अपना शहर चुनें

States

खुशखबरी! सरकार का नया प्लान, 125 शहरों के PM स्वनिधि योजना से जुड़े स्ट्रीट वेंडर्स के परिवारों को मिलेंगे अन्य लाभ

125 शहरों के स्ट्रीट वेंडर्स के परिवारों को मिलेगा लाभ
125 शहरों के स्ट्रीट वेंडर्स के परिवारों को मिलेगा लाभ

रेहड़ी पटरी वालों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना में आवेदकों को लाभ देने के लिए सरकार ने एक नया प्लान तैयार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2020, 8:31 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. रेहड़ी पटरी वाले दुकानदारों को छोटा कर्ज उपलब्ध कराने के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना (PM SVANidhi Scheme) यानी स्ट्रीट वेंडर्स (Street Vendors) आत्मनिर्भर निधि से जुड़े परिवारों को अन्य केंद्रीय कल्याणकारी योजनाओं के लाभ भी दिए जाएंगे. लाभार्थियों और उनके परिवार के सदस्यों की एक पूरी प्रोफाइल तैयार की जाएगी और डेटा के आधार पर विभिन्न केंद्रीय योजनाओं के लाभ भी उन्हें दी जाएगी. इस योजना के तहत रेहड़ी-पटरी, ठेले या सड़क किनारे दुकान चलाने वालों को मदद के लिए 10 हजार रुपये तक का लोन उपलब्ध कराया जाता है.

इन शहरों में की कार्यक्रम की शुरुआत
केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ( Durga Shanker Mishra) ने शुक्रवार को पीएम स्वनिधि से जुड़े परिवारों को केंद्र सरकार की सामाजिक आर्थिक योजना का लाभ देने के लिए एक कार्यक्रम की शुरुआत की. यह कार्यक्रम अभी प्रायोगिक तौर पर बिहार के गया, मध्य प्रदेश के इंदौर, तेलंगाना के निजामाबाद, गुजरात के राजकोट, उत्तर प्रदेश के वाराणसी और मणिपुर के काकचिंग में शुरू की गई है.

ये भी पढ़ें : मिलावटी शहद पर एक्शन में आई सरकार! चीनी मिलाने वाले बड़े ब्रांडों पर होगी अब सख्त कार्रवाई
125 शहरों का किया चयन


इस कार्यक्रम के पहले चरण में 125 शहरों का चयन किया गया है. इसके लिए भारतीय गुणवत्ता परिषद को भागीदारी एजेंसी बनाया गया है. कार्यक्रम का शुभारंभ शुक्रवार को आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने दिल्ली में किया. इस योजना की घोषणा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मई में की थी, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि स्ट्रीट वेंडर्स, जिनकी आजीविका लॉकडाउन से प्रभावित हैं वह अपना काम फिर से शुरू कर सके.

Swiggy जोड़ेगा 36,000 रेहड़ी पटरी वालों को
ऑनलाइन खाना मंगाने की सर्विस देने वाले स्विगी ने सरकार की इस योजना से जुड़े रेहड़ी पटरी वालो को अपने मंच से जोड़ने का ऐलान किया. स्विगी ने एक बयान में कहा कि पहले चरण के तहत कंपनी 36,000 रेहड़ी-पटरी वालों को जोड़ेगी. इसके लिए स्विगी ने आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के साथ अहमदाबाद, वाराणसी, चेन्नई, दिल्ली और इंदौर में एक पायलट परियोजना लागू की थी, जिसके तहत 300 से अधिक रेहड़ी-पटरी वाले पहले ही उसके मंच से जु़ड़ गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज