानों के खाते में पीएम-किसान सम्मान निधि योजना की छठी किस्त भी जारी की. इस दौरान उन्होंने कहा कि हर जिले के प्रसिद्ध उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए एक बड़ी योजना तैयार की गई है. इन उत्पादों को देश और विदेश के बाजारों तक आत्मनिर्भर भारत योजन के तहत पहुंचाया जाएगा.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'आज 1 लाख करोड़ रुपये का स्पेशल फंड जारी किया गया है. इससे बेहतर भंडारण, गांवों में आधुनिक कोल्ड स्टोरेज चेन्स और ग्रामीण इलाकों में रोजगार के नये अवसर मिल सकेंगे. इससे गांवों में किसानों के समूह, किसान कमिटी, FPO से लेकर वेयरहाउस और कोल्ड स्टोरेज बनाने व फूड प्रोसेसिंग संबंधित इंडस्ट्रीज सेटअप करने में मदद मिलेगी.'

उन्होंने आगे कहा कि ये आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर आगे जाकर कृषि आधारित इंडस्ट्रीज सेटअप करने में मदद करेंगी. आत्मनिर्भर भारत कैंपेन के तहत एक बड़ी योजना तैयार की गई है, जिसमें प्रत्यके जिले की प्रसिद्ध उत्पाद को देश-विदेश के बाजार तक पहुंचाया जाएगा.



यह भी पढ़ें: सरकारी कंपनी NTPC ने रचा इतिहास, बनाया सबसे ज्यादा बिजली पैदा करने का रिकॉर्ड
10 हजार नये एफपीओ खोले जाएंगे
प्रधानमंत्री ने कहा, 'कृषि आधारित इंडस्ट्रीज कौन संचालित करेगा? इसकी अधिकतर हिस्सेदारी फार्मर्स प्रोडक्शन ऑर्गेनाइजेशन (FPO) के पास जाएगा. आने वाले सालों में 10 हजार नये एफपीओ बनाने पर जोर दिया जाएगा.' उन्होंनें कहा कि फूड प्रोसेसिंग, आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, स्मार्ट फार्मिंग इक्विपमेंट और रिन्यूवेबल एनर्जी के लिए 350 एग्रीकल्चर स्टार्टअप को सपोर्ट किया जाएगा. पीएम-किसान सम्मान निधि योजना का मूल उद्देश्य पूरा हो रहा है.

लॉकडाउन में किसानों को 22 हजार करोड़ रुपये ट्रांसफर किया गया
प्रधानमंत्री ने कहा, 'आज बस एक क्लिक में 8.5 करोड़ किसानों के खाते में 17,000 करोड़ ट्रांसफर किए गए. इसमें किसी मध्यस्थ या कमिशन की भूमिका नहीं है, यह सीधे किसानों तक पहुंचा है. मुझे संतुष्टि है क्योंकि इस योजना का मूल उद्देश्य पूरा हो रहा है. आज हर किसान परिवार को सही समय पर सहायता मिल रही है.' बीते डेढ़ साल में 75 हजार करोड़ रुपये किसानों के खाते में सीधे तौर पर ट्रांसफर किए गए हैं. इसमें से 22 हजार करोड़ रुपये केवल लॉकडाउन के दौरान ही ट्रांसफर हुए हैं.

यह भी पढ़ें: ग्लोबल सप्लाई चेन में एक भरोसेमंद भागीदार बन सकता है भारत- पीयूष गोयल

पीएम ने कहा कि किसान और किसानी से संबंधित सभी समस्याओं को आत्मनिर्भर भारत के के तहत सुलझाया जा रहा है. देश के लिए 'एक मंडी' के मिशन पर बीते 7 सल से काम चल रहा है. अब यह पूरा हो गया है. पहले e-NAM के तहत तकनीक आधारिक एक बड़े सिस्टम को तैयार किया गया है. अब कानून बनाने के साथ, किसानों को मंडी टैक्स का भी लाभ मिला. किसानों के पास कई तरह के विकल्प हैं. अब उनपर निर्भर करता है तो वो अपनी फसल को कहां बेचना चाहते हैं. या सीधे वेयरहाउस पहुंचाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज