PM नरेंद्र मोदी ने बताया एनर्जी सेक्‍टर का रोडमैप, कहा-भारत का ऊर्जा क्षेत्र पूरी दुनिया को बनाएगा ऊर्जावान

पीएम नरेंद्र मोदी ने तेल व गैस क्षेत्र की वैश्विक कंपनियों के 45 सीईओ को देश के एनर्जी सेक्‍टर के रोडमैप के बारे में बताया.
पीएम नरेंद्र मोदी ने तेल व गैस क्षेत्र की वैश्विक कंपनियों के 45 सीईओ को देश के एनर्जी सेक्‍टर के रोडमैप के बारे में बताया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने तेल व गैस क्षेत्र (Oil and Gas Sector) की प्रमुख वैश्विक कंपनियों के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारियों (CEOs) को संबोधित करते हुए भारत के ऊर्जा क्षेत्र के रोडमैप की जानकारी दी. उन्‍होंने कहा कि 2030 तक 450 गीगावाट अक्षय ऊर्जा (Solar Energy) पैदा करने का लक्ष्य तय किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2020, 9:01 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. तेल व गैस क्षेत्र (Oil and Gas Sector) की प्रमुख वैश्विक कंपनियों के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारियों (CEO) को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भारत के ऊर्जा क्षेत्र के रोडमैप की जानकारी दी. पीएम मोदी ने कहा कि भारत ऊर्जा क्षेत्र (Energy Sector) में लगातार नई ऊंचाइयों को छू रहा है. दुनिया की प्रमुख तेल और गैस कंपनियों के 45 सीईओ से पीएम मोदी ने कहा कि भारत में ऊर्जा खपत दोगुनी होने की राह पर है. भारत आज दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा और तेजी से बढ़ता हुआ एविएशन मार्केट (Aviation Market) बन चुका है.

देश की रिफाइनरी क्षमता 2030 तक होगी 400 एमएमटी
पीएम मोदी ने कहा कि 2030 तक 450 गीगावाट अक्षय ऊर्जा (Solar Energy) पैदा करने का लक्ष्य तय किया गया है. यहीं नहीं, औद्योगिक देशों के मुकाबले भारत सबसे कम कार्बन उत्सर्जन (Carbon Emission) करता है. साल 2025 तक भारत की रिफाइनरी क्षमता 250 से बढ़कर 400 एमएमटी हो जाएगी. उन्होंने कहा कि देश में गैस का उत्पादन बढ़ाना सरकार की प्राथमिकताओं में है. सरकार की योजना है कि देश मे वन नेशन, वन गैस ग्रिड बनाया जाए. साथ ही कहा कि देश की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) को गैस आधारित अर्थव्यवस्था की ओर ले जाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- सरकारी कंपनियों से नाराज है PMO! दिया बड़ा आदेश, इकोनॉमी को मिलेगी रफ्तार
पीएम ने किया अपनी सरकार की उपलब्धियों का भी जिक्र


कोरोना काल में ऊर्जा क्षेत्र की चुनौतियों का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि साल 2020 में अब तक इस क्षेत्र से मांग करीब एक तिहाई कम हो गई है. वहीं, अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में भी इसकी कीमतों में भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिला है. कोरोना वायरस (Coronavirus Crisis) के कारण ऊर्जा क्षेत्र से जुड़े फैसले भी प्रभावित हुए हैं. ऊर्जा क्षेत्र में भारत की ओर से उठाए गए कदमों के बारे में पीएम मोदी ने बताया कि इस साल जून में भारत का पहला ऑटोमेटेड नेशनल लेवल गैस ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म लांच किया जा चुका है. भारत लगातार आत्मनिर्भरता की ओर कदम बढ़ा रहा है. भारत ने 100 फीसदी इलेक्ट्रिफिकेशन और एलपीजी (LPG) कवरेज के लक्ष्य को हासिल कर लिया है.

ये भी पढ़ें- किसानों को धोखा देने वालों की खैर नहीं! पीएम कुसुम योजना के नाम पर ठगी कर रही फर्जी वेबसाइटों पर केंद्र ने की सख्‍त कार्रवाई



3 साल में सरकार ने बांटे 36 करोड़ से ज्‍यादा एलईडी बल्‍ब
पीएम नरेंद्र मोदी ने बताया कि पिछले 3 साल में 36 करोड़ से जयादा एलईडी बल्ब (LED Bulb) बांटे जा चुके हैं. इससे बिजली की खपत (Electricity Consumption) में बड़ी कमी आई है. वैश्विक लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए भारत ऊर्जा क्षेत्र में काम कर रहा है. वैश्विक समुदाय के प्रति भारत ने जो प्रतिबद्धता जताई है, उसी दिशा में काम चल रहा है. साल 2022 तक 175 गीगावाट अक्षय ऊर्जा उत्पादन करने का लक्ष्य बनाया गया है, जिसे आगे बढ़ाकर साल 2030 तक 450 गीगावाट उत्पादन करना है.

ये भी पढ़ें- किसानों को मिला बंपर फायदा! सरकार खरीफ फसलों की एमएसपी पर जमकर कर रही खरीदारी

पीएम मोदी ने रोडमैप के लिए 7 मानकों का किया जिक्र
1. गैस आधारित अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ने के प्रयासों में तेजी लाना.

2. जीवाश्म ईंधन (Fossil Fuel) खासकर पेट्रोलियम और कोयले का तार्किक व स्वच्छ तरीके से इस्तेमाल करना.

3. जैव ईंधन (Bio Fuel) के लिए घरेलू स्रोत पर अधिक निर्भरता हासिल करना.

4. 2030 तक 450 गीगावाट बिजली अक्षय ऊर्जा से हासिल करना.

5. हाइड्रोजन समेत नए उभरते हुए ईंधन की तरफ कदम बढ़ाना.

6. सभी प्रकार के एनर्जी सिस्टम में डिजिटल इनोवेशन को बढ़ावा देना.

7. कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए बिजली का योगदान बढ़ाना.

ये भी पढ़ें- आम आदमी को लगेगा झटका! पेट्रोल-डीज़ल पर 6 रुपये तक बढ़ सकती है एक्साइज ड्यूटी, होगा सीधा असर

मुकेश अंबानी,अनिल अग्रवाल समेत ये दिग्‍गज हुए शामिल
पीएम मोदी ने क्रूड ऑयल की कीमत को ज्‍यादा पारदर्शी और लचीला किए जाने पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि लंबे समय से क्रूड ऑयल के दाम में बड़ा उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है. इस कार्यक्रम में अडनोक (ADNOC) के सीईओ व इंडस्ट्री एंड एडवांस्ड टेक्नोलॉजी मंत्री सुल्तान अहमद अल जबेर, कतर के ऊर्जा मंत्री व कतर पेट्रोलियम के प्रेसिडेंट साद शेरीदा अल काबी, ओपेक सेक्रेटरी जनरल मोहम्मद सनुसी बार्किंडो, रोजनेफ्ट के चेयरमैन व सीईओ डॉ. इगोर सेचिन, बीपी लिमिटेड के सीईओ बर्नार्ड लूनी, टोटल एस के चेयरमैन व सीईओ पैट्रिक पॉयनने, वेदांता रिसोर्सेज के चेयरमैन अनिल अग्रवाल, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन मुकेश अंबानी, इंटरनेशनल एनर्जी एजेंसी ईडी के डॉ. फातिहा बिरौल, इंटरनेशनल एनर्जी फोरम के सेक्रेटरी जनरल जोसेफ मैक मोनिगल समेत दुनिया की कई बड़ी हस्तियां कार्यक्रम में शामिल हुईं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज