अपना शहर चुनें

States

पीएम मोदी 10 दिसंबर को करेंगे नए संसद भवन का शिलान्यास, 2022 तक बनकर होगा तैयार, जानें कैसा होगा नया संसद भवन

पीएम मोदी गुरुवार को नए संसद भवन का शिलान्यास करेंगे.
पीएम मोदी गुरुवार को नए संसद भवन का शिलान्यास करेंगे.

नए संसद भवन (New parliament house) का निर्माण टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड (Tata Projects Limited) द्वारा किया जाएगा. इस परियोजना पर 861.90 करोड़ रुपये खर्च होंगे. इसके लिए टाटा (TATA) ने इसी साल सितंबर में सबसे कम बोली लगाई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 9, 2020, 8:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के तहत पीएम मोदी गुरुवार को नए संसद भवन का शिलान्यास करेंगे. नए संसद भवन का निर्माण 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. आपको बता दें नए संसद भवन का निर्माण टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड द्वारा किया जाएगा. इस परियोजना पर 861.90 करोड़ रुपये खर्च होंगे. इसके लिए टाटा ने इसी साल सितंबर में सबसे कम बोली लगाई थी. जिसके बाद सरकार ने टाटा को भवन के निर्माण की ज़िम्मेदारी सौंपी. वहीं नए संसद भवन के शिलान्यास से पहले विवाद भी शुरू हो गया है. इसके निर्माण पर होने वाले खर्च और पर्यावरण संबंधित चिंताओं को देखते हुए कई लोग सवाल उठा रहे हैं. इस सबके बीच लोकसभा के स्पीकर ओम बिड़ला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करके. उन्हें नए संसद भवन के शिलान्यास का न्यौता दिया था.    



नया संसद भवन मौजूदा संसद भवन से बड़ा होगा- आपको बता दें मौजूदा संसद भवन गोलाकार है. जिसमें लोकसभा के 545 और राज्यसभा के 245 सांसद बैठते है. भविष्य की जरूरत को ध्यान में रखते हुए नए संसद भवन में लोकसभा और राज्यसभा के कुल 1,224 सांसदों के बैठने की व्यवस्था होगी. जिसमें लोकसभा सदन में 888 सांसदों के बैठने की व्यवस्था होगी, वहीं राज्यसभा सदन में 384 सांसद बैठ सकेंगे. ऐसे में नया संसद भवन मौजूदा संसद भवन से आकार में बड़ा होगा और इसमें सुरक्षा और अत्याधुनिक सुविधाओं का ख्याल रखा जाएगा. 



यह भी पढ़ें: कैबिनेट ने आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को दी मंजूरी, 22810 करोड़ रुपये होंगे खर्च, 48 लाख कर्मचारियों को होगा फायदा

त्रिकोणीय आकार का होगा नया संसद भवन- नया संसद भवन त्रिकोणीय आकार का होगा. यह मौजूदा संसद भवन के पास ही बनेगा. संसद भवन के परिसर में लोकसभा होगी जो मौजूदा संसद भवन से तीन गुना ज्यादा बड़ी होगी. राज्यसभा भी काफी बड़ी होगी. नए संसद भवन के अंदर भारतीय संस्कृति की छाप होगी. जिसमें भारत की विविधता के दर्शन होंगे. नए संसद भवन के परिसर में सांसदों का दफ्तर भी होगा. नए संसद भवन में एक कॉन्स्टिट्यूशन हॉल भी रहेगा, जहां पर संविधान की मूल कॉपी रखी जाएगी. इसके साथ ही विजिटर गैलरी भी तैयारी की जाएगी, जहां पर भारत के लोकतंत्र की विरासत को डिजिटली दिखाया जाएगा. 
यह भी पढ़ें: PM-WANI योजना से देश में आएगी Wi-Fi क्रांति, जानिए इस योजना के बारे में सबकुछ

आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर बनकर तैयार होगा नया संसद भवन- सरकार की योजना है कि नए संसद भवन का निर्माण कार्य अगले 2 साल के भीतर पूरा कर लिया जाए, जिससे की आजादी की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर जो सत्र बुलाया जाए. वह नए संसद भवन में ही बुलाया जाए. वहीं बात की जाए पूरे सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट की तो इसको पूरा करने के लिए 2024 तक की डेडलाइन रखी गई है.

आत्मनिर्भर भारत का हिस्सा- नए संसद भवन के निर्माण को लेकर आवास और शहरी मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि, नए संसद भवन का निर्माण आत्मनिर्भर भारत मिशन का एक आंतरिक हिस्सा है. यह नया संसद भवन न्यू इंडिया की जरूरतों से मेल खाएगा. देश की आजादी के बाद हम खुद संसद भवन का निर्माण करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज