VGIR 2020 Updates: इन्वेस्टर राउंड टेबल में PM मोदी बोले- महामारी में दुनिया ने देखी भारत की ताकत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

वर्चुअल ग्लोबल इन्वेस्टर राउंडटेबल (VGIR - Virutal Golbal Investor Roundtable) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार को कहा कि इस वर्ष भारत ने बहादुरी से वैश्विक कोरोना महामारी का मुकाबला किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2020, 9:24 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वर्चुअल ग्लोबल इन्वेस्टर राउंडटेबल (VGIR - Virutal Golbal Investor Roundtable) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार को कहा कि इस वर्ष भारत ने बहादुरी से वैश्विक कोरोना महामारी का मुकाबला किया. दुनिया ने भारत के राष्ट्रीय चरित्र को देखा. दुनिया ने भारत की असली ताकत भी देखी. बता दें कि इस बैठक को वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) और नेशनल इन्वेस्टमेंट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड (National Investment and Infrastructure Fund) द्वारा आयोजित किया जा रहा है.

भारत को आत्मनिर्भर बनाना केवल सोच नहीं बल्कि सोची-समझी आर्थिक रणनीति
इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना संकट के बीच अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए कई कदम उठाए गए हैं.  उन्होंने कहा कि भारत को आत्मनिर्भर बनाना सिर्फ एक सोच नहीं बल्कि यह सोची-समझी आर्थिक रणनीति है. मोदी ने इस मौके पर कृषि क्षेत्र में हालिया सुधारों का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, ''कृषि क्षेत्र में सुधारों ने किसानों के साथ भागीदारी की नई संभावनाओं को खोला है और भारत शीघ्र ही कृषि निर्यात के बड़े केंद्र के रूप में उभरेगा. भारत को वैश्विक आर्थिक वृद्धि के पुनरुद्धार का इंजन बनाने को जो भी करना होगा वह किया जाएगा.''

पीएम ने कहा कि भारत में लोकतंत्र है, युवा जनसंख्या है और इसके साथ ही मांग और विविधता भी है.
दीर्घकालिक निवेश के लिए भारत सबसे बेहतर स्थान


देश में ढांचागत परियोजनाओं में वैश्विक निवेशकों को निवेश के लिए आकर्षित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भारत दीर्घकालिक निवेश के लिहाज से सबसे बेहतर स्थान है. उन्होंने कहा कि भारत कॉरपोरेट कर की सबसे कम दर वाले देशों में से एक है.

उन्होंने कहा, ''यदि आप भरोसे के साथ निवेश पर कमाई चाहते हैं तो भारत ऐसा ही स्थान है. यदि आप लोकतंत्र के साथ मांग चाहते हैं तो भारत आपके लिए है. यदि आप टिकाऊपन के साथ स्थिरता चाहते हैं तो भारत ऐसी ही जगह है. यदि आप पर्यावरण की सुरक्षा के साथ ही आर्थिक वृद्धि चाहते हैं तो भारत ऐसा ही है.''



मुकेश अंबानी समेत ये उद्योगपति शामिल
आज की इस बैठक में HDFC के चेयरमैन दीपक पारेख, सन फार्मा के संस्थापक दिलीप सांघवी, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी, इन्फोसिस के नॉन-एग्जीक्युटिव चेयरमैन नंदन निलेकणि, टाटा ग्रुप के पूर्व चेयरमैन रतन टाटा और कोटक महिंद्रा बैंक के एमडी उदय कोटक भी अपने अनुभव साझा करने के लिए शामिल रहे.

यह भी पढ़ें: वीडियोकॉन केस: ED का बड़ा एक्शन, चंदा कोचर और उनके पति के खिलाफ आरोप पत्र दायर

इन क्षेत्रों के वैश्विक संस्थागत निवेशक शामिल
बैठक में दुनिया के 6 लाख करोड़ डॉलर के एसेट अंडर मैनेजमेंट वाले 20 सबसे बड़े पेंशन फंड (Pension Funds) और सॉवरेन वेल्थ फंड्स (Sovereign Wealth Funds) शामिल हुए. अमेरिका, यूरोप, कनाडा, कोरिया, जापान, मीडिल ईस्ट, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर के वैश्विक संस्थागत निवेशक भी शामिल रहे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज