लाल किले से पीएम मोदी का ऐलान- गांव के हर घर में पहुंचेगा हाई स्पीड इंटरनेट

लाल किले से पीएम मोदी का ऐलान- गांव के हर घर में पहुंचेगा हाई स्पीड इंटरनेट
भारतनेट ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क

डिजिटल माहौल को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार देश के लाखों गांव को 'भारतनेट ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क; के जरिये मुफ्त वाई-फाई सेवा मुहैया कराने की तैयारी में है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 15, 2020, 11:26 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस (Independence Day 2020) के मौके पर सभी 6 लाख से ज्यादा गांवों में ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क पहुंचाने का ऐलान किया है. उन्होंने कहा, ''सभी 6 लाख से ज्यादा गांवों में ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क पहुंचाया जाएगा. हमने तय किया है, आने वाले 1,000 दिन (तीन साल से कम समय) में देश के सभी छह लाख गांवों को तेज इंटरनेट सुविधा देने वाले आप्टिकल फाइबर नेटवर्क से जोड़ दिया जायेगा.' इसके साथ ही सरकार जल्द ही नई साइबर सुरक्षा नीति पर भी लायेगी.

पीएम मोदी ने लालकिले से राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में नये भारत के निर्माण की दिशा में उठाये जा रहे कदमों का उल्लेख करते हुये कहा कि पांच वर्ष में डेढ़ लाख ग्राम पंचायतों को तीव्र इंटरनेट सुविधा उपलब्ध कराने वाली आप्टिकल फाइबर सुविधा से जोड़ा गया है. अन्य एक लाख में भी यह सुविधा पहुंचाई जा रही है.

पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, अगले 1000 दिन में, लक्षद्वीप को भी सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल से जोड़ दिया जाएगा.




क्या है भारतनेट परियोजना?
नेशनल ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क (NoFN) जिसे अब भारतनेट परियोजना का नाम दिया गया है. इसे 2012 में प्रारम्भ किया गया था. परियोजना का उद्देश्य राज्यों और निजी क्षेत्रों की साझेदारी में ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों में नागरिकों और संस्थानों को सस्ती ब्रॉडबैंड सेवाएं प्रदान करना है. इसे भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड (बीबीएनएल) द्वारा कार्यान्वित किया जाता है. BBNL दूरसंचार मंत्रालय के तहत एक विशेष प्रयोजन वाहन है. यह भारत सरकार का महत्वाकांक्षी ग्रामीण इंटरनेट संयोजकता कार्यक्रम है.

ये भी पढ़ें : पीएम मोदी ने की Health ID Card की घोषणा, जानिए क्या होगा आम आदमी को फायदा

डिजिटल इंडिया कार्यक्रम को बढ़ावा देना
इसने सभी जारी और प्रस्तावित ब्रॉडबैंड नेटवर्क परियोजनाओं को समाविष्ट किया है. इस परियोजना का क्रियान्वयन BSNL, RailTel और पावर ग्रिड द्वारा किया जा रहा है और इसे यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (USOF) द्वारा वित्त पोषित किया जा रहा है. इसका उद्देश्य भारत के सभी घरों, विशेष रूप से ग्रामीण परिवारों को मांग के माध्यम से, राज्यों और निजी क्षेत्र के साथ साझेदारी में डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए सस्ती उच्च गति इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करके जोड़ना है.

ये भी पढ़ें : स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज की बिक्री में आई 50% की कमी, हुआ करोड़ों का नुकसान

UPI भीम के जरिये एक माह में हुआ 3 लाख करोड़ रु का लेनदेन-
प्रधानमंत्री ने कहा कि इसके साथ ही हमें साइबर सुरक्षा के प्रति भी सचेत रहना होगा. 'हम इन खतरों का सामना करने के लिये कदम उठा रहे हैं. हम नई साइबर सुरक्षा नीति लेकर आयेंगे. इसके लिये रणनीति बनाने पर काम चल रहा है.' उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया की बदौलत ही यूपीआई भीम के जरिये पिछले एक माह के दौरान तीन लाख करोड़ रुपये का लेनदेन किया गया है. यह प्रौद्योगिकी से ही संभव हो सका है कि गरीबों के जनधन खातों में लाखों करोड़ो रुपये सीधे पहुंच गये. कृषि क्षेत्र में भी व्यापक बदलाव किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज