Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    पीएम नरेंद्र मोदी 13 नवंबर को देश को सौंपेंगे 2 आयुर्वेद संस्थान, रिसर्च पर रहेगा जोर

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी धनवंतरी जयंती पर देश को दो नए आयुर्वेद सस्‍थान सौंपेंगे.
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी धनवंतरी जयंती पर देश को दो नए आयुर्वेद सस्‍थान सौंपेंगे.

    जयपुर और जामनगर में बने इन दोनों आयुर्वेद संस्थानों में आधुनिक आयुर्वेद (Modern Ayurveda) के साथ ही पारंपरिक दवाइयों का भी अध्ययन किया जाएगा. आयुर्वेद शिक्षा के स्‍टैंडर्ड को अपग्रेड करने के लिए इन संस्थानों को स्वायत्तता दी जाएगी. कोविड-19 महामारी (COVID-19 Pandemic) के प्रबंधन में आयुर्वेद की बड़ी भूमिका साबित हो रही है. इसलिए इस साल इसकी अहमियत पहले के मुकाबले काफी बढ़ गई है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 11, 2020, 6:18 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) धनवंतरी जयंती के मौके पर देश को दो संस्थान सौंपने जा रहे हैं. वह 13 नवंबर को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये जामनगर के इंस्टिट्यूट ऑफ टीचिंग एंड रिसर्च इन आयुर्वेद और जयपुर के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद का उद्घाटन करेंगे. उम्मीद है कि 21 वीं शताब्दी में आयुर्वेद के विकास में ये दोनों संस्थान (Ayurveda Institutions) वैश्विक भूमिका निभाएंगे. इन संस्थानों में आधुनिक आयुर्वेद (Modern Ayurveda) के साथ ही पारंपरिक दवाइयों का भी अध्ययन किया जाएगा. आयुर्वेद शिक्षा के स्‍टैंडर्ड को अपग्रेड करने में इन संस्थानों को स्वायत्तता दी जाएगी.

    2016 से मनाई जा रही है धनवंतरी जयंती
    राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मांग के मुताबिक ये संस्थान समय-समय पर नए कोर्स (New Courses) शुरू कर सकेंगे. यही नहीं, इन संस्थानों में रिसर्च (Research) पर विशेष जोर दिया जाएगा. साल 2016 से धनवंतरी जयंती को आयुर्वेद दिवस के रूप में हर साल मनाया जाता है. इस साल यह दिवस 13 नवंबर को मनाया जाना है. इस क्षेत्र से जुड़े पेशेवर और आम जनता इस दिन को एक उत्सव के तौर पर मानती है. कोविड-19 महामारी (COVID-19 Pandemic) के प्रबंधन में आयुर्वेद की बड़ी भूमिका साबित हो रही है. इसलिए इस साल इसकी अहमियत पहले के मुकाबले काफी बढ़ गई है.

    ये भी पढ़ें- ICICI बैंक की शानदार पहल! आपकी किराना दुकान 30 मिनट में बन जाएगी ऑनलाइन स्‍टोर, ऐसे करें अप्‍लाई




    आयुष प्रणाली है प्राथमिकता में शामिल
    आयुष प्रणाली की भूमिका 21वीं सदी में बढ़ती स्वास्थ्य संबंधी चुनौतियों के बीच काफी बढ़ गई है. केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) ने आम जनता के सामने पेश आने वाली स्वास्थ्य से जुड़ी चुनौतियों (Health Issues) को देखते हुए इसे एक प्रभावकारी और किफायती समाधान के रूप में प्राथमिकता देती है. यही नहीं केंद्र सरकार ने आयुष शिक्षा के आधुनिकीकरण पर भी काफी जोर दिया है. यही कारण है कि पिछले 3 से 4 साल में मोदी सरकार इस क्षेत्र में लगातार काम कर रही है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज